दीवाली पॉजिटिव एनर्जी का त्यौहार है, इसे पॉजिटिव तरीके से ही मनाना चाहिए- अक्षय कुमार

1 min


Akshay-kumar.gif?fit=1200%2C768&ssl=1

अक्षय कुमार:— बचपन में दीपावली त्यौहार का बेसब्री से इंतजार करने के पीछे एक महत्वपूर्ण कारण था कि हमारे स्कूल में दिवाली पर सबसे ज्यादा लंबी छुट्टी मिलती थी और मैं उन्ही छुट्टियों का बेसब्री से इंतजार किया करता था। सभी बच्चों की तरह मुझे भी पटाखे फोड़ने में बहुत मजा आता था। हमें दीपावली की तैयारियों के लिए पॉकेट मनी मिलती थी। उससे हम ढेर सारे पटाखे खरीदते थे लेकिन जब पैसे खत्म हो जाते और पटाखे भी जलकर खत्म हो जाते तो हम जले पटाखों के ढेर में से वो पटाखे खोजने की मुहिम में लग जाते जो नहीं जली। दीपावली की एक और एंजॉयमेंट थी मिठाईयां। घर की बनी मिठाइयों के साथ साथ बाजार से लाई मिठाइयों का आनंद हम खूब लूटते थे। अब वो जमाना ना रहा, हम एहतियात से मिठाइयाँ खाते हैं, आज हम लोग और हमारे बच्चे बंद माहौल में दिवाली मनाते हैं। जब हम बच्चे थे तो हम खुली सड़कों पर भागदौड़ करते हुए दीपावली का आनंद उठाते थे। यही वजह है कि कई बार दिवाली के मौके पर मैं फैमिली के साथ भीड़भाड़ से बहुत दूर निकल जाता हूं। कभी गोवा, कभी मनाली ताकि जी भर के खुले आसमान के नीचे त्यौहार का लुत्फ उठा सकूं। एक बार केपटाउन में दीवाली मनाई थी बच्चों के साथ, लेकिन सच कहूं तो अपने देश, अपने शहर, अपने घर में, दोस्तों रिश्तेदारों के साथ दिवाली मनाने का आनंद ही कुछ और है। हां मैं दीवाली की रात थोड़ा बहुत कार्ड खेलता हूं और इस गेम में मैं काफी माहिर भी हूं। दीपावली आनंद का त्यौहार है, पॉजिटिव एनर्जी का त्यौहार है, इसे पॉजिटिव तरीके से ही मनाना चाहिए। वक्त बदल गया है, बहुत पॉल्युशन बढ़ जाने की वजह से तथा अपने को खतरों से बचाने की सोच पुख्ता होने से हमे पटाखों से बचना चाहिये। आप सबको दीपावली की ढेर सारी बधाईयाँ।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram पर जा सकते हैं.

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये