हिंदी सिनेमा को क्षेत्रीय फिल्मों से प्रेरणा लेनी चाहिए- शेखर कपूर

1 min


दिल्ली में 65 वें नेशनल फिल्म अवॉर्ड का ऐलान करते समय फीचर फिल्मों के निर्णायक मंडल के अध्यक्ष शेखर कपूर क्षेत्रीय सिनेमा से काफी प्रभावित दिखे और उन्होंने कहा कि हिन्दी फिल्मों को अपनी गुणवत्ता में सुधार लाना चाहिए।

दिग्गज फिल्मकार ने पुरस्कारों का ऐलान करते हुए क्षेत्रीय फिल्मों और खासकर मलयाली सिनेमा का जिक्र किया। उनसे पूछा गया कि क्या मुख्यधारा की फिल्मों और क्षेत्रीय सिनेमा में कोई अंतर रह गया ?

क्षेत्रीय फिल्मों की गुणवत्ता अद्भूत है

तो शेखर कपूर ने कहा, ”मेरे ख्याल से हिन्दी सिनेमा को क्षेत्रीय फिल्मों से प्रेरणा लेने की जरूरत है।” निर्देशक ने विजेताओं के नामों का ऐलान करते हुए कहा कि कुछ क्षेत्रीय फिल्मों की गुणवत्ता अद्भूत है और हिन्दी फिल्म उनसे मुकाबला नहीं कर सकते।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram पर जा सकते हैं.


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये