‘‘इरफान खान बहुत बड़े अदाकार हैं’’ – ‘अरशद वारसी’

1 min


इसमें कोई दो राय नहीं कि कामेडी में अरशद वरसी का कोई सानी नहीं । कितनी ही फिल्में इस बात का ताजा प्रमाण है । वासु भगनानी के साथ पहले भी अरशद वारसी काम कर चुके हैं । एक बार फिर वो उनकी फिल्म ‘ वैलकम टू कराची’में दिखाई देने वाले हैं । इस फिल्म को लेकर उनसे एक छोटी सी मुलाकात

arshad warsi

एक अरसे तक फिल्मों से गायब रहने की वजह ?

मैं घर पर नहीं बैठा था बल्कि लगातार काम कर रहा हूं । लेकिन फिल्मों का रिलीज करना मेरा काम नहीं । वो प्रोड्यूसर्स तय करता हैं । इस साल एक के बाद एक मेरी चार फिल्में रिलीज होगीं।

आप एक वर्सटाइल कलाकार हैं फिर सिर्फ कोॅमेडी ही क्यों ?

क्योंकि काॅमेडी मेरा पंसदीदा काम हैं मुझे काॅमेडी करना हमेशा अच्छा लगता है। क्योंकि मुझे हास्य भूमिका करने में मजा आता है । और जिस काम को करते हुए सुकून और संतोष प्राप्त हो,इंसान को वही करना चाहिये ।

Arshad_1

फिल्म को लेकर क्या बताना चाहेगें?

यह एक फन फिल्म है । कहानी के अनुसार मैं और जैकी भगनानी दो ऐसे दोस्त हैं जो हर समय कुछ न कुछ ऐसा सोचते हैं जो बाद में उन्हें फंसा देता है । एक दिन वह दोनों बिना पासपोर्ट और वीजा के समुद्री रास्ते से अमेरिका जाने का प्लान बनाते हैं । लेकिन पहुंच जाते हैं कराची । उसके बाद वहां उनके साथ क्या कुछ घटता है यह सब काॅमेडी में पिरो कर दिखाया गया है ।

एक समय इरफान खान ने फिल्म में काम करने से मना कर दिया था ?

अब तो सब को पता है कि इरफान ने मना नहीं किया था बल्कि वो इस कदर व्यस्त थे कि जो डेट्स वासु जी को चाहिये थी चाहकर भी वे एडजेस्ट नहीं कर पा रहे थे इसलिये बाद में उन्हें फिल्म से अलग होना पड़ा। बाद में उनकी जगह जैकी भगनानी ने ली ।

222242_Arshad-Warsi-Actor-wallpapers_1920x1440

कंहा इरफान और कंहा जैकी भगनानी जैसा लगभग नया आर्टिस्ट ?

इरफान बहुत बड़े अदाकार हैं । जैकी का उनसे कोई मुकाबला नहीं हो सकता । दरअसल जब जैकी को लेना तय किया गया तो उन्हें देखते हुये कहानी और उनके रोल में बदलाव किये गये ।

आपकी भूमिका क्या है ?

फिल्म शम्मी और केदार दो अहम् किरदार है । मैं शम्मी की भूमिका में हूं जो अपने आपको बहुत ही इन्टैलीजेट और स्मार्ट समझता है असलियत में वह एक मंदबुद्धि बेवकूफ इन्सान है। कराची पहुंचने पर उसे आंतकवादी समझते हुए पकड़ लिया जाता है। उसके बाद उसकी क्या हालत होती है वो सब आपको फिल्म देखते हुए पता चलेगा ।

arshad_warsi_stills

आपकी फिल्म काबुल एक्सप्रैस से यह भूमिका कितनी प्रेरित हैं ?

जरा भी नहीं । काबुल एक्सप्रैस और इामें जमीन आसमान का फर्क है । काबुल…. एक गंभीर फिल्म थी जबकि यह एक काॅमेडी है । अगर आपने फिल्म फिल्मीस्तान देखी है तो इस फिल्म में भी आपको उसी जैसी काॅमेडी और फन मिलेगा । परन्तु दोनों की कहानियां एकदम अलग है ।

आपकी आने वाली फिल्में ?

एक फिल्म हैं ‘ फ्राॅड सैंया’ इसमें मेरे तेरह लुक हैं। ‘गुड्डू रंगीला,मेरी फिल्म जाॅली एल एल बी की तरह मेरी पंसदीदा फिल्म है एक और फिल्म ‘द लीजेड आॅफ माइकल मिश्रा’ है जो अलग तरह की फिल्म है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये