INTERVIEW!! ‘‘इस शो में मैं लगभग मुन्ना भाई वाली भूमिका निभा रहा हूं’’ अली असगर

1 min


टीवी इन्टरव्यू

इस सप्ताह कॉमेडी नाइट्स विद कपिल, कॉमेडी नाइट्स लाइव के नाम से कलर्स पर उसी टाइम पर शुरू हुआ। बेशक पहले एपिसोड में माधुरी दीक्षित (डेफिनेटली मंहगी प्राइस दी होगी) को बुलाया गया था लेकिन सिद्दू की कुर्सी पर मीका सिंह कपिल की जगह कृष्णा किसी भी एंगल से नहीं जम पा रहे थे। शो में बेशक भारती सिंह और सुदेश लहरी आदि आर्टिस्ट भी थे लेकिन कपिल के सामने ये सभी पानी भरते नजर आ रहे थे। हाल ही में कपिल की टीम के अली असगर(दादी) से सब टीवी पर प्रसारित हो रहे उनके नये शो ‘वो तेरी भाभी है पगले’ के अलावा कुछ और बातों को लेकर एक मुलाकात।

अगेन एक कॉमेडी शो ?

देखिये हम इस को सिर्फ कॉमेडी शो ही नहीं कह सकते। दरअसल यहां कॉमेडी के अलावा एक लीनियर्स स्टोरी भी है। दो ऐसे लोग जिनमें एक अमीर बाप का बेटा है तो दूसरा एक गुंडा है यानि मैं। लेकिन वो कोई साधारण गुंडा नहीं है आप कह सकते हैं कि वो दूसरा मुन्ना भाई है जो बहुत नर्मदिल है। उसकी नर्मदिली का ये आलम ये है कि अगर वो किसी से हफ्ता मांगने जाता है और सामने वाला या वाली के खाने के भी वांदे हैं तो वो पहले उसे राशन भरने के लिये पैसे देगा फिर अलग से वो पैसे भी देगा जो उसे हफ्ते के तहत चाहिये क्योंकि वो किसी पर अपना हफ्ता नहीं छोड़ता ।

_bbf49bca-b04c-11e5-8782-a7e1fa0485da

आपको इस रोल को निभाते हुये कैसा लग रहा है ?

पहले आप इस रोल की बानगी देखिये। जिस बस्ती में मैं रहता हूं, वहां एक ब्लड डोनेशन के लिये एक कैंप लगा हुआ है उसके बारे में मुझे मेरा एक फंटर आकर बताता है कि भाई बाहर बोले तो एक कैंप लगेला हैं जहां एक ड्राकुली लोगों का खून चूस रे ली है। बाद में मैं कैंप में जब डॉक्टर दिया को देखता हूं तो उसे देखते ही मैं उस पर लट्टू हो जाता हूं लेकिन दिया बहुत कड़क डॉक्टर है उस वक्त उसने एक मवाली टाइप बंदे को पकड़ रखा था जो उसी की तरह गले में बंधे रूमाल और लॉकेट बांधे हुये है। दिया उन दोनों चाजों की तरफ इशारा करते हुये कहती हैं यह क्या है, रूमाल मुंह पोंछने के लिये होता है या गले में ड़ालने के लिये और यह लॉकेट क्यों डाल रखा है, तो मैं उससे पहले अपने गले से वो सारी चीजें निकाल फेंक देता हूं। इसके बाद दिया के सामने एक आम आदमी के रूप में जाकर खड़ा होता हूं। तभी मुझे पता चलता है मैं पहला आदमी नहीं हूं जो इस डॉक्टर के प्यार में पड़ेला है मेरे अलावा एक और फंटर भी है। बाद में किस प्रकार दोनों एक दूसरे का पत्ता साफ करने में लगे रहते हैं और मैं नई नई बीमारियों को लेकर दिया के अस्पताल में आता रहता हूं जहां दूसरा भाई नकली डॉक्टर बन कर पहले से ही जमा हुआ है।

3187

आपको भी लाइन में काफी अरसा हो गया है ?

जी हां मुझे यहां करीब पच्चीस साल हो गये परन्तु आज भी मुझे अपनी पहली फिल्म में निभाई गई भूमिका याद है। फिर भी अगर कोई मुझे मेरी उम्र याद दिलाता है तो मैं उसे कहता हूं कि भाई तू मेरे पीछे क्यों पड़ा है, शाहरूख, सलमान या आमिर से जाकर पूछ कि वह पचास के पेटे में पहुंच कर भी क्यों अभी तक बीस बाईस साल की हीरोइनों के आगे पीछे घूम रहे हैं।

किसी भी भूमिका को आप कैसे आंकते हैं ?

मेरा मानना है अभिनेता या अभिनेत्री को लेने की पहली च्वॉईस डायरेक्टर की होती है फिर चैनल, इसके बाद दर्शक उसे पंसद करते हैं क्योंकि उन्हीं की पसंद पर किसी अदाकार की नियुक्ति होती है।

किस प्रकार की भूमिकायें पंसद आती हैं ?

मुझे उम्र से बड़े रोल करने में बहुत मजा आता है। इसीलिये शायद मुझे अप्पू राजा का रोल बहुत पसंद हैं, कुवांरा बाप, ईश्वर या ब्रह्मचारी जैसी फिल्मों की भूमिकायें भी काफी पसंद है। अफसोस है कि मैं ये सारे रोल्स नहीं कर पाया लेकिन मैं शायद बहुत खुशनसीब हूं कि मुझे कॉमेडी नाइट्स में दादी की भूमिका करने को मिली जिसमें मुझे शुरू से लेकर शाहरूख खान, सलमान खान और अमिताभ बच्चन तक के साथ काम करने का अवसर मिला। परन्तु हर बार तो ऐसी भूमिकायें नहीं मिलेगीं। शायद इसीलिये मैने इस शो को चुना क्योंकि मुझे कुछ न कुछ तो करना ही था।

M_Id_397879_Ali_Asgar

लेडीज अवतार वाली इमेज को लेकर क्या कहना है ?

सब टीवी से मेरा बहुत पुराना सम्बंध है मैंने इस चैनल पर ऐसे शो किये हैं जो पूरी तरह से पारिवारिक थे जैसे एफ आई आर, जिनी और जूजू और अब यह शो। लेकिन लेडीज रोल्स अब मैं नहीं करना चाहता क्योंकि अब मेरे बच्चे इस तरह की भूमिकाओं में मुझे नहीं देखना चाहते। दरअसल उन्हें उनके पिता को लेकर उनके स्कूल में चिढ़ाया जाता है। आप समझ सकते हैं कि मेरा आखिरी लेडिज रोल कामेडी नाइट्स में दादी का था जिसका अब देहांत हो गया ।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये