वेटर, बस कंडक्टर और ट्यूशन टीचर से अभिनेता बनने तक का सफर

1 min


जोसेफ कैम्पबेल ने एक बार कहा था, ‘‘जुनून ही किसी इंसान को अपनी असफलताओं और कमियों से आगे निकलने की प्रेरणा देता है।’’ लाइफ ओके के शो ‘कलश…एक विश्वास’ के मुख्य कलाकार कृप सूरी ने इंडस्ट्री में आने से पहले बहुतों की तरह खूब ठोकरें खाई हैं। 15 साल की उम्र में अपने परिवार के लिए उन्होंने 10वीं कक्षा में अपने से कम कक्षा वाले विद्यार्थियों को ट्यूशन पढ़ाया। स्कूल की पढ़ाई खत्म करने के बाद उन्होंने मशहूर रेस्टोरेंट मैकडॉनल्ड में एक साल से अधिक काम किया ताकि वह दिल्ली में अपने कॉलेज की फीस भर सकें। अपने परिवार का भरण पोषण करने के लिए उन्होंने 500 रुपए प्रति शो के हिसाब से शादियों में डांस भी किया।

कॉलेज के बाद भी उनकी परेशानियां कम नहीं हुईं। कुछ दिनों तक उन्होंने बस कंडक्टर का काम किया। कहना गलत नहीं होगा कि अनजाने में ही कृप सुपरस्टार रजनीकांत और कैप्टन कूल एम एस धोनी के नक्शेकदम पर चल रहे थे जिन्होंने स्टारडम पाने से पहले कुछ समय तक कंडक्टर का काम किया था। इस फेज को याद करते हुए कृप कहते हैं, ‘‘मैं बचपन से अभिनेता बनना चाहता था। मुझे एक्टिंग क्लास लेने में बहुत अच्छा लगता लेकिन मेरे पास पैसे नहीं थे। तो मैंने जो भी अभिनय सीखा है वह फिल्मों को देखकर सीखा है। मैं हर परेशानी से आगे निकला क्योंकि अभिनय को लेकर मेरे अंदर जुनून था। अगर हम इतने मजबूत हैं कि हमें जो चाहिए उसके लिए संघर्ष कर सकें तो हम जिंदगी में कुछ भी हासिल कर सकते हैं।’’

SHARE

Mayapuri