गोयल का ‘एक महल हो सपनों का’

1 min


1

 

मायापुरी अंक 41,1975

निर्माता-निर्देशक देवेन्द्र गोयल को फिल्म ‘एक महल हो सपनो’ अशोक कुमार, धर्मेन्द्र, शर्मिला टैगोर और लीना चंदावरकर को लेकर बन रही एक विशुद्ध प्रेम कहानी है। लेखक मुश्ताक जलीली, गीतकार साहिर और संगीतकार रवि का योगदान इस फिल्म में उल्लेखनीय है। केकी मिस्त्री का भव्य छायाकंन फिल्म को ऊंचा बना कर प्रस्तुत कर रहा है।

जुलाई के प्रथम सप्ताह में फिल्म ‘एक महल हो सपनों का’ के प्रदर्शित किये जाने की संभावना है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये