मैंने “देव” को नहीं देखा, लेकिन मैंने देव आनंद में ‘‘देव’’ को देखा है

1 min


God lives inside the legendary dev anand

मैंने “देव”को नहीं देखा, लेकिन मैंने देव आनंद  में ‘‘देव’’ को देखा है

– अली पीटर जॉन

मुझे देव आनंद को याद करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि वह मेरे अन्दर मेरे साथ रहते हैं, मैंने ईश्वर (देव) को नहीं देखा है, लेकिन देव आनंद को करीब 40 वर्षों से बहुत करीब से जानने के बाद मुझे इस बात का एहसास है, कि ऊपर वहाँ  देव(ता) भी देव साहब के रूप की तरह सुंदर दिखते   होंगे और देव साहब की तरह उनका दिल और दिमाग खुबसूरत होगा।

‘आनंद’ में देव आनंद के साथ घंटों बिताने के अनुभव को महसूस करना खास हैं

God lives inside the legendary देव आनंददेव आनंद के बारे में बात करना एक रोमांच है, जिसे मैंने कभी किसी और के बारे में बात करते हुए अनुभव नहीं किया है, ‘आनंद’ में देव आनंद के साथ घंटों बिताने के अनुभव को महसूस करना खास हैं, मेरी मुलाकातों और उनके साथ बातचीत के बारे में लिखना एक पवित्र किताब के सबसे दिलचस्प पन्नों को लिखने जैसा है, और यह जानने की कोशिश है, कि मैं उनके महान जीवन के कुछ बेहतरीन पलों का साक्षी था, जैसा उनके साथ होना, जहाँ भी वह गा और नाच रहे है, और मनोरंजन कर रहे है और एक और दुनिया को आनंदित कर रहे हो, शाश्वत और सदाबहार देव आनंद को जानना एक आशीर्वाद की तरह था, जो हर किसी को नहीं मिलता है और मैं हमेशा देव आनंद को इस जीवन में देखे गए सबसे अद्भुत चमत्कारों में गिनता हूं। देव आनंद ने लोगों को यह विश्वास दिलाया है, कि उनके जैसा अनंत काल भी मर सकता है हालाँकि वह अभी भी लोगों के दिलों में बसते है, जो अब भी मानते हैं कि वे देव आनंद जीवित हैं।

मेरे पास यह मानने के अपने कारण हैं, कि देव आनंद भगवान की तरह थे, क्योंकि उनके पास वे सभी गुण थे, जो भगवान की सभी पवित्र पुस्तकों में वर्णित हैं, लेकिन यह साबित नहीं किया गया हैं और समय या सत्य की कसौटी पर खरा नहीं उतरा हैं…..

एक पूरा युग देव आनंद के नाम रहा

God lives inside the legendary dev anandदेव आनंद ऊपर के देव की तरह थे, और जब वे एक्शन में थे, और मैंने उन्हें अपने पेन्ट हाउस के ऑफिस में अपनी बड़ी कुर्सी पर खाली बैठे हुए देखा था, जिसने मुझे हमेशा यह एहसास दिलाया था, कि ऊपर के देव का महल देव के पेन्ट हाउस से प्रेरित रहा होगा। देव हमेशा आगे बढ़ रहे थे और यहां तक कि वह जिस समय में जी रहे थे, उससे भी आगे थे, उनके कुछ सलाहकार थे, जिन्होंने उन्हें समय के खिलाफ न जाने के लिए कहा और उन्होंने हमेशा कहा, “समय बहुत तेजी से दौड़ता है और देव उसे दौड़ में हरा नहीं सकते, मेरे पास खुद को रोकने के लाखो कारण हैं, और अगर मैं समय के साथ दौड़ नहीं लगाता तो और कठिन समय मुझे हरा देगा। दुनिया को अपनी गति से चलने दें लेकिन देव अपनी दौड़ को केवल उसी तरीके से चलाएगा जैसे वह चाहता है।”

देव देव थे, क्योंकि उनके बड़े दिल में हर एक के लिए जगह थी। देव ने इंडस्ट्री में और उसके बाहर सैकड़ों लोगों की मदद की होगी लेकिन उन्होंने कभी भी अपने परोपकार को दिखाने के लिए कुछ भी करने में विश्वास नहीं किया और कभी भी यह दावा करने के लिए कोई प्रयास नहीं किया कि वह लोगों की कैसे मदद कर रहे थे। क्या यह ऊपर वाले देव द्वारा की जाने वाली मदद की तरह नहीं था?

देव साहब के साथ मेरे सभी वर्षों में, मैंने कभी भी उन्हें किसी भी तरह से किसी के बारे में बुरा कहते हुए नहीं सुना था, यहां तक कि उनके आलोचको और प्रतियोगियों के बारे में भी, मैंने एक बार भी उन्हें किसी को बेवकूफ या मूर्ख कहते हुए भी नहीं सुना था, उनकी अपनी राजनीतिक विचारधारा थी, लेकिन उन्होंने इसे रचनात्मक व्यक्ति के रूप में अपने काम में इन्टरफेयर नहीं करने दिया। वह शायद एकमात्र ऐसे व्यक्ति थे जो फिल्म इंडस्ट्री का हिस्सा होने के बावजूद इससे बाहर थे।

क्या देव आनंद में चमत्कार करने की शक्ति थी? मैं केवल कुछ उदाहरण दे सकता हूं कि लोगों ने उनके चमत्कारों को क्या कहा। एक दोपहर, चार लोगों ने एक बेहद मोटापे से ग्रस्त महिला को उनके पेंटहाउस में बैठाया और वह उन्हें देख बुरी तरह से डर गई, पुरुषों ने उन्हें बताया कि डॉक्टरों ने उनके लिए उम्मीद छोड़ दी है, लेकिन मरने वाली महिला ने दृढ़ता से माना कि अगर वह देव आनंद से मिली और उन्होंने उन्हें छुआ, तो वह ठीक हो जाएगी, देव साहब ने उन्हें बताया कि वह बीमार महिला की तरह ही एक नार्मल इंसान थे और उनके लिए कुछ भी नहीं कर सकते थे, लेकिन पुरुष उनके सामने गिड़गिड़ाते रहे और देव साहब से कम से कम महिला को छूने के लिए कहा और मैं देव साहब की आंखों से आंसू बहते देख सकता था, जब उन्होंने अनिच्छा से उस महिला को छुआ और पुरुषों ने कहा था कि वे महीनों बाद पहली बार मुस्कुराई थी, वह लोगों पेन्ट हाउस से चले गए और बीस दिनों के बाद ही देव साहब के पेन्ट हाउस में स्ट्रेचर पर लाई गई वह महिला अब सीधी खड़ी थी और खूब मुस्कुरा रही थी, उसने देव साहब के पैर छूने की कोशिश की। लेकिन वह अपने पेंटहाउस से बाहर भाग गए थे।

एक अन्य अवसर पर, मैं एक पुराने निर्माता की पत्नी से मिला और दोपहर के भोजन के बाद, वह मुझे अपनी रसोई में ले गई और अलमारी खोली और देव साहब की एक पुरानी तस्वीर निकाली, और उसे अपने माथे से छुआ और मुझे बताया कि उनके पास चालीस से अधिक वर्षों से यह तस्वीरें थी, और जब भी वह दुखी या बीमार महसूस करती थी, तो वह इस तस्वीर को छूती थी और वह ठीक हो जाती थी।

अभिनेत्रियों ने हमेशा उन्हें माना और यहां तक कि उन्हें ‘भगवान का आदमी’ भी कहा और हेमा मालिनी और राखी जैसी अभिनेत्रियों ने उनकी किसी भी नई फिल्म की रिलीज के दिन मंदिरों में जाने का एक लक्ष्य बनाया था, और उनकी बहनों फरहा नाज और तब्बू ने हमेशा देव साहब को अपनी दुआओं में रखा है…..

और मैं एक ऐसे व्यक्ति के बारे में क्या कहू जिसे अलग-अलग समय में काम करने वाले सभी खलनायकों द्वारा प्रशंसा और प्यार किया गया था, जैसे विशेष रूप से प्राण, अजीत, जीवन, अमजद खान, अमरीश पुरी और नाना पाटेकर जिन्हें मैंने देव साहब से मिलवाया था, जो उनके पेन्ट हाउस में उनके चरणों में बैठ गए थे और पंद्रह मिनट तक रोते रहे क्योंकि उन्होंने कहा, वह विश्वास नहीं कर पा रहे थे कि वह अपने हीरो के साथ बैठे थे, और कमल हासन और रजनीकांत और यहां तक कि महान शिवाजी गणेशन के बारे में क्या कहेंगे जो उन्हें हैण्डसम यंग मैन कहते थे और उन्हें ‘भगवान का भेजा अच्छा आदमी’ भी कहते हैं।

और बाल ठाकरे, शरद पवार और अटल बिहारी बाजपेयी जैसे राजनेताओं ने यह कहते हुए रिकॉर्ड बनाया कि वह एक शैतान की दुनिया में आया एक संत आदमी था….

मैं उनके बहुत से अन्य पक्षों को जानने के लिए उसके बहुत करीब था, और मैं बहुत भाग्यशाली भी था।

जय देव, जय देव आनंद, जय देव मानूष, जय मेरे देव साहब…..

अनु-छवि शर्मा


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये