जन्मदिन विशेष दारा सिंह: एक इंसान जिनके इंसान होने पर यकीन नहीं होता था बाकि इंसानों को

1 min


  • अली पीटर जॉन

मेरा मानना था कि, दारा सिंह अन्य इंसान की तरह आम इंसान नहीं हैं!

मुझे विश्वास था कि, उनके पास पूरी सेना से अकेले लड़ने की ताकत थी!

मुझे विश्वास था कि, वे सभी बुराईयों को हराने की शक्ति रखने वाले पुरुषों में अंतिम थे।

मुझे यह भी विश्वास था कि, वह हर फ्रीस्टाइल कुश्ती मैच में विजेता होंगें और मेरा विश्वास कभी टूटा नहीं।

मैंने अपनी माँ से एक रुपया की भीख माँगी और फिर अंधेरी स्टेशन चला गया, बिना टिकट के महालक्ष्मी के लिए ट्रेन से यात्रा की और वल्लभभाई पटेल स्टेडियम तक गया, मैंने एक रुपये का टिकट खरीदा और आखिरी पंक्तियाँ में बैठ गया जिनमें पत्थरों से बनी सीटें थीं और सब दारा सिंह के रिंग में प्रवेश करने का इंतजार कर रहे थे! मुझे पता था कि, वह किसी भी पहलवान या कितने भी पहलवानों को न सिर्फ खदेड़गें बल्कि उन्हें रिंग से बाहर भी निकाल देंगे!

मैंने पिछले दिन उनका मैच देखा था और सुनिश्चित किया था कि, वह जीतेंगे और उन्हांेने कर दिखाया जिसे जो हमने इंडियन एक्सप्रेस के आखिरी पेज पर देखा।

यह जानकर बड़ा रोमांचित हुआ कि वह ‘किंग कांग‘ नामक फिल्म में एक नायक की भूमिका निभाने जा रहे हैं। मैंने फिर अपनी माँ से भीख माँगी लेकिन इस बार दो रुपये मांगे और अंधेरी में उषा टॉकीज के बाहर सो गया ताकि मुझे पहले शो का टिकट मिल पाए! मैं पहला शो देखकर पहलवान बन गया था और अगले दस वर्षों तक, मैंने दारा सिंह की हर फिल्म देखी। बल्कि एक बार जब मेरी दसवीं कक्षा की परीक्षा चल रही थी और मुझे यकीन था कि मैं गणित के तीनों विषयों में फेल हो जाऊंगा, मैंने तब भी देखा।

एक बार मैं बस स्टॉप पर खड़ा था, जब मैंने उन्हें एक सफेद मर्सिडीज में यात्रा करते हुए देखा! वह शायद चांदिवली स्टूडियो जा रहे थे और उन पलों में मैंने जो महसूस किया उसे शब्दों में व्यक्त करना कठिन है।

मुझे याद है कि कैसे एक समय में और एक सप्ताह के दौरान दारा सिंह अभिनीत बाईस फिल्में पूरे बॉम्बे में दिखाई देती थीं, जिसमें ‘‘दारा सिंह‘‘ नामक एक फिल्म भी शामिल थी।

मुझे विश्वास था कि वह ‘बादशाह‘ नामक फिल्म में एक दृश्य के लिए छह हाथियों को खुद खींच सकता है। ऐसी कई फिल्में थीं जिनमें उन्होंने कई पहलवानों का मुकाबला किया और उन सभी को परास्त किया।

मैं उन्हें जानने के करीब आ रहा था। मैं ‘स्क्रीन‘ में काम कर रहा था और मुझे ‘रुस्तम‘ नाम की एक फिल्म की शूटिंग कवर करने के लिए भेजा गया था, जिसका निर्देशन भी वे ही कर रहे थे। मुझे उनसे उनके साले रतन औलख ने मिलवाया था और मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि मैं रुस्तम-ए-जमान (दुनिया के चैंपियन) से हाथ मिला रहा हूँ। वह मुझ पर इतने दयालु थे कि मुझे आश्चर्य होता था कि क्या वह वही दारा सिंह हैं, जिनकी मैं अपने छोटे दिनों में कल्पना करता था।

हम बहुत अच्छे दोस्त बन गए और मुझे पूरी दुनिया के सामने चिल्लाने और ‘द दारा सिंह‘ के साथ अपनी दोस्ती के बारे में बताने का मन हुआ।

उन्होंने मुझे माथेरान में “रुस्तम” की शूटिंग के लिए आमंत्रित किया। यहाँ हर उम्र के लोगों खासकर बच्चों की भारी भीड़ थी। लंच का समय था। हमारे लिए चटाई बिछाई गई थी। उन्होनें रोटियां, सब्जी और चिकन का एक टुकड़ा खाने के बाद एक सेब खाया। चारों तरफ सन्नाटा था। मुझे और पूरी भीड़ को विश्वास नहीं हो रहा था कि यह दारा सिंह का लंच है। हमने इस बारे में कहानियाँ सुनी थीं कि वे पूरे दो उबले हुए चिकन, बीस अंडे, कई रोटियाँ और अपने द्वारा तैयार किए गए पेस्ट से खा जाया करते थे और दोपहर के भोजन में अधिक और रात में उससे भी अधिक भोजन करते थे।

लेकिन यह आदमी दारा सिंह कैसे हो सकता है अगर उसके दोपहर के भोजन और मेरे दोपहर के भोजन में केवल एक सेब का अंतर हो? बहुत बाद में उन्होनें मुझसे कहा कि वे उतना नहीं खाते जितना लोग सोचते हैं। उन्होंने कहा कि अंतर केवल इतना है कि वह एक पेस्ट तैयार करते थे जिसे तैयार करने में घंटों लग जाते थे क्योंकि यह कई बकरियों के दिमाग से बना पेस्ट था। उन्होंने कहा कि उनकी एकमात्र कमजोरी दूध थी और वह एक दिन में एक बाल्टी दूध पी सकते थे। यह मेरे लिए एक और बड़ा झटका था।

उन्होंने एक बार मुझे महाराष्ट्र के भीतरी इलाकों में सांगली में आमंत्रित किया था और मुझे चेताया था कि हम ट्रेन से यात्रा करेंगे। हमने वीटी से ट्रेन ली, जहाँ भीड़ को विश्वास नहीं हो रहा था कि वे दारा सिंह को सफेद पायजामा और कुर्ता में अपना सामान ले जाते हुए देख रहे हैं। हम प्रथम श्रेणी के डिब्बे में आ गए (छोटी दया के लिए भगवान का शुक्र है!) नौ बज चुके थे और मेरा समय व्हिस्की के कुछ बड़े खूंटे डुबाने का था,

लेकिन मैं कल्पना भी नहीं कर सकता था कि दारा सिंह ने मुझे एक पेय की पेशकश की, लेकिन इससे पहले कि मैं कुछ सोच पाता, उन्होनें कोमल आवाज में कहा, “क्या अली हो जाये कुछ?” मैं उन्हें भगवान कह सकता था जब उन्होनें अपना बैग खोला और जॉनी वॉकर व्हिस्की की एक बोतल निकाली। वे इतने शौकीन थे कि वह हमारे पीने के सत्र के लिए गिलास और नाश्ता भी लाए थे।

मैं सबसे स्वस्थ और मजबूत आदमी के साथ व्हिस्की पी रहा था पर लोग व्हिस्की को बुरी चीज कहते थे, मैंने ये तब तक सोचा जब तक मैं सो नहीं गया लेकिन सोने से पहले मैंने रोटी, सब्जी और चिकन खाया जो वे अपने साथ लाए थे। मैंने क्या गजब का मेजबान पाया था।

अगली सुबह पूरे सांगली के लोग सड़कों पर थे। उनके अपने स्थानीय कुश्ती नायक, जिन्हें मारुति पहलवान कहा जाता था, ने जब खुद दारा सिंह के पैर छुए, तो मैंने लोगों को खुशी के आंसू बहाते हुए देखा।

हम अगले पच्चीस सालों तक दोस्त रहे। मैं एक बार अस्पताल में था और वह चाहते थे कि मैं उनकी बेटी की शादी के रिसेप्शन में शामिल होऊ। वे व्यक्तिगत रूप से डॉक्टर के पास आए और उससे कहा कि मुझे कुछ घंटों के लिए बाहर रहने की अनुमति दें और डॉक्टर दारा सिंह को ना कैसे कह सकता है?

उन्हें भगवान हनुमान का अवतार माना जाता था और मैं उन्हें एक क्रिस्टन स्कूल द्वारा आयोजित एक समारोह में ले गया और मैंने ‘जय हनुमान‘ के नारे लगाते हुए प्रिंसिपल और नन को भी सुना।

SHARE

Mayapuri