फिल्म ‘ हैप्पी न्यू ईयर’ रिव्यु

1 min


_MG_6978

फिल्म ‘ हैप्पी न्यू ईयर’ – बारह मसाले तेरह स्वाद

शाहरूख खान और फराह खान जब कोइ फिल्म बनाते हैं तो उसमें वो बारह मसालें तेरह स्वाद की तरह होती है । यानि उसमें सब कुछ होता है । दूसरे वो फिल्म ऐसी होती है कि उसे पूरा परिवार एक साथ बैठकर देख सकता है । फराह द्वारा निर्देशित ‘हैप्पी न्यू ईयर’ एक ऐसी ही फिल्म है जिसमें सारे ऐसे आकर्शक मसाले मौजूद हैं जिनका टेस्ट बड़े चाव से दर्शक लेता है ।

चार्ली यानि शाहरूख खान एक लुजर है जिसके पिता के साथ ग्रोवर यानि जैकी श्राफ ने धोखा दिया है। इस अपमान को वे बर्दाश्त नहीं कर पाते । इसलिये आत्म हत्या कर लेते हैं । अपने पिता की मौत का बदला लेने के लिये चार्ली अपने पिता के साथ काम कर चुके टैमी बोमन इरानी तथा जैक यानि सोनू सूद को साथ लेकर एक प्लान बनाता है बाद में इस प्लान में नंदू भिड़े ओर एक बार डांसर मोहिनी दीपिका पादुकोन तथा हैकर विवान शाह को भी शमिल कर लिया जाता है। ये सभी ‘दुबई में एक इन्टरनेशनल डांस प्रत्योगिता’ में शमिल होते हैं जबकि इन्हें डांस आता ही नहीं । होटल शालीमार में हो रही इस प्रत्योंगिता की ओट में ये ग्रोवर की तिजोरी से तीन सो करोड़ के हीरे कुछ इस तरह से चुराते हैं कि बाद में इल्जाम ग्रोवर और उसके बेटे पर आता है। इस तरह चार्ली ग्रोवर से अपने पिता की मोत का बदला ले लेता है ।

जैसा कि पहले भी बताया है कि शाहरूख ने ‘हैप्पी न्यू ईयर’ को एक ऐसी चमकदार आकर्शक फार्मूला फिल्म के रूप में पेश किया है कि उसकी चमक में दर्शक चकाचौध होकर रह जाता है। हांलीकि इस तरह की फिल्मक अस्सी के दशक में आया करती थी लेकिन फिल्म की डायरेक्टर फराह खान ने आधुनिक तकनीक ओर वीएफएक्स का सहारा लेते हुये उसे आज की फिल्म बना दिया है। अगर अभिनय की बात की जाये तो शाहरूख इस तरह की भूमिकायें पहले भी कई बार कर चुके हैं। उनके अलावा बोमन इरानी, दीपिका पादुकोण की प्रतिभा न के बराबर चूज की गई है और सोनू सूद तो अब मसल्समैन बनते जा रहे हैं । अभिशेक बच्चन ने अपनी डबल भूमिका के साथ खूब एंजॉय किया है । और विवान शाह के लिये ये अच्छा मौंका साबित हुआ। फिल्म हंसाती है थोड़ा बहुत इमोशनल करती है और रोमांच पैदा करती है तथा उटपटांग डांस से हास्य पैदा करती है जहॉं म्यूजिक की बात की जाये तो इंडिया वाले गाना पहले ही पॉपुलर हो चुका है इसके अलावा अन्य गीत भी ठीक ठाक हैं। अंत में यही कहा जा सकता है कि फिल्म में दर्शक को बारह मसाले तेरह स्वाद का एहसास होता है ।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये