सब कुछ बहुत ही बढ़िया चल रहा है- चाहत पांडेय

1 min


चाहत पांडेय ने 2016 में मुबई टी वी में अपनी किस्मत आजमाने आई। उसने तय किया था कि वो अपने आप को काम के सिलसिले में केवल एक वर्ष देगी किन्तु आज 5 वर्ष हो चले है और चाहत को बहुत काम मिल रहा है। टीवी शोज में लगातार काम कर चाहत ने अपना नाम तो बना लिया है किन्तु चाहत का नाम कुछ क्रू ’में लीड रोल में नजर आ रहे है। दंगल टीवी पर 23 अगस्त को यह शो रिलीज़ हो चूका है। न्ट्रोवर्सीज से भी जुड़ा रहा। ज़ी टीवी,“हमारी बहु सिल्क“ के नॉन पैमेंट के इशू को लेकर चाहत सुर्खियों में बनी रही। और हाल ही में चाहत और उसकी माता श्री चाहत के चाचा के घर में घुसने की वजह से सुर्खियों में रही। खैर चाहत का मानना है जिंदिगी में उतार चड़ाव तो आने ही है बिना उसके जीवन नीरस होता है। चाचा से लड़ई के बारे में चाहत ज्यादा बात नहीं करना चाहती बस इतना कहती है,“किस घर में लड़ाई झगड़े नहीं होते। अब सब ठीक है मैं इस बारे में बात नहीं करना चाहती हूँ। चाहत पांडेय एकता कपूर के शो, “पवित्र बंधन में काम कर चुकी है।“ हमारी बहु सिल्क और सावधान इंडिया इत्यादि शोज में काम करने के बाद का शो, “नथ जेवर या जंजीर” में महिला प्रधान विषय पर लीड रोल निभा रहे है। यह शो दंगल टीवी पर चल रहा है।

आप मुंबई कब आई टेलीविजन पर अपना सफर कैसे देखती है?

मैं मुंबई 2016 में आ गई थी। सब कुछ बहुत ही बढ़िया चल रहा है। तय किया था कि ऑडिशंस खूब दूंगी और काम पा जाऊंगी ठीक वैसा ही हुआ। वैसे मैं यहाँ केवल एक वर्ष रहने वाली थी किन्तु टेलीविजन पर लगातार काम मिलता चला गया और बस मैं अब मुम्बई की हो गयी हूँ। व्यवसाय अच्छा ही चल रहा है।

आप के साथ कंट्रोवर्सी भी जुड़ी रहती है आपने “हमारी बहु सिल्क“ प्रोडूसर्स ने आप को पैसे नहीं दिए तो उनके प्रति झंडा भी उठाया था क्या चाहेंगी इस बारे में?ज़ी चैनल के दरवाज़े आपके लिए अब बंद है क्या?

जी नहीं मुझे ,“ज़ी चैनल ने बहुत मदद की थी। उन्हीं की वजह से हमें प्रोडूसर्स ने बकाया पैसे तुरंत दिए। इसके निर्माता -ज्योति गुप्ता और देवयानी राले है। यह सब कंट्रोवर्सी तो जीवन का हिस्सा होते है। कभी अच्छा और कभी बुरा समय भी आता है। इन सभी चीज़ो का सामना करना चाहिए यही तो जीवन है। जी मैं ,अपने हक़ के लिए खड़ी हुई थी और इसीलिए मुझे पेमेंट भी मिल गई। इसके बाद मुझे तुरंत,“ दुर्गा“ शो स्टार भारत पर ऑफर किया गया। और आज मैं दंगल टेलीविजन के लिए ,“नथ जेवर या जंजीर “ में लीड रोल में दिखाई दे रही हूँ। यह दंगल टीवी पर टेलीकास्ट हो रहा है। मै ज़ी टीवी की आभारी हूँ उनकी मध्यस्तता के कारण ही क्लियर की गई

नथ जेवर या जंजीर” नथ उतराई जैसा की टाइटल सजेस्ट करता है क्या इस में कोई सेक्स सीन भी देखने को मिलेंगे?

टेलीविजन पर कोई भी ऐसा सेक्स सीन नहीं दिखाया जा सकता है सो ऐसा कुछ देखने को नहीं मिलेगा। दरअसल में जैसे ही एक कन्या किसी गरीब घर में पैदा होती है तो उसे किसी अमीर घराने में बेच दिया जाता है। और जैसे वह 18 साल की होती है उसे वह अमीर लोग ले जाते है। यह कुप्रथा बुंदेलखंड के साथ साथ बहुत कई सारे गांव में आज भी प्रचलित है, सो इस को नथ जेवर या जंजीर शो बेहतरीन ढंग से दिखाया जा रहा है। बस यह लोग लड़कियों को अपनी प्रोपर्टी बना कर रखते है। हाँ रिलेशनशिप में तो बाधना ही पड़ता है उन्हें। पर इस शो में किस तरह मैं वापस वैवाहित बनकर वापस आती हूँ यह शो देखने के बाद आपको मालूम पड़ेगा। यह कहानी बेहद अपील करेगी उन गावों में खासकर जहां आज भी यह कुप्रथा प्रचलित है।

आगे कुछ सोच कर चाहत कहती है ,“ दरसल में, इस शो का कंटेंट बहुत ही अच्छा है। इस शो को देख कर जो रियल लाइफ में विक्टिम है उनको एक तरह की ताक़त मिलेगी। और जो अमीर लोग इस कुप्रथा को आज भी बनाये रखे है उनके मन में भी कुछ बदलाव जरूर आएगा।

जो अफगानिस्तान में चल रहा था और तालिबान के आने से औरतों को घर से बाहर नहीं निकलने का हुक्म है। न स्कूल जाने की अनुमति है ,क्या इस प्रथा में ऐसी ही बू आती है?

बिल्कुल यहाँ पर भी ऐसे कई सारे गांव है – जहा उन्हें पढ़ने की अनुमति नहीं दी जाती है। उनकी अपनी मर्जी से जिंदिगी जीने के अधिकार छीन लिये जाते है। यहाँ तक कि लड़की अपनी मर्जी के कपड़े भी नहीं पहन पाती है। कुल मिला कर , स्वतंत्रता से जीने के उनके अधिकार छीन लिए जाते है।

आप को फ़िल्मो में काम करने का शौक नहीं है?

देखिये, मुझे एक्टिंग करने का शौक है और में कैमरे के सामने काम कर रही हूँ। जो कुछ कर रही हूँ बहुत खुश हूँ। ईश्वर ने सभी के लिए कुछ न कुछ तय कर रखा है, और जो कुछ मिला है। उससे मै बहुत खुश हूँ। फ़िल्में मिली तो जरूर करुँगी। फ़िलहाल, एक टी वी शो करकेअपने लिए भी समय ही नहीं मिलता है।

SHARE

Mayapuri