default

मेरे पूज्य बाबूजी (डॉ.हरिवंशराय बच्चन) सदी के महानायक है, मैं नहीं: अमिताभ बच्चन

| 27-11-2021 05:30 AM 3

- अली पीटर जॉनसाठ के दशक में एक छोटा लड़का अपने प्रसिद्ध पिता डॉ.हरिवंशराय बच्चन के साथ आया। जो एक जाने-माने हिंदी कवि थे जिनके साथ वह छोटा बच्चा उन सभी कवि सम्मलेन और मुशायरे में गया, जिनमें उनके पिता बहुत लोकप्रिय थे और वह छोटा लड़का उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों और अन्य राज्यों में भी गया जहाँ हिंदी एक जानी मानी पत्रिका थी और इसकी बहुत माँग भी थी। वह छोटा लड़का अमिताभ बच्चन था।अपने पिता के लगातार संपर्क में रहने के कारण अमिताभ को यह जानने का मौका मिला कि उनके पिता कितने लोकप्रिय थे और हिंदी कविता के प्रेमी किस तरह तालियों के साथ उनका स्वागत करते थे और हर बार जब उन्होंने अपनी कविताओं का पाठ किया, तो उन्होंने उन्हें अपनी कविताओं के कलेक्शन में सबसे लोकप्रिय कविता, 'मधुशाला' भी सुनाई थी।युवा अमिताभ ने अपने पिता द्वारा लिखी गई हर कविता को पढ़ने का मन बनाया और धीरे-धीरे अपने पिता की कविताओं को याद करने की कला में महारत हासिल कर ली। उन्होंने कलकत्ता में ‘बर्ड एंड कंपनी’ में नौकरी की, लेकिन उन्होंने अपने पिता की कविता, यहां तक कि उनके नवीनतम कार्यों के साथ कभी भी संपर्क नहीं खोया था।अमिताभ तब एक अभिनेता के रूप में अपनी किस्मत आजमाने के लिए मुंबई आए और शुरुआती असफलताओं और अपमान के बाद देश के सुपरस्टार बन गए लेकिन उनके पिता हमेशा उनके लिए एक सुपरस्टार थे और उन्होंने हर मौके पर अपने पिता की कविताओं को सुनाने का एक पॉइंट बनाया था। अपने पिता के बारे में बात करते हुए, अमिताभ ने एक बार कहा था, “मैं कोई स्टार या सुपरस्टार नहीं हूं। मैंने अपने पिता के स्टारडम को एक कवि के रूप में देखा है और मैं उनकी तुलना किसी भी तरह से नहीं कर सकता।मैं कुछ समय के लिए स्टार या सुपरस्टार हो सकता हूं, लेकिन मेरे पिता मेरे लिए हर समय के सुपरस्टार रहेंगे।”उन्होंने अपने घर में 'प्रतीक्षा' में एक प्रमुख कार्नर बनने के लिए विशेष व्यवस्था की थी जहाँ उनके पास एक विशेष रूप से डिज़ाइन किया गया रैक था जो केवल उनके पिता की पुस्तकों से भरा था और उनके पास हर किताब के पन्नों के किनारे सोने के थे और उनके पूरे कलेक्शन को 'बच्चननामा' नाम दिया गया था।अमिताभ ने यह देखने के लिए एक पॉइंट बनाया था कि वे अपने पिता की कविताओं को कुछ सार्थक फिल्मों में कैसे समायोजित कर सकते हैं और 'अग्निपथ' और 'मैं आज़ाद हूँ' जैसी फिल्मों में उनके पिता की करीब दो कविताएँ थीअमिताभ ने अपने पिता की कविताओं को दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में जाना, जब उन्होंने समय निकाला और फ्रांस, अमेरिका और यहां तक कि खाड़ी के कुछ देशों में उन विशेष कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के लिए फ्लाइट ली जो उनके पिता के सम्मान में अरेंज्ड की गई थी।78 साल की उम्र में, अमिताभ अपने पिता के सबसे बड़े प्रशंसक हैं, जिनके बारे में वे कहते हैं, “वह अपने समय से बहुत आगे के कवि थे और उनकी हर कविता आज भी प्रासंगिक है और हमेशा रहेगी। मैं कई अन्य लीजेंडस की प्रशंसा कर सकता हूं लेकिन कोई भी ऐसा नहीं है जिसे मैं अपने पिता की तुलना कर सकता हूं।”अमिताभ को अपने पिता से कुछ गुण भी विरासत में मिले हैं, खासकर उनके दृढ़ संकल्प और इच्छा शक्ति और समय के प्रति सम्मान के गुण। उन्होंने एक बार मुझे अपने पिता के दृढ़ संकल्प (डिटर्मनेशन) के बारे में एक कहानी भी सुनाई थी। वह रोज सुबह टहलने जाया करते थे। उन्होंने एक बार रास्ते में एक बड़ा बोल्डर देखा और उसे घर ले जाने का फैसला किया। वह ऐसा कुछ करने की कल्पना तक करने के लिए बहुत कमजोर थे, लेकिन उनके दृढ़ संकल्प ने उन्हें एक रास्ता दिखाया।उन्होंने बिना किसी को बताए हर सुबह उस बोल्डर को थोड़ा धक्का दिया और उनके इस प्रयोग के दिनों के बाद और उनकी कभी भी न मरने वाली आत्मा सफल हो गई और उनके परिवार को उस एक सुबह सरप्राइज मिला जब उन्होंने उस बोल्डर को अपने दरवाजे के ठीक बाहर देखा। अमिताभ में भी ऐसा ही दृढ़ संकल्प है और मुझे ब्रीच कैंडी अस्पताल में डॉक्टरों में से एक की बात याद है जो 1982 में उनके साथ हुए घातक एक्सीडेंट के बाद उनका इलाज कर रहे थे ने कहा था की अमिताभ को मिले उपचार के कारण अमिताभ नहीं बचे थे, बल्कि उनके मौत से लड़ने के संकल्प के कारण वह मौत के मुह से बहार आए थे। हर बेटा अगर अपने बाबूजी के बारे में सोचता, तो दुनिया कितनी अच्छी होती।