ध्वनि भानुशाली ने वंचितों के लिए कोविड आइसोलेशन सेंटर के शुभारंभ में भाग लिया

1 min


कब: बुधवार, 7 जुलाई 2021

कहाँ: मुंबई यूनिवर्सिटी, कलिना

इंस्टाग्राम: @ashiahopeforlif

वेबसाइट: http://ashiahopeforlife.org/

डोनेशन के लिए लिंक: https://www.ketto.org/fundraiser/covid-isolation-centre-in-mumbai-for-under-privileged-citizens

मुंबई की कलिना यूनिवर्सिटी जल्द ही शहर के सबसे हाइजीनिक, प्रोफेशनली मैनेज्ड और निःशुल्क कोविड केयर आइसोलेशन सेंटर, ‘इंटरनेशनल स्टूडेंट्स होस्टल आइसोलेशन सेंटर’, (अंडर-प्रिविलेज्ड के लिए) आशिया- होप फॉर लाइफ फाउंडेशन द्वारा एमसीजीएम के सहयोग से सेट किया गया है। मुंबई की माननीय मेयर श्रीमती किशोरी पेडनेकर, मुंबई के पूर्व महापौर श्री विश्वनाथ महादेश्वर, श्रीमती अलका सासाने, युथ आइकन और पॉप स्टार ध्वनि भानुशाली, असिस्टेंट कमिश्नर, एमसीजीएम- एच/ईस्ट वार्ड, 50 यंग की को-फाउंडर श्रीमती अनीता गुरनानी, और आशिया- होप फॉर लाइफ फाउंडेशन की को-फाउंडर सुश्री अपर्णा शाह ने विशिष्ट अतिथि के रूप में आज इस सुविधा का शुभारंभ किया गया।

140 बेड वाले इस सेंटर के अंतर्गत हल्के या मध्यम लक्षणों वाले कोविड पॉजिटिव पेशेंट्स का नि:शुल्क ट्रीटमेंट किया जाएगा, जो अंडर-प्रिविलेज्ड हैं और जिनके पास अपने घर पर खुद को आइसोलेट करने का कोई साधन नहीं है। इसमें ट्विन बेड के साथ 70 कमरे हैं और प्रत्येक कमरे में एक प्राइवेट बाथरूम है, जो इसे बुजुर्ग तथा बच्चे, दोनों ही तरह के पेशेंट्स के लिए उपयुक्त बनाता है। किसी भी पेशेंट की तबीयत खराब होने पर सेंटर पूरी तरह से डॉक्टर्स तथा नर्सेस के साथ-साथ ऑक्सीजन सिलेंडर, एम्बुलेंस तथा मेडिकल स्टाफ से लैस होगा।

वर्ष 2021 ने इस तथ्य को उजागर किया है कि लम्बे समय से अंडर प्रिविलेज्ड पॉप्युलेशन (वंचित आबादी) का एक बड़ा वर्ग उचित मेडिकल सुविधा प्राप्त करने या खुद को आइसोलेट करने के उचित साधनों के लिए संघर्ष कर रहा था। कोविड-19 की कठोर वास्तविकता और अधिक तेजी से फैल रही है, जिसने आशिया- होप फॉर लाइफ फाउंडेशन की फाउंडर, सुश्री अपर्णा शाह को एमसीजीएम के साथ मिलकर काम करने और अंडर प्रिविलेज्ड सिटीज़न्स के लिए प्रोफेशनली मैनेज्ड कोविड केयर आइसोलेशन सेंटर की शुरुआत करने के लिए प्रोत्साहित किया।

आशिया- होप फॉर लाइफ फाउंडेशन की को-फाउंडर, सुश्री अपर्णा शाह एक योग्य सीए और कॉमर्स ग्रेजुएट हैं। सिटीबैंक के साथ 12 वर्ष के सफल कार्यकाल के बाद, उन्होंने ब्रॉडकास्टिंग इंडस्ट्री की तरफ रुख कर लिया और एक भोजपुरी क्षेत्रीय चैनल- भोजपुरी धमाका डिशूम संचालित कर रही हैं। वे ट्रांसपेरेंसी, म्युचुअल ट्रस्ट और वैल्यू एडिशन के माध्यम से पार्टनर्स के साथ लॉन्ग टर्म रिलेशनशिप्स बनाने में विश्वास करती हैं। वे सामाजिक परिवर्तन की दिशा में काम करने के लिए भावुक हैं- विशेष रूप से महिला सशक्तिकरण और रोजगार सृजन की दिशा में।

इंटरनेशनल स्टूडेंट्स होस्टल आइसोलेशन सेंटर के उद्घाटन पर बात करते हुए अपर्णा कहती हैं, “बहुत से अंडर प्रिविलेज्ड कोविड पॉजिटिव सिटीज़न्स के गवर्नमेंट आइसोलेशन सेंटर्स में आइसोलेट होने के रिज़र्वेशन कराते हैं। स्थिति यह भी बनती है कि या तो वे टेस्ट ही नहीं कराते हैं या घर पर ही रहते हैं, जो उनके परिवार के सदस्यों और पड़ोसियों के लिए खतरा साबित होता है। इसके अलावा, यह भी हो सकता है कि उनके पास स्वस्थ भोजन और उचित दवा की व्यवस्था करने का साधन न हो। हम इस आइसोलेशन सेंटर के बारे में सभी को जागरूक और इसका प्रचार करना चाहते हैं, ताकि वे आइसोलेशन सेंटर में रहने से न डरें। हम उन्हें विश्वास दिलाना चाहते हैं कि एमसीजीएम के सहयोग से आशिया टीम द्वारा उनकी अच्छी तरह से देखभाल की जाएगी।”

पॉप आइकन ध्वनि भानुशाली भी कोविड पेशेंट्स की मदद करने में सबसे आगे रही हैं और जब कोविड रिलीफ की बात आती है, तो वे अपनी ओर से नेक कार्य करने में कभी पीछे नहीं रहती हैं। वे हमेशा युवा पीढ़ी के लिए एक युवा आइकन और रोल मॉडल के रूप में जानी जाती हैं। म्यूजिक के क्षेत्र में उनका टैलेंट अद्वितीय है और उन्होंने अतीत में युवाओं के लिए आइडियल सिटीज़न होने के लिए कई उदाहरण स्थापित किए हैं। कोविड पेशेंट्स की मदद करने के प्रयास पर बात करते हुए ध्वनि कहती हैं, “महामारी ने निश्चित रूप से देश-दुनिया को प्रभावित किया है। लेकिन जो लोग वंचित हैं और बुनियादी सुविधाओं का खर्च नहीं उठा सकते हैं, वे सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं। जब अपर्णा और विशाल ने अपने फाउंडेशन में मेरे समर्थन के लिए मुझसे संपर्क किया, तो मैंने महसूस किया कि यह कुछ ऐसा है, जिससे वास्तव में बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा और मैं इसका हिस्सा बनना चाहती हूँ।”

इंटरनेशनल स्टूडेंट्स होस्टल आइसोलेशन सेंटर के अलावा, आशिया- होप फॉर लाइफ फाउंडेशन के फाउंडर्स ने 2020 में “किचन फॉर ऑल” नामक एक प्रोजेक्ट भी शुरू किया था। फाउंडर्स उन जरूरतमंद लोगों की सहायता की, जिनके पास भोजन और आवश्यक वस्तुएँ नहीं थी। इसलिए उन्होंने झुग्गी-झोपड़ी क्षेत्रों में पका हुआ भोजन उपलब्ध कराने का फैसला किया और हमारे साथी प्रवासी नागरिकों को आवश्यक किट भी वितरित किए, जो अपने होमटाउन जा रहे थे। लगभग 5 महीनों तक, उन्होंने बांद्रा/सांताक्रूज़ ई क्षेत्रों के आसपास के ज़रूरतमंद लोगों को हर दिन 3,000 लोगों को पका हुआ भोजन उपलब्ध कराया।

एमसीजीएम के सहयोग से आशिया- होप फॉर लाइफ फाउंडेशन द्वारा स्थापित इंटरनेशनल स्टूडेंट्स होस्टल आइसोलेशन सेंटर शुक्रवार, 9 जुलाई, 2021 से जनता के लिए शुरू हो जाएगा।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये