फिल्म ‘जी चाहता है’ ‘गणेश कुमार’ ने दी कई कुर्बानियां

1 min


सिनेमा एक ऐसा नशा है जिसके लिये लोग बाग घर बार जमीन जायदाद यहां तक अपनी जिन्दगी तक दांव पर लगा देते हैं । गणेश कुमार एक ऐसे ही शख्स हैं जो बेसिकली गायक संगीतकार है लेकिन उनका सपना एक रोमांटिक फिल्म बनाने का था । एक दिन उन्होंने कुछ लोगों के साथ फिल्म शुरू की और फिल्म को नाम दिया ‘जी चाहता है’। लेकिन फिल्म के बीच में ही उनके सहयोगी भाग खड़े हुए । बावजूद इसके गणेश कुमार ने हार न मानते हुए बिलासपुर में अपनी पैतृक सम्पत्ति में चार बंगले और लग्जरी कार तक बेच डाली और किसी तरह फिल्म कंपलीट कर ली । ये फिल्म दे फरवरी को रिलीज होने जा रही है । गणेश कुमार की इस फिल्म की जानकारी इस प्रकार है ।

IMG-20150120-WA0003

संगीत, रोमांच, ट्रेजिडी, आंसू और मुस्कान। ये वो पहलू हैं जो जि़ंदगी का आधार हैं। इन पहलुओं को हर इंसान अपने अंदाज़ में लेता और जीता है। किसी की लाइफ में ट्रेजिडी है, तो कोई खुशी और गम के बीच झूलता रहता है। इसी तरह संगीत और मुस्कान की भी अपनी एक अलग ताकत है, जो पोजि़टिव एनर्जी देती है। ये बातें हम इसलिए कह रहे हैं कि जी के एंटरटेन्मेंट के बैनर तले निर्माता-निर्देशक गणेश कुमार की फिल्म ‘जी चाहता है’ में दर्शकों को इन सभी का मिक्सचर देखने को मिलेगा। फिल्म रोमांटिक-म्यूजि़कल जरूर है लेकिन रोमानी जोड़ों को यह एक मैसेज भी देती है कि प्यार करने वालों को ऐसी मनोदशा से बचना चाहिए, जब बिखराव या अलगाव की नौबत आए। हर इंसान को प्यार मिलता है लेकिन कई बार परिस्थितियां ऐसी बन जाती हैं कि लोग प्यार में विफल हो जाते हैं। ‘जी चाहता है’ छत्तीसगढ़ के दो सभ्रांत परिवारों की कहानी है जिसमें दिखाया गया है कि किस तरह युवा पीढ़ी प्यार में विफल होकर हताशा की चपेट में आ जाती है और तब ऐसे लोग शराब, हीरोइन आदि नशीली चीजों का सेवन करने लगते हैं। कई बार तो आत्महत्या की स्थिति भी आ जाती है लेकिन ऐसे हालातों से जूझना एक तरह से जि़ंदगी के साथ खिलवाड़ करना है और गणेश कुमार नहीं चाहते कि देश की उर्जावान पीढ़ी प्यार में तकरार होने पर अपने शरीर का सत्यानाश कर ले।

वे एक मैसेज देना चाहते हैं कि दिल टूटे तो कोई बात नहीं, दिलों को जोड़ने वाले और भी कई मिल जाएंगे पर ऐसी हसीन जिंदगी नहीं मिल पाएगी। यकीनन, इस तरह के सेंसेटिव सब्जेक्ट में म्यूजि़क का अहम रोल होता है और इस मामले में निर्माता-निर्देशक ने कोई कमी नहीं छोड़ी है। आश्चर्य की बात तो ये है कि गणेश कुमार ने न सिर्फ फिल्म की कहानी, संवाद और पटकथा लिखी है, बल्कि गीत व संगीत भी उन्हीं का है।

इसे वन मैन शो भी कह सकते हैं। गणेश कुमार कहते हैं कि बचपन से ही मैंने तय कर लिया था कि मेरी मंजि़ल मुंबई है और मुझे दर्शकों को अच्छी म्यूजि़कल फिल्में देनी हैं। मैंने बाकायदा संगीत सीखा है। 1999 में बिलासपुर से मुंबई आया। फिल्म निर्माण के दौरान कुछ कड़वे अनुभव हुए, लेकिन मनोबल नहीं तोड़ा। इसके लिये मैने अपना घरबार तक बेच डाला। आज ‘जी चाहता है’ दर्शकों के सामने है जिसमें नायक तरूण आनंद और नायिका प्रियंका बर्मन हैं। प्रियंका की यह पहली फिल्म है, जो कोलकाता से एक साल पहले आई हैं। मेरी फिल्म के इस रोमानी जोड़े में गज़ब का स्पार्क है। फिल्म में हमने एक टेनिक प्लेयर को भी लिया है, जो स्पेन में रहता है। कद-काठी और खूबसूरती में वह किसी मॉडल व अभिनेता से कम नहीं। बड़े बैनर्स, बड़ी स्टारकास्ट और बड़े बजट की


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये