इंटरव्यू- ‘‘ये दिवाली मेरे लिए बहुत खास है’’ – गोविंदा

1 min


g3 ये दिवाली गोविंदा के लिए इसलिए अहम् हैं क्योंकि इस दिवाली के अवसर पर एक तो उनकी फिल्म ‘किल दिल’ से बॉलीवुड में वापसी हो रही है। दूसरे उनकी बेटी भी इसी वर्ष लांच होने जा रही है। और उनका बेटा लंदन फिल्म इन्स्टीट्यूट में कोर्स करने जा रहा है। आज और कल की दिवाली के विषय में क्या सोचते हैं गोविंदा। बता रहे हैं इस मुलाकात में।

॰ दिवाली को लेकर क्या सोचते हैं ?

– यही कि दिन किस तरह बदलते हैं। वो समय जब हमारे पास पैसे नहीं होते थे तो सोचते थे कि कैसे क्या किया जाये। दिवाली पर नये कपड़े कहां से लाये जाये, दिवाली मनाने के लिये बम पटाखों के लिये किससे पैसे लिए जाये। फिर एक वक्त ऐसा आया कि पैसा था, सब कुछ था लेकिन अपने परिवार के साथ दिवाली तक मनाने का वक्त नहीं था। उन दिनों मेरे पास फिल्मों का अंबार हुआ करता था। इसलिए मेरे पास वक्त नहीं था। यहां तक दिवाली पर भी मैं काम करता था।

॰ और आज ?

– आज समय है। और दिवाली के लिए तो विशेष तौर पर। क्योंकि एक अरसे बाद ये दिवाली मेरे लिए खुशियां लेकर आई है। एक तो यशराज बैनर की फिल्म ‘किलदिल’ से मेरी वापसी हो रही है। दूसरे मेरी बेटी नर्मदा गिप्पी ग्रेवाल के अपोजिट फिल्म से लांच हो रही है। और मेरा बेटा लदंन फिल्म इन्स्टीट्यूट कोर्स करने जा रहा है।

120243-govinda-with-wife-and-daughter-at-imran-khan-and-avantika-malik.jpg

॰ आप का परिवार काफी विशाल है। तो इस दिन क्या दिनचर्या रहती है ?

– मैं तो कुछ भी नहीं करता मेरी बहनें हैं, उनके पति और बच्चे हैं मेरी पत्नी सुनीता है। ये सारे मिलकर डिसाइड करते हैं कि दिवाली पर क्या कुछ किया जाये। वैसे हम सभी पहले एक साथ मिलकर पूजा पाठ करते हैं फिर एक दूसरे के घरों में भी लक्ष्मी पूजा करते है।

॰ बॉलीवुड में दिवाली के अवसर पर किस किस के यहां जाते हैं ?

– ये सब कल की बातें थी जब यार दोस्तों में एक दूसरे को हैप्पी दिवाली या मिलन मिलाने का आदान प्रदान हुआ करता था। अब तो ये सारे काम मोबाइल, फेसबुक या ट्वीटर पर ही हो जाते हैं।

॰‘किलदिल’ में आप विलन बन कर आ रहे हैं। आपके प्रशसंको पर इसकी क्या प्रतिक्रिया होगी?

– मैं एक एक्टर हूं और एक्टर कुछ भी कर सकता है। कल तक मैं हीरो था तो कुछ बंदिशें थी लेकिन ऐसा नहीं है। आज मैं कुछ भी कर सकता हूं। और मैं ही नहीं मेरे समकालीन कितने ही एक्टर हैं जो आज हर तरह के रोल कर रहे हैं। जैसे ऋषि कपूर अग्निपथ और एक दो और फिल्मों में नेगेटिव रोल कर चुके हैं।

॰ स्टारडम का सुख किस तरह एन्जॉय किया?

– मैं बहुत खुशनसीब हूं कि मुझे अपने स्टारडम को अपने माता-पिता की सेवा में यूज किया। मैं उनकी बहुत अच्छी तरह से सेवा कर पाया मेरे लिए इससे बड़ा सुख और कोई हो सकता। हमारे साथ मेरे मां बाप ने जितनी तकलीफें उठाई हैं वो मैं शब्दों में बयान नहीं कर सकता। और मैं नहीं चाहता कि ऐसी तकलीफें किसी को भी मिले।

॰ अपने संघर्ष को याद करते हैं ?

– मैं जिन दिनों स्ट्रगल कर रहा तो मेर जूते की एड़िया हर महीने घिस जाया करती थी तो जिस मोची से मैं अपने जूते ठीक करवाया करता था वो मुझ से पैसे ही नहीं लेता था। इसी तरह रौशन तनेजा ने भी मुझसे एक्टिंग कोर्स के लिए पैसे नहीं लिए, सरोज खान ने डांस सिखाने के लिये पैसे नहीं लिये, यहां तक एक बार मुझे बिना टिकट पकड़ लिया तो न जाने क्या सोच कर मुझे टिकट चैकर ने भी छोड़ दिया था। यही नहीं जिस होटल में मैं खाता था तो वो भी मुझसे पैसे नहीं लेता था, इसलिए मैं एक साथ बहुत खा जाता था। वो सारी बातें मुझे हर वक्त याद रहती है। क्योंकि जो सारी बाते ही मुझे जमीन पर रहने के लिए कल भी हेल्प करती थी और आज भी करती है।

॰ अभी कौन कौन सी फिल्में कर रहे हैं ?

– एक तो किलदिल ही है इसके अलावा एक फिल्म जग्गा जासूस है। और एक फिल्म हैप्पी एंडिग है।

g4


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये