फरीदा जलाल के बाग में अभी बहार भी है, और हर कली पर निखार भी है

1 min


कुछ पुरुषों और महिलाओं की कहानियाँ, विशेष रूप से जो सफल हैं वे कभी-कभी इस बात पर बहस करते हैं कि कौन अधिक शक्तिशाली है, ईश्वर या भाग्य या फिर दोनों। इस बहस का कोई निष्कर्ष नहीं निकला है, फरीदा जलाल जैसी दुर्जेय और बेहद प्रतिभाशाली अभिनेत्री के साथ, अभी भी एक्टिव हैं और लगभग पचास वर्षों से हैं।

-अली पीटर जॉन

यह जानना एक अजीब संयोग है कि उन्होंने अपने करियर की शुरूआत ‘तकदीर’ नामक फिल्म से की थी (इसे भाग्य कहें या किस्मत)। फिल्म की केवल एक चीज जो मुझे याद है वह है इसका सोंग ‘जब जब बहार आई और तारे मुस्कुराये, मुझे तुम याद आए’। इसमें फरीदा जलाल की अद्भुत प्रतिभा को खिलने का अवसर नहीं दिया गया।

लेकिन, उन्हें अपनी अगली फिल्म ‘आराधना’ में अपनी प्रतिभा को पूरा करने का अवसर मिला, जिसमें वह एक कलाकार का हिस्सा थीं जिसमें राजेश खन्ना और शर्मिला टैगोर भी शामिल थीं। राजेश, संयोग से, पुरुष फाइनलिस्ट थे और फरीदा फिल्मफेयर यूनाइटेड प्रोड्यूसर्स टैलेंट कॉन्टेस्ट में महिला फाइनलिस्ट थीं, लेकिन आराधना की सफलता और राजेश के साथ क्या हुआ और यह लगभग कैसे उपेक्षित रही फरीदा को, जो फिल्म की अग्रणी महिलाओं में से एक थी और राजेश के साथ उस डुएट को याद करना था जिसमें वह गाती है, ‘बागो में बहार है कलियो में निखार है’ और राजेश उसे उसी तरह के रोमांटिक जवाब देते है और गाना फरीदा के साथ खत्म हो जाता है। गीत एक चार्टबस्टर था, लेकिन यह राजेश के लिए अद्भुत था और फरीदा के लिए बहुत कम था। राजेश भारत के पहले सुपरस्टार बने और फरीदा सालों तक नायकों की बहनों की भूमिकाएँ निभाती रहीं और फिर अनगिनत फिल्मों में माँ और दादी की भूमिका निभाने में कामयाब रही।

उन्हें दो सौ से अधिक फिल्मों में काम करने के लिए कहा जाता है, लेकिन वह वास्तव में कितनी फिल्मों के लिए याद की जाती है? जस्ट पारस, हिना, मम्मो और डीडीएलजे। इस प्रकार इसका मतलब है यह कि उन्होंने उद्योग में अपनी लंबी पारी के दौरान कई भूमिकाओं के साथ न्याय नहीं किया है? हर्गिज नहीं। अगर वह अपनी भूमिकाओं के साथ प्रभाव नहीं बना पाती, तो क्या वह पचास साल तक काम कर पाती? कुछ सबसे बड़े सितारों और निर्देशकों से पूछें जिन्होंने उनके साथ काम किया है और वे बुरी तरह से लिखी गई और बुरी तरह से निर्देशित फिल्मों में भी उत्कृष्ट प्रदर्शन करने की अपनी क्षमता के बारे जानी जाती है। मैंने कई अग्रणी महिलाओं को इस बारे में बात करते हुए सुना है कि उनके साथ काम करने के दौरान वे कैसे असुरक्षित महसूस करते हैं, और मैंने निर्देशकों को उनकी प्रत्यक्षता के बारे में बात करते हुए भी सुना है। एक प्रमुख निर्देशक जो अब एक जीवित नहीं है, उसने एक और निर्देशक को बताया, फरीदाजी एक स्वादिस्ट थाली का सबसे मीठा हिस्सा है। और इसलिए फरीदा के लिए प्रशंसा के गीत, अभिनेत्री ने समय बीतने के साथ मीठा बढ़ाते रहे हैं। लेकिन, क्या वह कम से कम अन्य समकालीन अभिनेत्रियों के लायक नहीं थी? फरीदा जलाल जैसी अदाकारा इस तरह के सवाल उठाती रहती है और ऐसे ही सवालों को प्रेरित करती रहेगी जब तक प्रतिभा का सम्मान और बात की जाती है।

यह देखना दिलचस्प है कि फरीदा ने खुद को कैसे आविष्कार और पुनर्जीवित किया है। वह महिला जो प्रमुख महिलाओं में से एक हो सकती थी और होनी चाहिए थी, उसने सहर्ष बहनों की भूमिका निभाने के लिए चैलेंज स्वीकार कर लीं और जब भी उसने ऐसा किया, उन्होंने एक अमिट छाप छोड़ी जिसे आसानी से भुलाया नहीं जा सकता है। पारस और मजबूर में उनकी भूमिकाएं याद रखें (वह पहले में संजीव कुमार की बहन की भूमिका में हैं और दूसरे में अमिताभ बच्चन की) और यदि कोई आज भी उनके प्रदर्शन को देखता है, तो यह केवल उनके अभिनय की प्रशंसा और सम्मान के साथ होगा।

और यहां तक कि जब उन्हें अपनी विशेषता बदलनी पड़ी और पिछले पंद्रह या बीस वर्षों की कुछ सबसे महत्वपूर्ण फिल्मों में माँ और दादी की भूमिका निभाई, उसने पहले और नई पीढ़ी के सभी सितारों की सेना के बीच अपनी कीमती उपस्थिति महसूस की है।

उन्होंने ‘ये जो है जिंदगी’, ‘देख भाई देख’, ‘शर्त’ और कुछ धारावाहिकों जैसे जाने-माने टीवी सीरियलों में निभाए गए किरदारों में भी जान डाल दी है, जिन्हें केवल उनके कारण ही जाना और याद किया जाता है।

फरीदा जलाल एक ऐसा नाम है जिसे कोई यह कहने की हिम्मत नहीं कर सकता है कि वह उन्हें नहीं जानते है या नहीं जानते थे। यदि वे करते हैं, तो वे झूठ बोल रहे हैं और एक अभिनेत्री के साथ घोर अन्याय कर रहे हैं, जो सिर्फ एक बार जन्म लेती है।

इंडस्ट्री में उनके कई दोस्त हैं, लेकिन वह सायरा बानो के काफी करीबी हैं, जिनके साथ उन्होंने न केवल फिल्मों में काम किया है, बल्कि अलग-अलग सामाजिक कल्याण गतिविधियों में भी काम किया है। उन्होंने दिलीप कुमार की बहन का किरदार निभाया है, जो कहती है कि वह उनकी खूबियों को याद करते हैं, लेकिन यह कहने के लिए कि वह उनके साथ काम करेंगी भले ही वह एक ऐसा दृश्य था जिसमें उन्हें सिर्फ कोने में बैठना था और उन्हें देखना था।

और अब 72 साल की उम्र में (यह 14 मई को उसका जन्मदिन है) उन्हें एक ऐसी भूमिका मिली है, जो उन्हें एक अभिनेत्री के रूप में पूरी संतुष्टि देनी चाहिए जिसका उन्हें इंतजार था। और मैं आशा करता हूं और उनके लिए एक विशेष दुआ भेजता हूँ ताकि वह शाइन कर सके। क्या मैं भगवान को देख रहा हूं जो मुझे विश्वास दिलाया कि वह मेरी दूसरी दुआओं को सुन सकते है या नहीं, लेकिन वह इस दुआ को सुनने के लिए मजबूर हो जाएगे, क्योंकि मैं इनसे इस दुआ को अपनी पूरी आत्मा, मन और शरीर से मागुंगा।

और मैं क्या कहू फरीदा जी के बारे में, मैं बच्चा था जब मैंने “तकदीर” देखी थी, मैं जवान हो गया था जब मैंने ‘आराधना’ और ‘बॉबी’ देखी थी, मैं अब बूढ़ा हो गया हूँ और मेरी ख्वाइश है की मैं उनकी सबसे अच्छी फिल्म अब देखू, ताकि मैं खुदा से उनकी तारीफ करूँ।

अनु- छवि शर्मा

बागों में बहार है

अच्छा तो ये बात है

तुम भी सुन लो

जो जो सवाल मैं पूछूँ उनका सच-सच जवाब देना

डन? डन!

 

अच्छा, तो बागों में बहार है?

क्या?

मैंने पूछा, बागों में बहार है? हाँ है

कलियों पे निखार है? हाँ है

तो, तो तुमको मुझसे प्यार है

ना ना ना…

 

छोड़ो हटो, जाओ पकड़ो न बैंय्या

आऊँ न मैं तेरे बातों में सैंय्या

तुमने कहा है देखो, देखो मुझे सैंय्या

बोलो तुमको इकरार है? है!

फिर भी इनकार है? हाँ है

तुमको मुझसे प्यार है

ना ना ना…

बागों में बहार है…

 

तुमने कहा था मैं सौ दुःख सहूँगी

चुपके पिया तेरे मन में रहूँगी

वो सब कहूँगी लेकिन वो न कहूँगी

तुमको जिसका इन्तजार है? है

फिर भी तकरार है? है

तुमको मुझसे प्यार है

ना ना ना…

बागों में बहार है

 

अच्छा चलो, छेड़ो आगे कहानी

होती है क्या बोलो प्यार की निशानी

बेचैन रहती है प्रेम दीवानी

बोलो क्या दिल बेकरार है? है

मुझपे ऐतबार है? है

जीना दुश्वार है? है, है

आज सोमवार है?

अरे बाबा, है!

तुमको मुझसे प्यार है

है.. ना ना ना…

 

फिल्म– आराधना

कलाकार– राजेश खन्ना और फरीदा जलाल

गायक– लता मंगेशकर और मो. रफी

संगीतकार– आर. डी. बर्मन

गीतकार– आनंद बक्षी

 

SHARE

Mayapuri