क्या आप जानते है कि 25 दिसंबर को ही क्यों मनाते है Christmas Day?

1 min


Christmas Day

25 दिसंबर यानि की आज के दिन पूरी दुनिया क्रिसमस डे(Christmas Day) के तौर पर मनाते है. लोग पार्टी करते हैं. घुमने जाते है. एक दूसरे को गिफ्ट देते है. केक खाते हैं. लेकिन क्या आप जानते है कि क्रिसमस डे(Christmas Day) 25 दिसंबर को क्यों मनाते हैं? या फिर सैंटा क्लॉस की कहानी कहा से शुरू हुई?

तो चलिए आपको बताते है क्रिसमस डे (Christmas Day) से जुड़ी कुछ खास बातें.

क्रिसमस डे(Christmas Day) 25 दिसंबर को जीसस क्रिस्ट के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है. उनके नाम क्रिस्ट से ही क्रिसमस नाम पड़ा है, लेकिन बाइबल में जीसस क्रास्ट के बर्थ डेट दी ही नहीं गई है तो फिर क्यों 25 दिसंबर को ही हर साल क्रिसमस मनाया जाता है.

क्रिसमस डे के तारीख को लेकर कई बार विवाद भी हो चुका है. लेकिन 336ई. पूर्व में रोमन के पहले ईसाई रोमन सम्राट के समय से सबसे पहले क्रिसमस 25 दिसंबर को मनाया गया था. इसके बाद पोप जूलियस ने आधिकारिक तौर पर क्रिसमस 25 दिसंबर को ही मनाने का एलान किया गया.

तो इस तरह 25 दिसंबर से सभी जगह क्रिसमस डे(Christmas Day) मनाना शुरू किया गया. अब बात करते हैं सैंटा क्लॉस की कहानियों की. तो चलिए आपको बताते है कि सैंटा के पीछे की कहानी.

कहानियों के अनुसार चौथी शताब्दी में एशिया माइनर की एक जगह है मायरा, जहां सेंट निकोलस नाम का एक शख्स रहता था. वह बहुत अमीर था. उसके माता-पिता के देहांत हो चुका था. वो हमेशा छुपकर गरीबों की मदद करता था.

निकोलस लोगों को सीक्रेट गिफ्ट देकर लोगों को खुश करता था. एक दिन उनको पता चला कि एक गरीब आदमी की तीन बेटियां है. उन्की शादी के लिए उसके पास पैसे नहीं है. निकोलस ने उस व्यक्ति की मदद करने के लिए पहुंचे. उन्होंने एक रात उस आदमी की घर की छत पर टंगी एक मोजा में सोने से भरा बैग डाल दिया.

इसके बाद से मोजा में गिफ्ट देने का रिवाज आगे बढ़ता चला गया.

 


Like it? Share with your friends!

Pragati Raj

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये