INTERVIEW!! ‘‘मेरा मकसद विविधतापूर्ण किरदार निभाना ही है….’’ रिया चक्रवर्ती

1 min


Rhea Chakraborty

बैंगलोर में जन्मी बंगाली पिता और कोंकणी माँ की संतान रिया चक्रवर्ती ने अपने अभिनय कैरियर की षुरूआत तेलगू फिल्म ‘तुनीगा तुनीगा’ से की थी. पर हिंदी फिल्मों में उनके कैरियर की शुरूआत ‘यशराज फिल्मस’ की फिल्म ‘मेरे डैड की मारूति’ से हुई थी. इस फिल्म के बाद उन्होंने हिंदी फिल्म ‘सोनाली केबल’ की, जिसे बाॅक्स आॅफिस पर सफलता नहीं मिल पायी. पर वह तकदीर की धनी हैं, तभी तो उन्हें ‘यशराज फिल्मस’ की फिल्म ‘बैंक चोर’ मिल गयी. इतना ही नहीं हाल ही में उन्हें आॅन लाइन शॉपिंग कंपनी ‘एम्पी’ का ब्रांड अम्बेसेडर बनाया गया है. तो दूसरी तरफ वह ‘यूटीवी डिजनी’ सहित कई दूसरे बड़े बैनरों की फिल्में भी कर रही हैं।

बाॅक्स आॅफिस पर फिल्म ‘सोनाली केबल’ की असफलता से आप कितना निराश हुई?

जब हम किसी फिल्म के लिए मेहनत करते हैं और उसे सफलता नहीं मिलती है,तो तकलीफ होती ही है. मुझे लगता है कि इस फिल्म का सही ढंग से प्रमोषन नहीं किया गया। बहुत कम स्क्रीन में इस फिल्म को रिलीज किया गया। अब यह बात तो माॅर्केटिंग वालों के हाथ में थी। मेेरे हाथ में नहीं था। इसके अलावा फिल्म को गलत समय रिलीज किया गया। लेकिन मुझे गर्व है कि मैंने ‘सोनाली केबल’ जैसी फिल्म की.मैं भविष्य में अपने बच्चों को भी यह फिल्म दिखाते हुए गर्व महसूस करुंगी। इसी वजह से अफसलता का गम मनाने की बजाय हमने आगे बढ़ने का निर्णय लिया। मैं ‘यषराज फिल्मस’ की फिल्म ‘बैंक चोर’को लेकर काफी उत्साहित हूं.इस फिल्म से मुझे काफी उम्मीदे हैं।

आपके लिए सफलता असफलता कितना मायने रखती है?

सफलता बहुत मायने रखती है। लेकिन असफलता इतनी मायने नहीं रखती कि उससे मेरी जिंदगी खत्म हो जाए। मैंने अभी तक ज्यादा काम किया नही है और ज्यादा सफलता असफलता के बारे में जानती नहीं हूं।

 फिल्म ‘बैंक चोर’ को लेकर क्या कहेंगीं?

‘यशराज फिल्मस’के साथ यह मेरी दूसरी फिल्म है. आदित्य चोपड़ा ने मुझसे कहा है, ‘‘यदि तुम स्क्रिप्ट पढ़ती हो और वह स्क्रिप्ट तुम्हे पसंद आती है, तो फिर यह बात बहुत मायने नहीं रखती कि उसका निर्माण व निर्देशन कौन कर रहा है. ’’मैं उनकी सलाह को हमेषा गंभीरता से लेती हू। फिल्म ‘बैंक चोर’ एक हास्य फिल्म है. यह फिल्म उन तीन लोगों की कहानी है, जो कि बैंक लूटने का प्रयास करते हैं. पर यह कैसे भ्रष्ट पुलिस, भ्रष्ट नेता और भ्रष्ट उद्योगपतियों के बीच फंस जाते हैं।

bank-chor-stills-riteish-deshmukh-rhea-chakraborty-vivek-oberoi

फिल्म ‘बैंक चोर’ में आपकी अपनी भूमिका किस तरह की है?
मेरी भूमिका में भी हास्य का पुट है. मैं इसमें गायत्री गांगुली नामक एक इंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट की भूमिका निभा रही हॅू. गायत्री ऐसी लड़की है, जो कि गंभीर पत्रकार बनना चाहती है।

‘यशराज फिल्मस’ के साथ काम करने के क्या अनुभव रहे?

यषराज फिल्मस के साथ मैंने इससे पहले ‘मेरे डैड की मारूति’ भी की थी। उनके साथ मेरी दूसरी फिल्म है.बड़ा बैनर है। हर विभाग के लिए अलग अलग लोग हैं। काम करने में अलग ही मजा आता हैं। यहां काॅरपोरेट की तरह काम होता है।

फिल्म ‘बैक चोर’ में रितेश देशमुख के साथ काम करने के अनुभवों लेकर क्या कहेंगी?

वह बेहतरीन कलाकार होने के साथ साथ विनम्र इंसान हैं। उन्होंने कई सफलतम फिल्में दी है. मराठी में ‘लय भारी’ जैसी सफलतम फिल्म बनायी व अभिनय किया है।

Rhea-Chakraborty

‘सेानाली केबल’ की असफलता के बावजूद आपको आॅनलाइन फैषन कंपनी ‘एप्मी’ को इंडोर्स करने का अवसर मिल गया?

जी हाँ! इसके मायने यह हैं कि ‘सोनाली केबल’ की असफलता में मेरी अपनी कोई गलती नहीं है, ऐसा सभी मानते हैं. अब फैशन इंडस्ट्री से जुडे़ लोग यह सोचते हैं कि उनके ब्रांड के साथ कौन फिट होता हैं. वह सफलता या असफलता के बारे में नहीं सोचते हैं. ‘एप्मी’ आन लाइन शॉपिंग कंपनी वाले बहुत खुश हैं. मेरे कैरियर का यह सबसे बड़ा इंडोर्समेंट है. ‘एप्मी’ ब्रांड आॅन लाइन होने के साथ ही सस्ता भी है।

Rhea_Chakraborty

आप एक फिल्म ‘बबलू की जवानी’ भी कर रही हैं?

यह फिल्म ‘यूटीवी स्पाॅट ब्वाॅय’ के बैनर तले बन रही है। इससे अधिक कुछ नहीं बता सकती।

किस तरह के किरदार निभाना चाहती हैं?

मेरा मकसद विविधतापूर्ण किरदार निभाना ही है. पर सच यह है कि अभी मैं इस मुकाम पर नहीं पहुंची हूं कि मेरी पसंद के अनुसार किरदार या पटकथा लिखी जाए. फिलहाल जो आॅफर मेरे पास आते हैं, उन्हीं में से बेहतर चुन रही हूँ।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये