गुलज़ार हीरो बने

1 min


img-20110818-00223

मायापुरी अंक 50,1975

गीतकार गुलज़ार फिल्मों में गीत लिखने आये थे। किंतु गीत लिखते लिखते संवाद लेखक और फिर निर्देशक भी बन गये और अब निर्देशक से हीरो भी बन गए हैं। पिछले दिनों उन्होंने बासु भट्टाचार्य की फिल्म ‘असमाप्त कविता’ के लिए मैकअप करके शर्मिला टैगोर के साथ शूटिंग भी की है। (याद रहे गुलज़ार और राखी में शर्मिला को लेकर काफी झगड़े हुए हैं, देखें गुलज़ार और शर्मिला की ‘असमाप्त कविता’ किस रंग में समाप्त करवाते हैं?


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये