जेपी सिंघल उन्होंने अपने कैमरे से बहुत ही खूबसूरत तस्वीरें बनाई हैं

1 min


अली पीटर जॉन

मैंने उनके बारे में पहली बार तब शुरू हुआ जब मैं  स्कूल में था वह साल दक्षिण और मुंबई दोनों जगह के कैलेंडर के बेस्ट पेंटर और फोटोग्राफर थे। उन्हें चेन्नई की फायर वर्क्स कंपनी और मुंबई के कुछ प्रमुख कंपनी जैसे प्रीमियर ऑटोमोबाइल्स कंपनी में कैलेंडर डिजाइनिंग के लिए जाना जाता था।

जेपी सिंघल स्टार बन गए थे जब उन्होंने बॉलीवुड सितारों की फोटोग्राफ्स लेनी शुरू की और उन्होंने बहुत से बड़े फिल्मों के लिए कैपेंस भी डिजाइन की है।

वह बहुत ज्यादा मशहूर हो गए थे जब उन्होंने लड़कियों की फोटो लेनी शुरू की और उन्होंने लड़कियों की नग्न तस्वीर भी ली है जो बाद में जाकर मॉडल, ब्यूटी क्वींस और स्टार बन गई। पर उन्होंने कभी लड़कियों की इन तस्वीरों को पब्लिसाइज नहीं किया। उनके वरली के स्टूडियो के बाहर फिल्ममेकर की लाइन लगी होती थी ताकि वो सिंघल से लड़कियों की फोटोग्राफ्स लेकर अपनी फिल्मों के लिए अभिनेत्री चुन सके।

सिंघल मेरठ से मुंबई आए थे और अपने कैमरे की वजह से वो अपनी दुनिया के बादशाह बन गए। उनका अपने स्टूडियो में एक खुद का वर्किंग रूम था जिसमें किसी की भी एंट्री की अनुमति नहीं थी,यहां तक कि बड़े-बड़े फिल्मेकर्स और स्टार्स तक कि नहीं। एक बार सुभाष घई जो अपने करियर की ऊंचाइयों पर थे वो उनके रूम में चले गए और उनकी स्टूल पर बैठ गए जब सिंगल अपने रूम में आए और उन्होंने यह देखा तो वो गुस्से से पागल हो उठे और उन्होंने सुभाष को ऑफिस से निकल जाने को कहा।  सुभाष घई को बहुत गुस्सा आया पर सिंघल को कोई फर्क नहीं पड़ा। इसी तरह की ईगो वाली लड़ाई उनकी और फिल्मेकर्स के साथ भी रही है।

सिंघल राज कपूर के लिए फोटोग्राफी करते थे और उनके सभी एड की डिजाइनिंग भी करते थे। एक दिन   सिंघल को पता चला  कि राज कपूर फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ के लिए अभिनेत्री की तलाश में है। तो उन्होंने ने एक लड़की की फोटो दिखायी जो मिस्टर एंड मिसेस  जोसेफ की बेटी थी। वो लोग भी मेरठ से ही थे।
फोटो देखते ही राज कपूर ने खुशी से उछलते हुए कहा कि, ‘यही है मेरी गंगा, इसका जो भी नाम है मैं इसे मंदाकिनी बुलाऊंगा’ और यहां से शुरुआत हुई मंदाकिनी के करियर की।

सिंगल का पेंटर एमएफ हुसैन के साथ बहुत ही अच्छा रिश्ता था और हुसैन अपने सभी ऐड्स की डिजाइनिंग सिंगल को दे देते थे। सिंगल की जीवन की एक सबसे बड़ी इच्छा यह थी कि वह अपने द्वारा खींची हुई  हुसैन की  सभी फोटो को एक किताब के लिए एकजुट करें और वह किताब सिंघल मुझसे लिखवाना चाहते थे। पर ऐसा कुछ हो पाता उससे पहले ही हुसैन को देश छोड़कर जाना पड़ा और उनकी मृत्यु हो गई कतर में और उसके कुछ ही महीने बाद सिंघल की भी मृत्यु हो गई।


मुझे एक  हास्यास्पद घटना याद है जब सुनील दत्त सिंघल के ऑफिस गए थे तब की । मैं उनके स्टूडियो में था और वहां सुनील दत्त आए थे। सुनील दत्त अपनी दो फिल्म जो वो बनाने वाले थे, मसीहा और अजंता उसकी बातें शुरू करने से पहले उन्होंने सिंघल से कहा, सिंघल साहब हमको भी कुछ अपने खजाने से कुछ दिखाओ’ (उनका मतलब था वो नग्न तस्वीरें जो सिंघल ने ली थी) पर सिंघल हर लड़की से यह वादा करते थे कि वो फोटो किसी को नहीं दिखाएंगे इसलिए उन्होंने वह फोटो नहीं दिखाई।
सिंघल ने एक ट्रेंड शुरू किया था जिसका अब मुंबई और बाकी शहरों के सभी लोग अनुसरण करते हैं।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज FacebookTwitter और Instagram पर जा सकते हैं.


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये