INTERVIEW: उनकी चाल और उनके बालो को देख मंत्रमुग्ध हो गया था – सुशांत सिंह राजपूत

1 min


लिपिका वर्मा

टेलीविज़न की दुनिया सुशांत सिंह  ने ,”किस देश में है मेरा दिल ” 2008 से अपनी पहली बारी की शुरुआत की थी। टेलीविज़न शो ,”पवित्र रिश्ता” से सुशांत सिंह को काफी प्रसिद्धि भी मिली। इसी शो की हीरोइन अंकिता लोखंडे से उनका प्यार भी परवान चढ़ा था। कुछ समय बाद यह दोनों ने एन्गेजमेन्ट भी की और एक ही छत के नीचे साथ साथ भी रहे। ..किन्तु लगभग 6 साल साथ साथ रहने के बाद 2016 में , सुशांत सिंह ने अंकिता से अपने ब्रेकअप के बारे में ट्विटर द्वारा जग जाहिर किया। कुछ ही दिनों बाद अपनी को स्टार कृति के साथ रुमोर्स की चर्चा होने लगी – कि सुशांत सिंह और कृति का कुछ चक्र है।

जैसे ही सुशांत सिंह ने अपनी आने वाली फिल्मों में ,”राब्ता” में कृति सेनन के साथ काम करने की बात बताई तो हमने तुरन्त पुछा –

sushant-singh-rajput-kirti-senan

अखबारों में अपने बारे में कुछ खट्टी कुछ मिट्ठी बातें पढ़ कर कैसा महसूस होता है ?

बात को तुरन्त काटते हुए सुशांत सिंह ने बड़ी चालाकी से कहा ,” मैंने अख़बार पढ़ना छोड़ दिया है। गलती से कभी देख लेता हूँ तो चटपटी चीज़ से दूर ही रहता हूँ!!”

सुशांत सिंह के साथ बातचीत के कुछ अंश- लिपिका वर्मा पेश कश

टी वी के इतने बड़े स्टार होने के बावजूद पैसों को ताक पर रख कर अपना फ़िल्मी सफर,”काई पोचे ” से शुरू किया। … और अब “एमएस धोनी” कर रहे है क्या कहना चाहेंगे आप?
ऐसा मेरे साथ पहली बारी नहीं हो रहा है। दरअसल में इंजिनिरिंग की पढ़ाई भी यूँ ही छोड़ कर एक दिन मुम्बई चला आया था। हालांकि की मेरे पिताजी इस बात से आश्चर्यचकित हो गए थे किन्तु शान्त रहे। और जब  मेरे टेलीविज़न सफर टॉप पर चल रहे थे, उसी वक़्त मुझे “काई पोचे ” फिल्म मिली, और मैंने फिल्मों कि ओर रुख कर लिया। उस वक़्त भी सब लोगों ने मुझे कहा यह क्या पागलपन कर रहा है ? हर कोई शाहरुख़ का नसीब लेकर नहीं पैदा होता है। लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि जिस काम को करने में आपको मजा आये वही काम करना चाहिये। और सच पूछिये तो में हर तरीके से अपने प्रोफेशन से खुश हूँ।

ms-dhoni-sushant-7591

धोनी की बायोपिक में काम करने को लेकर शुशांत ने कहा -धोनी की बायोपिक से जुडी एक चीज़ मैंने भी सीखी है। आप को जिस काम में दिलचस्पी हो, तो आप उस वक़्त जो कर रहे होते है उसी पर फोकस कर रहे होते है। धोनी भी जिस समय क्रिकेट के मैदान में होते है वह अपनी बारी को बेहतरीन तौर से खेलने के बारे में ही सोचा करते है । जिस काम को जब मैं करता हूँ यदि मेरे अंदर उत्सुकता न हो उस वक़्त तो भला मैं अपना बेस्ट कैसे दे पाऊंगा। एक और बात भी है धोनी में -यदि वह क्रिकेट के मैदान में है और कुछ समय आपको दिया है तो उस समय वह आपसे ही मुखातिब होंगे। अक्सर हम सब या तो अतीत के बारे में विचाराधीन रहते है या फिर अपने भविष्य के बारे में ही सोचते रहते है। दरअसल में जब हम अपने वर्तमान को सही समय दे पाएं, तो आपकी जीत निश्चित होती है। ठीक उसी तरह धोनी भी जब मैदान में बल्ला चला रहे होते है तो वह उसे किस तरह खेले यही सोचते है , अपने फैन्स या फिर प्रेस कांफ्रेंस में मीडिया से क्या कहना है यह नहीं सोच रहे होते है।

क्रिकेट से आप का लगाव पुराना है क्या?
जब से मई 12/13 साल का था तब से मुझे क्रिकेट से बहुत लगव था। धोनी का पहला मैच जब मैं 2008 में कॉलेज में था तो अपना फर्स्ट सेमेस्टर बंक कर के देखने गया था। उनकी चाल और उनके बालो को देख मंत्रमुग्ध हो गया था। ऐसा लगा उस समय भी की धोनी ने 140 रन्स बनाने के जैसे ठान ली हो और 140 रन ही बनाये उन्होंने। फिर दूसरी बारी-2006/7  में – मेरे साले जो की एक पुलिस कर्मी है उनसे रो धोकर क्रिकेट मैच का टिकेट लिया और धोनी के साथ एक फोटो भी खिंचवाई मैंने। बस फिल्म की तयारी करते हुए,  मैं हर दिन बहुत उत्सुक रहता था।

sushant-singh

आपके ट्विटर ,”भाई भतीजावाद ” के बारे में क्या कहना है आपको ?
भाई भतीजावाद है तो है। ऐसा नहीं है कि -यह सिर्फ हमारी इंडस्ट्री में ही चल रहा है। नेपोटिस्म हर तरफ आपको देखने मिलेगा। सो मैंने यह महसूस किया और ट्विटर पर इस बारे में लिख भी दिया। दरअसल में यदि हम अपनी फिल्मों में मेहनत नहीं करेंगे और सही बन्दे को काम नहीं देंगे तो हम हॉलीवुड से पीछे हो जायेगे। हमारे यहां सामान्यता भी है। इसी लिए मुझे भी काम मिल रहा है।

sushant-singh-rajput-ms-dhoni-759

आपके बारे में हमे जो नहीं मालूम है उसे क्या आप बतलाना चाहेंगे हमे?
हंस कर बोले-मुझे खुद नहीं मालूम है यह। हाँ शायद स्कूल के दिनों में जब हम घर वापस आते थे तो अपना होम वर्क करने के बाद जो एक- डेढ़ घंटे का समय हमे खेलने मिलता था वह हमारे जेहन में हमेशा बना रहता। और हम उस समय का बेताबी से इन्तेजार करते। ठीक उसी तरह अभी जब मैं अभिनय कर रहा होता हूँ तो बहुत ही ख़ुशी मिलती है मुझे। काम करूँ और आगे चलूँ बस यही विचार रहता है मेरे अंदर। फिर हार -जीत के बारे में नहीं सोचता हूँ।

ms-dhoni-the-untold-story

बहुत जल्द आप फिल्म निर्माता भी बन रहे हैं कुछ बतलायें कैसी फिल्म होगी। ..रोमांस होगा या रोमांच ?
फिल्म तो रोमांचक ही होगी। पर जिस समय मैं अभिनय कर रहा होंगा तो बतौर निर्माता मेरा धयान उस ओर नहीं जायेगा। लेकिन जिस समय निर्माता की हैसियत से काम कर रहा होगा तो जाहिर सी बात है प्रॉफिट परध्यान जरूर रखूँगा ! जी हाँ, फिल्म निर्माता भी बन रहा हूँ ,किन्तु मेरे साथ कुछ और निर्माता भी जुड़े है सो सही समय पर आपको फिल्म की डिटेल्स जरूर दूंगा।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये