पूर्व ग्लैमरस हीरोइन Mandakini क्या अब एक उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ती नजर आएगी?

1 min


आइकॉनिक आर.के.बैनर की सेन्सेशनल डिस्कवरी Mandakini (“राम तेरी गंगा मैली” सहित 36 अन्य फिल्मों की प्रसिद्धि) जिन्होंने 90 के दशक के मध्य में शादी करने के लिए बॉलीवुड छोड़ दिया था, वह अब एक धमाके के साथ मीडिया में फिर से छा गई है। चैतन्य पडुकोण

ज़ी हां आपको बतादे यह 80 के दशक की ग्लैम-गर्ल Mandakini, किसी फिल्म से वापसी नहीं कर रही है, बल्कि वह एक ट्रेंडिंग-न्यूज बनी हुई है, क्योंकि वह एक राजनीतिक उम्मीदवार के लिए प्रचार कर रही है। यह आकर्षक अभिनेत्री मंदाकिनी (असली नाम यास्मीन जोसफ) अब अपने मिड-50 के दशक में हैं और वह पिछले कुछ दिनों से दर्शकों से रोमांचित प्रतिक्रियाएं भी प्राप्त कर रही हैं। दरअसल वह पश्चिम बंगाल में ‘जनता दल’ के उम्मीदवार अमित कुमार घोष के लिए सक्रिय रूप से प्रचार कर रही हैं, जो हावड़ा से चुनाव लड़ रहे हैं।

सामाजिक कल्याण और राजनीतिक गतिविधियों में Mandakini की इस सक्रिय भागीदारी को देखते हुए हमें भविष्य में तब आश्चर्यचकित नहीं होना चाहिए, अगर आगे उन्हें (पूर्व बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मतोंडकर की तरह) एक प्रमुख राजनीतिक दल से एक “उम्मीदवार” के रूप में चुनाव लड़ने के लिए “टिकट” मिल जाए। हम यह याद कर सकते है कि घर में रहने वाली, आध्यात्मिक रूप से इच्छुक मंदाकिनी ने एक बौद्ध भिक्षु डॉ.काग्य्युर टी.रिनपोछे ठाकुर से शादी की थी। उनका रब्बिल नाम का एक बेटा और रब्ज़े इनाया नामक एक बेटी है।

वह तिब्बती योग की क्लास देती है और दलाई लामा की एक कट्टर अनुयायी है। अपने पति के साथ, वह तिब्बती मेडिसिन सेंटर को भी चलाती हैं, जिसे आमतौर पर इलाके में तिब्बती हर्बल सेंटर के रूप में भी जाना जाता है। कम ही लोग जानते हैं कि मंदाकिनी ने 1990-91 के दौरान दो बंगाली फिल्मों में अभिनय किया है, जिसमें एक सह-कलाकार मिथुन चक्रवर्ती और दूसरी सह-कलाकार तापस पॉल के साथ हैं। एक फिल्म-पत्रकार-कॉलमनिस्ट के रूप में, मुझे राजकपूर की फिल्म “राम तेरी गंगा मैली” और कई अन्य फिल्मों (जैसे ‘डांस डांस’ और ‘कमांडो’) के सेट (और सक्सेस-पार्टीज) पर मंदाकिनी से मिलने और उनका इंटरव्यू लेने का अवसर कई बार मिला था। एक सॉफ्ट-स्पोकन बुद्धिमान संवेदनशील लड़की, मंदाकिनी में मजाकिया अंदाज छिपा हुआ है और वह अपने स्वभाव से काफी फ्रैंक है। दिलचस्प बात यह है कि आर.के कैंप वैजयंतीमाला की दिग्गज नायिकाओं को एक एम.पी.(1985) के रूप में ‘चुना’ गया था, जबकि ‘स्वर्गीय’ नरगिस दत्त को राज्यसभा एम.पी. (1980-81) नियुक्त किया गया था।

अनु- छवि शर्मा


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये