गाली गलौच से भरी फिल्म ‘यारा सिली सिली’ को सेंसर बोर्ड से मिली मंजूरी

1 min


निर्देशक सुभाष सहगल 15 साल बाद फिल्म ‘यारा सिली सिली’ से निर्देशन में वापसी कर रहे हैं।

परमब्रत चटर्जी और पाउली दाम की मुख्य भूमिका वाली इस फिल्म की कहानी रेड लाइट एरिया और यौनकर्मियों के इर्द-गिर्द घूमती है।

फिल्म के डायरेक्टर सुभाष सहगल इस बात से काफी खुश हैं कि उन्हें इस फिल्म के लिए सेंसर बोर्ड से नहीं भिड़ना पड़ा।  सुभाष ने बताया कि फिल्म में इस्तेमाल होने वाली गाली-गलौच फिल्म में जरूरी थी। सुभाष ने कहा, “फिल्म की कहानी के मुताबिक उनकी आम भाषा को इस्तेमाल किए बिना फिल्म बनाना संभव नहीं था। हम डर था कि सेंसर बोर्ड इस पर क्या रिस्पान्स देगा।

ये फिल्म 30 अक्टूबर को सिनेमाघरों में प्रदर्शित होगी ।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये