Exclusive Interview : फिल्म सूर्यवंशी को लेकर Akshay Kumar ने किये कई खुलासे

1 min


Akshay Kumar
Source: Bollywood Hungama
नई दिल्ली, 12 नवम्बर 2021. अक्षय कुमार  (Akshay Kumar) स्टारर फिल्म,”सूर्यवंशी” ने बॉक्स ऑफिस पर धुंआधार  कमाई कर पैन्डेमिक के इस दौर में पहली सफल फिल्म की श्रेणी में  शुमार  हो गई है। हालांकि अक्षय की पिछली  फिल्म, “Bell bottom ”  ऑफिस पर कुछ अच्छा   पाई  क्योंकि  थिएटर पूर्ण  रूप से खुले नहीं थे।  रोहित शेट्टी द्वारा निर्देशित फिल्म ,”सूर्यवंशी” पुलिसिया कहानी एवं पुलिसकर्मी की व्यक्तिगत जीवन  दर्शाती स्लीपर सेल  की  गतिविधियों  उजागर करती बहुत ही मार्मिक कहानी है। रणवीर सिंह , कैटरीना कैफ और अजय देवगन भी है। फिल्म ने दूसरे हफ्ते में 112 करोड़ की कमाई  कर यह तो साबित कर ही दिया है कि  लोगों का रुझान थिएटर में  फ़िल्में देखना का बाकायदा बरक़रार है।
हम पैन्डेमिक के दौर से गुज़र रहे है फिल्म की सफलता को लेकर कोई  डाउट था आपके मन में ?
जी हां , इससे पहले हमने फिल्म ,”Bell bottom” में भी कोशिश की थी लेकिन बॉक्स ऑफिस पर इस फिल्म ने केवल 30-40 करोड़ तक की ही कमाई की थी। क्योंकि सब कुछ उस समय बंद था पर क्योंकि कोशिश करना अवश्य था सो हमने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी थी। सूर्यवंशी” के लिये मैंने और रोहित शेट्टी मिलकर कोशिश की और हमें सफलता मिल गयी।
Sooryavanshi
राइटर क्या होता है ?
दरअसल में राइटर ही स्टार होता है। यदि वो अच्छे डायलॉग ना लिखे तो हम क्या कर सकते है। मैं भी यही मानता हूँ कि कंटेंट और कहानी अच्छी हो तो फिल्म सफल होती है। लोग अलग अलग कहानी देखना पसंद करते है। और मैं भी अलग अलग किरदार और कहानियां करना पसंद करता हूँ। अभी सूर्यवंशी के बाद मेरी ,”अतरंगी” फिल्म आयेगी। और उसके बाद “पृथ्वीराज ” . राइटर ही स्टार होता है वह ही हमें बनाते है।
अक्षय कुमार की फिल्म में नाम भूलने की कहानी कैसे पैदा हुई इसके बारे में कुछ विस्तार से हमें बताएं ? 
दरअसल में कई मर्तबा मुझे कई के नाम भूलने की आदत है और यह बात रोहित शेट्टी और राइटर को मालूम है शायद वही से उन्होंने यह संवाद उठाया है।
आपको बॉक्स ऑफिस  प्रेशर रहता है  क्या? 
जी हाँ यही प्रेशर रहता है  की प्रोड्यूसर ने जो पैसे लगाए है वह रिकवरी हो पाएंगे या नहीं ? और अगली फिल्म बना पाएंगे ?  सो जब भी कोई फिल्म चुनता हूँ यही सब सोच का प्रेशर भी मुझे रहता है।
निर्देशन एवं राइटर को आपका क्रिएटिव इनपुट कितना रहता है ? 
मैं लगभग 10 से 12 दिन उनके साथ सवेरे 4 बजे से स्क्रिप्ट डिसकस करता हूँ। और सेट पर जाने से पहले हम सब कुछ निश्चित कर।
रोहित शेट्टी के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा ?
रोहित शेट्टी जब कुकू कोहली  के यहाँ क्लैप दिया करते और उनके साथ अस्सिटेंट रहे ,उस समय से मैंने उन को बेहद हार्ड वर्क करते देखा है। तब भी और आज भी बतौर निर्देशक वो सेट पर हमेशा खड़े रह कर ही काम करते है। उनकी मेहनत है जो उनकी फ़िल्में सफल हो रही है ।
sooryavanshi
पैन्डेमिक के दौरान आपने क्या सीखा ?
बस यही सीखा कि जीवन चलते ही रहना चाहिए। चाहे जो हो जाये हमें रुकना नहीं है। कई लोगों के अपने करीबी लोग नहीं रहे यह दुःख की बात है। पर क्योंकि लाइफ है हमें काम करते रहना है और जीवन को आगे लिये चलना है।
 फेडरेशन ऑफ़ वेस्टर्न सिने एम्प्लाइज सूर्यवंशी की सफलता एक जुट हो जशन मना रहे है। क्या कहना चाहिए सारी बॉलीवुड इंडस्ट्री एकजुट हो रहे है ?यह बहुत अच्छी बात है क्यूंकि हमारी इंडस्ट्री ने पैन्डेमिक  के समय में काफी कुछ देखा है। और आज अच्छा दौर आया है मेरा मानना है कि सभी बाकी इंडस्ट्री भोजपुरी,तमिल, तेलुगु कन्नडा भी बहुत अच्छा कर रही इस समय  जुट हो और खुशियां मनानी चाहिए।
– लिपिका वर्मा 

देखें सूर्यवंशी का एनीमेशन वीडियो, जिसे देख आप हो जायेंगे हँसते हँसते लोटपोट

SHARE

Mayapuri