मोहब्बत में सभी कुछ  जायज है!-अनिल कपूर

1 min


Anil Kapoor

अनिल कपूर ऐसे कलाकार है जिन्हें फिल्म वालों ने कभी प्रोत्साहित नहीं किया, निर्माता के बेटे होने पर भी किसी ने नहीं सोचा कि इस लड़के अनिल कपूर को भी किसी बात का अनुभव हो सकता है। 

यह लेख दिनांक 6-11-1988 मायापुरी के पुराने अंक 737 से लिया गया है!

चंदा शेट्टी

लोगो की बातों को वो हवा में उड़ाने लगे

Anil Kapoor

इण्डस्ट्री के माने हुए निर्मातानिर्देशक ने जब संजय दत्त को निकालबाहर करके नए लड़के को लेने की ठानी तो उन्हें भी वो लड़का जहन में नहीं आया जोरोज उनके ऑफिस के चक्कर लगाया करता था, बल्कि उसे ब्रेक दिया जिसनेस्वामी दादामेंएक्स्ट्राकी भूमिका की थी, जी.पी.सिप्पी, सुभाष धई, सुनील दत्त, जैसे निर्मातानिर्देशको ने अनिल कपूर का दिल एक नहीं, कई बार तोड़ा तभी तो अनिल कहते है,

अमिताभ बच्चन को भी जाने कितनी बार जलील किया गया था, लेकिन लोगो की बेइज्जती करने से तो अमिताभ बच्चन के करियर में कोई रुकावट नहीं आयी ? उन्हें जो बनना था, वो बनें। 

एक स्ट्रगलर से अनिल कपूरस्टारबन गये और जब स्टार बने तो अनिल कपूर अपने आपको दुनिया का सबसे खूबसूरत इंसान और इण्डस्ट्री का सबसे अच्छा कलाकार समझने लगे, लोगो की बातों को वो हवा में उड़ाने लगे। 

अपने सहयोगी कलाकारों सेकाम्प्लैक्स’, जलन उनके चेहरे पर साफ दिखाई देने लगी, पहले सुख के दिनो में अनिल कपूर सिर्फ जैकी श्रॉफ को ही अपना प्रतिद्वन्दि समझते थे क्यूँकि जैकी श्राॅफ ने वो स्ट्रगल नहीं की थी, जो अनिल कपूर ने की और इस पर भी जैकी श्रॉफ कोहीरोमिल गई थी

अनिल कपूर के दुश्मनो की लिस्ट बढ़ती ही चली जा रही थी

Anil Kapoor

जैकी श्रॉफ, फिर सन्नी देओल, गोविन्दा, विनोद खन्ना, संजय दत्त मतलब यह कि अनिल कपूर के दुश्मनो की लिस्ट बढ़ती ही चली जा रही है, पहले सिर्फ नायक थे, अब सुनने में आया है कि नायिकाओं से भी अनिल कपूर चिढ़ने लगे है

फरहा, डिम्पल कपाड़िया, मीनाक्षी शैषाद्रि, मंदाकिनी आदि। डिम्पल कापड़िया से अनिल कपूर सिर्फ इसी लिए चिढ़ते है, क्योंकि डिम्पल उनके दुश्मन सनी देओल की प्रेमिका है! डिम्पल को नीचा दिखाने के लिए अनिल कपूर ने फिल्मपरिंदामें अपने निर्माता दोस्त विनोद चोपड़ा से कहकर माधुरी दीक्षित को साईन करवाया, डिम्पल को भी अनिल कपूर से फिल्जांबाजके वक् से कड़वे अनुभव है। आज की तारीख में अनिल कपूर सिर्फ श्रीदेवी से खुश रहते है, और श्रीदेवी अनिल कपूर से

निर्देशकों केडिर्पाटमेंट में दखल देना तो अनिल कपूर की पुरानी आदत हैं! ‘अंदरबाहर के वक् अनिल कपूर नए थे, फिर भी निर्देशक राज सिप्पी को वो सैट पर अपनी राय देने से नहीं चूकते थे, अगर उनकाशॉटजैकी श्रॉफ से खराब आता तो वे फौरन राज सिप्पी कोवन मोर शॉटका आदेश देते।

एक बार तो राज सिप्पी ने सबके सामने अनिल कपूर को सैट से बाहर निकाल दिया ये कहकरये मेरा लुक आंउटहै यू प्लीज गेट आउट नाउ, अमिताभ बच्चन ने भी बहुत जिल्लतें सही है, ये बात सही है लेकिन नम्बर नहीं वन।

सुपर स्टार बनने के बाद भी तो अमिताभ बच्चन अपने लोगों से उस तरह पेश आते जिस तरह अनिल कपूर आते हैं? फिर अनिल कपूर तो नम्बर वन नहीं बन पाए हैं, अब तक

मैंनें ये तो नहीं कहा कि मुझे आमिताभ बच्चन बनना है? एक्टर यदि अपने काम से खुश नहीं है, तो क्या उसे ये अधिकार नहीं कि वो अपने निर्देशक को उसके काम, उसके दिए गए शॉट में सुधार लाने की ‘रिक्वेस्ट कर सकें?

फिर मुझे गलत क्यों समझा जा रहा है? मैनें अपने काम से अपनी इस इंण्डस्ट्री से हमेशा मुहब्बत की है, और क्या मुहब्बत में सब कुछ जायज नहीं? कहते हैं अनिल कपूर अपनी बात से मुकर जाना तो कलाकारों की खासियत है।  

“मैनें खुद जाकर कभी किसी से झगड़े लड़ाई नहीं किए लोगों ने खुद मुझे उकसाया है” अनिल कपूर

Anil Kapoor

नहीं मैं हिपोक्रेट नहीं हूँ, जो अपनी बात से मुकर जांऊँ बताइये अब तक मैं अपनी किस बात से मुकर गया हूँ? याद है आपको ? मुझे तो याद नहीं।

मैनें खुद जाकर कभी किसी से झगड़े लड़ाई नहीं किए लोगों ने खुद मुझे उकसाया है, मैं समझता हूँ मैं इण्डस्ट्री का वो इंसान हूं जिसे बात करने, उठनेबैठने की तमीज है, उसी तरह जिस तरह मिस्टर बच्चन जी को है!  

आज भी अनिल कपूर हर मामले में अपने को भी बच्चन के बराबर समझते है, अनिल कपूर की इसी बात को लेकर एक बार अनिल कपूर की जग हंसायी हुई थी, फिल्मआबारगीके सैट पर अनिल कपूर और गोविन्दा का शॉट हो रहा था, अनिल कपूर अपने तरीके से काम कर रहे थे, लेकिन महेश भट्ट ने अनिल कपूर पर सबके सामने बिगड़ते हुए कहा,    

अनिल प्लीज मुझे अमिताभ बच्चन कीहैगअपनहीं चाहिए र्डोट बी, स्टिफ अपनी एक्टिंग करो, बच्चन की नहीं, इस पर अनिल कपूर ने कहा,‘मुझे बच्चन कीहैंगअपकभी नही थी, दरअसल देखा जाए तो बच्चन ने अपने करियर में इतना कुछ कर दिया है कि परदे पर दूसरा कोई एक्टर कुछ भी करने की कोशिश करता है।

तो लोगों को अमिताभ बच्चन की झलक नजर आती है! मेरी समझ में नही आता तब ऐसी हालत में मुझे ही क्यों बलि का बकरा बनाया जाता है, जैकी श्रॉफ, गोविन्दा, सभी तो अमिताभ बच्चन से प्रभावित हैं, मैं अकेला नहीं हूं, देखिए मैं अन्य कलाकारों की तरह कुंठित कलाकार नहीं हूँ, मुझे जो मिल रहा है उससे मैं पूरी तरह संतुष्ट हुँ।  

क्या इसीलिए बड़े नायक विनोद खन्ना और बड़े निर्माता निर्देशकों के साथ काम करने से धबराते है? 

विनोद खन्ना के साथ मैनें दो फिल्मेंरिजेक्ट की ये बात सही है लेकिन ये सही नहीं कि मैं उनके साथ काम करने से धबराता हूँ, दिलीप कुमार अभिनय कीलिमिट  है और उनके साथ मैं तीन फिल्में कर चुका हुँ, आप समझ गई होगी मैं क्या कहना चाहता हूं?  

अनिल कपुर अपने निर्माता भाई बोनी कपूर के साथ मिलकर इण्डस्ट्री केशौ मैनबनने की बहुत कोशिश कर रहें है, कभी अमिताभ बच्चन की नकल करके तो कभी राज कपूर के खानदान से प्रभावित होकर और कभी युं ही अपनी दूसरी फिल्मरूप की रानी चोरों का राजाकी बजट बनाकर

मेहरबानी करके इस तरह की बातें करें! मुझे समझने की कोशिश करें। अनिल कपूर ने कहा!.    


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये