‘‘ मुझे भी एक दिन सब छोड़ कर चले जाना है’’ – सोनू निगम

1 min


आखिर सोनू निगम तथा अन्य लोगों ने काॅपी राइट की लड़ाई में जीत हासिल कर ही लीं । बहुत छोटी सी उम्र में इतनी ऊंचाई तक पहुंचने में सोनू की मेहनत और प्रतिभा को ही श्रेय जाता है । हाल ही में एक फंक्शंस में उनसे हुई बातचीत ।

इन दिनों क्या नया चल रहा है ?

इन दिनों मैं फुल आराम के मूड में हूं । इसलिये जिन्दगी में अब मैं भी कुछ अलग चाहता हूं। मैं इन दिनों फिटनैस पर बहुत ध्यान दे रहा हूं, रियाज भी लगातार कर रहा हूं। शहर की जिन्दगी से उकता चुका हूं इसलिये कर्जत में तैयार हो रहे अपने फार्म हाउस में पेड़ पोधों के साथ रहने का प्लान बना रहा हूं ।

Klose To My Heart - Sonu Nigam Concert - Vancouver. Presented by Kamal's Video Palace

गायकी में क्या कुछ चल रहा है ?

मैने हाल फिलहाल काफी कम गाया है । वैसे भी काॅपी राइट्स की लड़ाई में मेरे बहुत सारे गाने डब कर दिये गये थे। लेकिन इतना कॉन्फिडेंस है कि अपने आपको इंसिक्यौर नहीं माना । खैर अब ये लड़ाई एक हद तक अपने आखरी सिरे पर है । इसका रिजल्ट जल्दी ही सामने आने वाला है । पिछले दिनों एक गाना फिल्म ‘ तनु वेड्स मनु’ पार्ट टू ’ का गाया,जिसके बोल हैं ‘ओ साथी मेरे ’। यह पहला ऐसा गाना है जिसे मैने दर्जनों बार सुना हैं। बहुत ही कमाल का गाना बना है। इससे पहले किलदिल का भी एक गाना काफी पंसद किया था ।

इतनी कम उम्र में ही आप सीनियरटी में आ चुके हैं ?

मैने अपना करियर बहुत कम उम्र में शुरू कर दिया था और सफलता भी जल्दी मिल गई। लेकिन मैं सीनियर या लीजेंड नहीं कहलवाना चाहता । अभी तो मुझे बहुत कुछ करना है ।

PAGE-SANKARA-SONU-NIGAM-SAN-JOSE-CONCERT-08-DSC_0782

रियलिटी शोज में न दिखाई देने की वजह ?

अभी तक ऐसा कोई रीयेलिटी शो नहीं जिसका आॅफर मुझे न मिला हो । लेकिन मैं इन से बौर हो गया हूं। दरअसल मेरे ऐसे सस्ंकार नहीं है कि हम किसी को कुछ भी कह दे । हमें अपने बड़ों की इज्जत करना सिखाया गया है। आज शोज में कोई भी किसी को कुछ भी कहता है तो टीआर पी बढ़ती है ।

मां के गुजरने के बाद जीवन में कितना बदलाव आया है ?

आपको जो लगता है वह नया नहीं बल्कि मेरे अंदर पहले से है। मैं हमेषा बदलाव में विश्वास करता हूं । इसलिये मैं समय समय पर अपनी कार्यशैली बदलता रहता हूं । जैसे पिछले दिनों मैने योगा करना षुरू कर दिया । एक दिन मुझे लगा कि मैं योगा कुछ ज्यादा कर रहा हूं, तो मैने उसे कम कर दिया। फिर किताबें पढ़ने का चस्का लगा, कुछ दिन बाद किताबे पढ़ना बंद कर दिया गया । एक बार फिर व्यस्त हो जाने का दिल किया तो मैं बेहद व्यस्त हो गया । मां की मौत की बात की जाये तो इससे पहले मैने किसी अपने की मौत नहीं देखी थी । उनके मरने के बाद एक बात मेरी समझ में आ गई कि अपनी किसी कीमती चीज या अपने किसी फन को ज्यादा महत्व देने की आवश्यकता नही है । मैने अभी तक क्या किया है या नहीं किया है किसी को क्या फर्क पड़ता है । मैं कुछ भी न गाऊं या आगे और दस हजार गाने गा दूं । क्या हो जायेगा । कुछ नहीं । क्योंकि एक दिन तो मुझे भी यह सब छौड़ कर चले जाना है।

Sonu-Nigam-Pardaphash-89145

आपके पिता अगम कुमार निगम के लिये कया कहना हैं ?

वे मुझसे कहीं ज्यादा बेहतर गायक हैं । एक बार हम दोनों के एलबम एक साथ रिलीज हुए थे लेकिन उनके सामने मेरा एलबम फ्लाॅप हो गया था । जल्द ही उनका एक एलबम आने वाला है जिसका नाम है ‘वफायें’ । इसमें उन्होंने बहुत ही जबरदस्त गाया है ।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये