Browsing Category

एडिटर्स पिक

पर्दे से गायब होते जा रहे हैं कृष्ण कान्हा रे कान्हा…!

पौराणिक कथाओं के पसंदीदा चरित्र हैं कृष्ण! कृष्ण हमारी दिन-प्रतिदिन की जिन्दगी के नायक हैं। जब भी न्यायालय की बात होती है कसम ‘गीता’ की ही खाई जाती है। और तो और, जब कश्मीर पर सरकार 370/35ए हटाने के लिए काम करती है तब सोशल मीडिया पर…
Read More...

कश्मीर-दिवस, ईद, 15 अगस्त और रक्षा-बंधन… बधाई हो देश वासियों!! बधाई हो पाठकों!

सचमुच पखवाड़ा हर्षोल्लास का है। पूरे देश में इन दिनों राष्ट्रीयता का जोश है। हिन्दू-मुस्लिम त्योहार (ईद और रक्षाबंधन) एक साथ आ गये हैं। देश की सबसे बड़ी समस्या (कश्मीर से आर्टिकल 370 और 35 ए) का निदान निकल गया है तथा देश का सबसे बड़ा पर्व…
Read More...

नया कश्मीर: ‘‘ ये वादियां ये फिज़ाएं बुला रही हैं तुम्हें…!’’

श्री पीएम मोदी जी की फिल्ममेकर्स से अपील कश्मीर के पुनर्गठन के बाद बाॅलीवुड में हलचल है। तमाम फिल्म - निर्माताओं में जोश भर गया है, कि वे वापस जाकर कश्मीर की वादियों में पहले जैसे फिल्मों के गाने पिक्चराइज करें। एक कश्मीरी फिल्म निर्माता…
Read More...

क्या ऑन लाइन-डिजिटल-सिनेमा ताला लगवायेगा थिएटरों पर ?

छत्रपति शिवाजी राजे कॉम्प्लेक्स की कालोनी में करीब साढ़े तीन हजार फ्लैट्स हैं, जिसमें तकरीबन दस हजार लोग रहते हैं। एक स्थानीय संस्था ने सर्वे किया तो पता चला बॉलीवुड के बहुतायत लोग इस कालोनी में रहते हैं। लेकिन, सर्वे की दूसरी रिपोर्ट…
Read More...

वैज्ञानिक ‘चंद्रयान’ पर जा रहे हैं तो,  बॉलीवुड वाले ‘मंगलयान’ पर !

सचमुच, कहावत है तुम डाल-डाल तो मैं पात-पात! जीवन और सिनेमा साथ-साथ चलते हैं, एक बार फिर यह कहावत चरितार्थ हो रही हैं वैज्ञानिकों (इसरो) ने ‘चंद्रयान-2’ लॉन्च किया है जो चंद्रमा पर संभवतः 7 सितम्बर को उतरेगा, इसी के समान्तर बॉलीवुड की एक…
Read More...

सावधान… कोई आपका चेहरा चुरा रहा है!

‘टिक टॉक’ ऐप का देशद्रोही रूप सामने आ चुका है और सरकार ने 24 सवालों का जवाब मांगकर इस ऐप को प्रतिबंधित करने की घेराबंदी कर दी है। पर यह क्या, एक नया बखेड़ा लेकर नेट पर सामने आ गया थ्ंबम ।चच... अब, बताने की जरूरत नहीं है कि इन दिनों किस तरह…
Read More...

कुछ कहानियां दर्शकों बड़े प्यार से गुदगुदाती हैं… ‘‘झूठा कहीं का’’

जब भी किसी प्रेम प्रसंग में पाया जाता है कि लड़का या लड़की में से कोई अपने पार्टनर को झूठ बोल रहा है, एक ट्विस्ट सामने स्वतः आ जाता है और दर्शकों में एक प्यार भरी गुदगुदी का एहसास होता है। और तब, दर्शक कह उठता है- ‘झूठा कहीं का!’ ऐसे ही…
Read More...

क्या टीवी या फिल्म का पर्दा किताबों से पढ़ाई करने का विकल्प बन सकता है?

यह एक बौद्धिक विषय है जो शिक्षा-शास्त्रियों के मन में उठा है। गत दिनों सीबीएसई की दसवीं बोर्ड परीक्षा-परिणाम ने छात्रों की याचिका के रूप में यह सवाल उठाया है। छात्रों से पूछा गया था ऑप्शनल-विकल्प ‘टीवी और किताब’ को लेकर। कौन किसका विकल्प…
Read More...

‘कबीर सिंह’ के प्यार की पराकाष्ठा कहां ले जाएगी यूथ को?

नारी-सम्मान पर कई बार प्रश्नवाचक चिन्ह छोड़ती हालिया रिलीज फिल्म ‘कबीर सिंह’ ने निर्माता कंपनी की जेब जरूर गरम कर दी है, पर अपने पीछे सवाल छोड़ रही है कि ‘यूथ’ को जिनके लिए यह फिल्म बनी है। उनको क्या शिक्षा दे रही है? शाहिद कपूर-कियारा आडवाणी…
Read More...

बॉलीवुड-फिल्मों की भाषा ही देश की भाषा है…

इस समय एक बार फिर देश में भाषा का मुद्दा मुखर हो रहा है। कमल हासन ने दक्षिण में ‘हिन्दी’ के प्रवेश पर एतराज जताया है। बंगाल में वहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने घोषणा की है कि बंगाल में रहने वालों को ‘बांग्ला’ आना जरूरी है। बहुत समय से…
Read More...