बेरहमपुर – इस शहर के नियम हर किसी को डरा देंगे

1 min


लाइफ ओके का आगामी शो गुलाम

क्या आपने किसी ऐसी जगह के बारे में सुना है जहां पर औरत डोली में नहीं बोरी में आती है ? जहां बच्चे दूध की बोतल से पहले बंदूक उठा लेते हैं ? एक ऐसी जगह जहां औरतों के मायने बस इतने हैं कि तवे की रोटी ठंडी न हो और कुर्ते की काॅलर गंदी न हो। जहां का नाम सुन कर ही हर औरत की रूह कांप जाती हो ? ऐसी ही एक जगह है बेरहमपुर जहां क्रूरता ही इंसाफ है और समाज की ढेरों अनदेखी बुराइयां अब कायम हैं जिनसे हम आंखें मूंदे रहते हैं। लाइफ ओके आपके लिये लेकर आ रहा है अपना नया धारावाहिक गुलाम जहां बेरहमपुर का माहौल आपके होश उड़ा देगा।
लाइफ ओके के साथ सौरभ तिवारी निर्मित ‘गुलाम’ बेरहमपुर में राज कर रहे मर्दाें और वहां की बुराइयां झेल रही औरतों की कहानी पर रोशनी डालता है। यहां के मर्द अपने बनाये नियमों से सबको डराते हैं और ये ऐसी जगह है जहां कोई कानून और पुलिस अपनी मर्जी से नहीं जाना चाहते।
तैयार हो जाइये भारतीय टेलिविजन पर पहली बार ऐसा धारावाहिक देखने के लिये जो भारत की अपराध राजधानी बेरहमपुर से निकल कर सीधा आपके पास आ रहा है। भारत के अंदर का एक दूसरा भारत जहां असीमित पैसा, ताकत और दबंगई का ताण्डव होता है। कोई पिता नहीं चाहेगा कि उसकी बेटी की शादी इस शहर में हो। जहां औरतों का घर के किसी फैसले में कोई अधिकार नहीं होता और उन्हें घर के एक कोने में खामोश पड़े रहने वाला सामान समझा जाता है।
शो के मुख्य कलाकार परम सिंह उर्फ रंगीला कहते हैं, ‘‘आज के आधुनिक भारत में होने के बावजूद एक ऐसी भी दुनिया है, इससे हम दर्शकों को यहां की बेरहम सच्चाइयों से रूबरू कराना चाहते थे। यह किरदार मेरे लिये बेहद चुनौतीपूर्ण है क्योंकि किरदार के सही उच्चारण को साधने के साथ काफी एक्शन भी करना था। शो सास-बहू की कहानियों से आगे निकलते हुये अपने पुरुष दर्शकों के लिये भी एक कहानी लेकर आ रहा है जो हिंदी मनोरंजन के पैमाने को बेहद आगे लेकर जा रहा है।’’ इसी बात में अपनी आवाज मिलाते हुये निर्माता सौरभ तिवारी ने लाइफ ओके के साथ अपने सहयोग पर कहा, ‘‘शो की कास्टिंग, पटकथा, लोकेशन, प्रोडक्शन डिजाइन और इसकी गुणवत्ता आज के टेलिविजन शोज से बेहद आगे का मानक स्थापित कर इसे फिल्मों के स्तर तक ले जायेगी। हम इसे दर्शकों के सामने पेश करते हुये बेहद खुश हैं क्योंकि हमने पिछले 6 महीने इस शो पर लगातार बहुत मेहनत की है।’’
शो की प्रस्तुति बिल्कुल अलग, अनूठी और बेहद भव्य है जिसका निर्माण और बौद्धिक मूल्य भी इतने ही अनोखे हंै। इस कहानी को प्रशंसित लेखक राहिल काजी ने लिखा है जो ‘दो दूनी चार’ और ‘इक्कीस तोपों की सलामी’ जैसी फिल्में लिख चुके हैं। अपराध की राजधानी होने की वजह से इसमें बहुत से एक्शन सीक्वेंस हैं जिसके लिये प्रसिद्ध भारतीय स्टंट डायरेक्टर अमर शेट्टी की मदद ली गयी है। हैप्पी न्यू इयर, ओम शांति ओम और हालिया मोहेनजोदारो सहित 200 से अधिक फिल्में कर चुके अमर इसमें सबसे अलग और कमाल का एक्शन करने वाले हैं।
बेरहमपुर जैसे क्रूर शहर में हर कुछ यहां के रहने वाले लोगों द्वारा परम्परागत हो सकता है लेकिन इसी में एक ऐसा दिलेर और क्रूर खलनायक है जो भारतीय टेलिविजन पर अपने तरीके, नायकत्व और शो में अपने सफर से दर्शकों के दिल जीत लेगा।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये