होली की धूम में धड़कनों को तेज करते ये माचो हैंडसम स्टार छोरे

1 min


होली की धूम जब बॉलीवुड की रौनक में चांद सूरज लगा देती है तो बस आलम में बला की गर्मी हर जवां या फिर थोड़े कम जवां हैंडसम माचो स्टार छोरों के रगों मे उछालें मारती दिखती हैं। तो चलें, जरा उनके रंगों की मस्ती में आप भी डुबकी लगा लीजिये।

अमिताभ बच्चन: अमिताभ सर बॉलीवुड के वो शहंशाह हैं जिनकी फिल्मों और होली के हुड़दंगी गीतों ने हिंदी फिल्म प्रेमियों को होली की मस्ती में मस्त करके रखा है। उनकी सुपर चर्चित फिल्में जैसे शोले (होली के दिन दिल खिल जाते है), सिलसिला (रंग बरसे भीगे चूनर वाली), बागबान (होरी खेलत रघुवीरा अवध में) के ये गीत हर साल होली की धूम मचाते हुए जोर शोर से बजते हैं। गंगा किनारे वाले इस छोरे से न जाने गंगा के तीर में कितने रंग इंद्रधनुषी हुए, होली त्यौहार का स्वागत करते हुए वे बोले, फाल्गुन के रंग में जब टेसू के फूल घुल जाये तो समझ लीजिए की होली की छटा अपने पूरे श्रृंगार में है। कैसे भूल सकता हूँ बचपन की होलियां जो माँ के आँचल और पिता की ऊँगली पकड़ कर खेली थी। कोई रंग लगाने मेरे पास दौड़ा आता तो डर के भागता था, घरवालों के समझाने पर एहसास हुआ कि इसमें कोई डर की बात नहीं फिर तो उम्र के साथ साथ होली से मेरी जो दोस्ती हुई, प्यार हुआ तो आज तक वो यारी बदस्तूर चली आ रही है। मेरी बहुत सारी फिल्मों में होली के दृश्य और गीत है जो आप सब जानते हैं। मैं भी होली के दिन वो सब गीत झूम के गाता हूँ। लेकिन इन दिनों एक बात जो मैं शिद्दत से महसूस कर रहा हूँ वो है देश में जगह जगह पानी की कमी। ऐसे में गीली होली खेलने पर खामोखा बहुत पानी जाया होता है। तो मेरे प्यारे सज्जनों और देवियों, प्लीज, कोशिश करें की होली सूखी ही खेलिए, मतलब गुलाल के साथ और पानी बचाने में सबकी मदद करें। पिछले चालीस सालों मे सबसे ज्यादा भयानक सूखा दो साल से जारी है। होली एन्जॉय कीजिये लेकिन पानी बचाके।

big-b-amitabh-bachchan

सलमान खान: होली की मस्ती की तो पूछो ही मत। हम सब इंतजार करते हैं होली का, बचपन के दिन याद आ जाते हैं और होली के दिन तो हमारा बच्चा ही बन जाने का जी करता है। जब छोटे थे तो सुबह से दोपहर तक होली के मस्ती में चूर होकर, उसी कलरफुल चेहरे के साथ साईकिल चलाते हुए पूरे बांद्रा की गलियों की सैर करते थे, अपने कई साईकिल सवार दोस्तों के साथ। अब मैं बच्चा तो नहीं रहा। फिल्मों में भी बिजी हो गया हूँ, लेकिन होली के दिन मैं पहले की तरह ही एन्जॉय करता हूँ। मूड हुआ तो रंगों में भीग कर भी निकल जाता हूँ साईकिल या ऑटो रिक्शा में, शहर की रंगीनियां देखने या फिर समुन्द्र किनारे अपने बहन और भाई के बच्चों के साथ खेल कूद में रम जाता हूँ। पिछली बार अपने परिवार के साथ मैंने अपने पनवेल स्थिति फार्म हाउस मे होली की पार्टी मनाई थी। मेरे कई अच्छे मित्र भी आये थे, इस बार भी बहुत जोश के साथ इंतजार कर रहा हूँ होली का। मैं पूरे मूड में हूँ, और होली त्यौहार का स्वागत करते हुए गाना चाहता हूँ। आज की पार्टी मेरी तरफ से।

salman-khan_640x480_71446719376

शाहरुख खान: जिंदगी है तो उसमें तमाम रंगों का मेला तो सजा ही रहता है। होली तो खुशियों का पैगाम लेकर आती है, जिसमें यह सन्देश होता है कि क्रोध द्वेष नफरत सब नेगेटिविटी को जला कर खुशियों के रंग से गले मिलो। यही एहसास दिल में जगाये मैं होली का त्योहार हर साल अपने घर एक पार्टी रख कर मनाता हूँ, अपने दोस्तों को न्योता देता हूँ, अपने दोस्तों की होली पार्टी में भी जाना बहुत अच्छा लगता है। मैं जिस तरह से अपने बचपन में अपने माता पिता को सब धर्मों के त्यौहार मनाते देखते हुए और हर धर्म के दोस्तों के साथ, हर त्यौहार में गले मिलते देखते हुए बड़ा हुआ हूँ, वैसे ही मेरे बच्चों पर भी अनेकता में एकता का संस्कार मिल रहा है। इस साल हम होली नही मनाएंगे, क्योंकि आप सबको तो मालूम ही है की कुछ ही दिन पहले मेरे आदरणीय ससुर जी का निधन हुआ है। जिंदगी का नाम यही है कभी खुशी कभी गम।

shahrukhkhan-jan30

संजय दत्त: हालांकि मैंने कभी खुद से इनिशिएटिव लेकर होली नहीं खेली और जहां तक हो सके रंगों की भगदड़ से बचता ही रहा, लेकिन इस बार मेरे दिल में खुशियों की बहार खिली हुई है, अपने परिवार, रिश्तेदार और दोस्तों के बीच लौटकर मैं जो खुशी अनुभव कर रहा हूँ वो कभी शब्दों से बयान नही कर सकता। मुझे और क्या चाहिए। हर पल मेरे लिये होली और दीवाली है अपने परिवार के बीच। इस बार की होली जरूर स्पेशल है मेरे लिए। मेरे सारे दोस्त मुझे मिलने आएंगे, मैं भी जाऊंगा। रंगों से खेलूं या ना खेलूं पर एन्जॉय तो जरूर करूँगा और फिर मेरे बच्चे मुझे रंगें बिना कहाँ मानने वाले हैं ? हैप्पी एंड सेफ होली आप सब पाठकों को। संजय दत्त को यूँ तो होली के सारे गाने पसंद हैं लेकिन एक गीत से उनका दिल से जुड़ाव लाजिमी है, ‘होली आई रे कन्हाई रंग छलके सुनादे जरा बांसुरी’ जो उनकी माताजी स्व. श्रीमती नर्गिस दत्त पर फिल्माया गया था।

23-Sanjay-Dutt (1)

रितिक रोशन: आज के वक्त में पानी की जो किल्लत है उसे समझते हुए हमें पानी की बर्बादी से बचना चाहिये। माना कि होली बहुत खूबसूरत त्यौहार है, पारम्परिक तौर पर गीले सूखे रंगों से होली सदियों से खेली जा रही है लेकिन वक्त के अनुसार थोड़ा बदलाव करने से होली की खुशी में कोई कमी नही आएगी बल्कि समाज के लिये अच्छा ही होगा। गीली होली से जितना खेलना था खेल लिया अब सूखे रंग वाले गुलाल से खेलकर आनंद मनाऊंगा। हमारे पास वो प्लेटफार्म है जिसके जरिये हम मास को कुछ समझाने की कोशिश कर सकते हैं। हैप्पी होली

hrithik-roshan-shoots-for-hi-blitz-magazine-nov-2013_138543518770

इरफान: होली त्यौहार जब बॉलीवुड में खेला जाता है तो विविधता में एकता की ऐसी मिसाल कायम होती है जो देखते ही बनती है। आज की बात नही, ऐसा तो हिंदी सिनेमा जगत में पीढ़ियों से चलता आ रहा है। मैंने तो सिर्फ सुना है कि रंगों का यह खूबसूरत पर्व किस उल्लास से मनता आ रहा है पृथ्वी राज कपूर साहब के जमाने और राज कपूर साहब के जमाने से, आर के स्टूडियो में। जिन्होंने खुद उन होलियों को एन्जॉय किया उनका अनुभव सुनने लायक जरूर है। पिछले कई सालों से मैं भी हिंदी सिनेमा जगत का हिस्सा हूँ और यहाँ की होली से रंगीन हो रहा हूँ। कई बार शूटिंग देश से बाहर या फिर दूर उत्तराखंड के जंगल मे होने के कारण होली खेल न पाने का अफसोस रहता है, पर कोशिश यही रहती है कि होली अपने परिवार, अपने घर अपने दोस्तों के बीच मनाऊं। ‘विश्व विख्यात कलाकार इरफान साहब की फिल्म ‘डी डे’ का वो होली गीत ‘मेरा मुर्शीद खेले होली’ सबको खूब पसंद है।

IrrfanKhan

रणबीर कपूर : फिल्म इंडस्ट्री में कपूर परिवार के किसी सदस्य से ये पूछना कि होली आपको कैसी लगती है यह आश्चर्य की बात है क्योंकि बच्चा बच्चा जानता है कि कपूर परिवार के लिये होली त्यौहार का क्या महत्व है। बचपन से मैं होली त्योहार खूब मनाता हूँ, उस दिन शूटिंग रखना पसंद ही नहीं करता। सुबह से होली की हुड़दंग में शामिल रहता हूँ। शाम को भी अलग महफिल लगती है। पहले सिर्फ मेरे दादाजी श्री राज कपूर जी की चेम्बूर वाले आर के स्टूडियो की होली की धूम दुनिया भर में मशहूर थी। उस जमाने की बेहतरीन होली का मजा हम चौथी पीढ़ी के कपूर नहीं लूट पाये। खैर अब तो कई कलाकार होली पार्टी अपने आँगन में रखते हैं। मैं भी शामिल होता हूँ। ईश्वर करे घर परिवार में सबकी सेहत ठीक रहे और हर बार की तरह इस बार भी होली की धूम मचा पाऊँ।

 

Ranbir-Kapoor

रणवीर सिंह : रणवीर सिंह के साथ होली की बात करते ही उनकी सुपर हिट फिल्म ‘रामलीला गोलियों की रासलीला’ की याद आ जाती है जिसमें वो होली गीत ‘लहू मुँह लग गया’ ने बेधड़क धूम मचाई थी। रणवीर कहते हैं ‘होली करीब आते ही मन में हलचल मच जाती है। कहीं होली वाले दिन शूटिंग का डेट न पड़ जाये क्योंकि मै जमके, खुलके होली खेलना पसंद करता हूँ, सुबह से शाम तक, अपने परिवार और दोस्तों के साथ। हाँ आजकल आर्गेनिक रंगों के साथ सूखी और सेफ होली का चलन चल पड़ा है। अच्छी बात है। पुरानी परम्पराओं में अगर सबकी भलाई के लिए कुछ मॉडिफिकेशन और अपडेट करना पड़े तो हर्ज क्या है। अब आप लोग शरारत की हद को पार करते हुए यह मत पूछना की किसके साथ होली खेलने की तैयारी कर रखी है। आप पूछो और मैं बताऊंगा ‘मम्मी पप्पा के साथ’

ranveer-singh_650_042314110605

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये