अंग से अंग मिलाना, सजन मोहे ऐसे रंग लगाना ‘होली में मचल रहे हैं छोटे परदे के ये बड़े कलाकार’, टीवी स्टार …

1 min


होली वाला धूम धड़ाका जितना बॉलीवुड में दिखाई देता है उससे कम छोटे परदे में नहीं होता है। शायद यही वजह है कि होली की रंगीनियत टीवी के कलाकारों पर भी ऐसी चढ़ी दिखाई देती है जो होली खत्म होने के कई दिनों बाद भी उनके अंगो में साफ चढ़ी दिखती है। तो चलिये देखें टीवी के ये मशहूर कलाकार होली के किस रंग मे डूबे हैं।

दिलीप जोशी – मुझे धारावाहिक ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में जेठालाल के रूप मे लोग इतना प्यार करने लगे हैं कि हर त्योहार मे बहुत लोग मुझसे मिलने आ जाते हैं और होली तो ऐसा त्यौहार है जब पराये भी अपने बनकर होली खेलते हैं। मुझे होली बहुत प्यारी लगती है और मैं उस दिन सबके साथ रंग खेलता हूँ। होली सिर्फ पानी भर भरकर गीला या सूखा रंग खेलने वाला त्यौहार नहीं है बल्कि अपने दोस्तों रिश्तेदारों और उन सबसे मिलने की एक रस्म है जिनसे हम अक्सर मुलाकात नहीं कर पाते। मैं हर साल गुजरात के भाव नगर के स्वामी नारायण मंदिर में फूलों के साथ होली खेलता हूँ। वहाँ हमारे साथ होली खेलने वाले बहुत लोग होते हैं और हम सब फूलों के साथ होली मनाने के बाद भजन कीर्तन गाते हैं। मेरी भी आप से रिक्वेस्ट है कि पानी बर्बाद न करते हुए आप लोग सूखे रंगों से होली खेलिए।

dilip-joshi

अंकिता लोखंडे – बचपन से मैं होली बहुत जोश खरोश के साथ खेलती थी। खूब मस्ती की है…. मैंने अपने मित्रों के साथ। होली के दिन जो हमारी गिरफ्त में फंसें, समझो उसकी तो वाट लग गयी। ऐसे कलर में रंग देते थे कि वो खुद अपने को आइने में पहचान नहीं पाता था। उन दिनों हम भर भर के गीले और सूखे रंगों में खेलते थे होली लेकिन अब जब देश भर में पानी की समस्या मुँह फैलाये खड़ी है तो हमें होली के खेल में पानी बर्बाद नहीं करना चाहिये। मैंने देखा है गुलाल के साथ मनाई गयी होली भी उतना ही आनन्द देती है जितना पानी वाले रंगों की होली। आप लोग अपने स्वास्थ्य और पर्यावरण को क्लीन रखने के लिये प्लीज आर्गेनिक रंगों से होली खेलिये।

20130530062344_Ankita-Lokhande

श्वेता तिवारी – होली मेरे फेवरेट त्योहारों में से एक है। क्या फर्क पड़ता है उसे पानी वाले रंगों से खेला जाए या सूखे गुलाल से, बहुत पुराने जमाने में होली फूलों से खेली जाती थी फिर आया गुलाल से होली मनाने का जमाना, फिर गीले रंगों का चलन शुरू हुआ। आज होली बैलून, पिचकारी और रेन डान्स के साथ मनायी जाती है। लेकिन वाकई अब पानी की किल्लत के बारे में सोच समझकर गीली होली नहीं खेलनी चाहिये। होली पर आप हजार और खुशियों का आनंद ले सकते हैं। मैं तो उस दिन अपनी फैमिली के साथ पूरे मूड में रंगीन हो जाती हूँ। सर से पाँव तक इंद्रधनुषी लगती हूँ और जम कर खाती हूँ मजेदार पकवाने और गुझियां। हैप्पी होली।

shweta-tiwari-parvarrish

करण सिंह ग्रोवर – आज जमाना स्मार्ट होता जा रहा है। आप पहले के जमाने के अनुसार एक ही ढर्रे में होली नहीं खेल सकते। वक्त की नजाकत को पहचानते हुए हमें ऐसी होली या फिर कोई भी त्यौहार मनाना चाहिये जिससे किसी को कोई तकलीफ नहीं हो। समाज और पर्यावरण को हानि ना पहुंचे और मजा भी जमकर आये। कंजर्विंग वॉटर हमारे लिए टॉप प्रायोरिटी में आता है। मैं अपने दोस्तों के साथ होली की पार्टी में खूब मौज मस्ती करता हूँ। सच पूछो तो होली खेलने का मजा तो सिर्फ अपने देश और अपने घर में ही आता है लेकिन कभी शूटिंग के सिलसिले में देश से बाहर जाना होता है तब भी मैं होली खेलता जरूर हूँ भले ही चार ही लोग हो खेलने वाले।

karan-singh-grover

रोहित रॉय – रंगों का त्योहार तो जावेद अख्तर साहब और शबाना आजमी जी के आँगन में जो छटा बिखेरता है वो नजारा देखते ही बनता है। मैं अपने परिवार के साथ जावेद साहब और शबाना जी के होली उत्सव में बरसों से शामिल होता रहा हूँ। बहुत आनंद, रंग, गुलाल, शेरों शायरी, कविता और बेहतरीन लजीज पकवानों के साथ हम सब करीबी दोस्त, मित्र, उस खूबसूरत महफिल में मनाते हैं होली जो साल भर हमें जोश उत्साह से लबरेज रखती है। कई बार हम अमिताभ बच्चन जी के होली उत्सव में भी शामिल हुए थे। आह! क्या जमघट, क्या रौनक होती है उनके आँगन के होली मेले में। रंग से ओत प्रोत होकर जब हम सब ‘रंग बरसे भीगे चूनर वाली’ की धुन पर अमिताभ जी के साथ डांस करते है तो होली का ऐसा समां बंध जाता है की बस, वो खुशी और आलम यादगार बन के रह जाता है। होली के दिन का इंतजार करते हुए आप सब को हैप्पी होली कहूँगा।

ROHIT-ROY-YOGEN

दृष्टि धामी – होली यानी होलिका दहन से लेकर ब्राइट कलर्स के रंग गुलाल, लिप समैकिंग फूड…, फुट टैपिंग म्यूजिक, घर की बनी गुझिया और ढेर सारी मौज मस्ती। मुझे क्लीन होली खेलना पसंद है। गंदे कीचड़, मिट्टी, सड़े अंडे, टमाटर वाली होली खेलना मुझे बिल्कुल पसंद नहीं। कुछ लोग ऐसी चीजों से होली खेलकर होली के आनंद और मस्ती को खत्म करने की कोशिश करते हैं। मैं आप सबको क्लीन, ड्राई एंड सेफ होली की ग्रीटिंग्स देते हुए कहना चाहती हूँ कि होली खूब खुशी से मनाइये और तन मन से रंगीन हो जाईये।

Drashti-Dhami-Photos

टीना दत्ता – आई लव दिस कलरफुल, ब्यूटीफुल फेस्टिवल। मैं जहां भी रहती हूँ, चाहे…. कोलकाता हो या मुम्बई, मैं होली अपने पेरेंट्स, ग्रैंड पेरेंट्स और करीबी रिश्तेदारों, बॉलीवुड, टॉलीवुड, और टेलीवुड यानि टीवी के दोस्तों के साथ जमकर मनाती हूँ। जब तक सर से पैर तक खुद रंग से सराबोर न हो जाऊं, और मेरे साथ होली की मस्ती में मस्त दोस्तों को रंग से ओतप्रोत ना कर दूँ तब तक होली का मजा ही नहीं आता है। कलर से डूबे तन मन के साथ तरह तरह के टेस्टी फूड पार्टी ज्वॉइन करने के बाद तब जाकर लगता है कि हाँ हमने होली एन्जॉय की है।

Tina-Dutta-images-hd

रूपल त्यागी – सात रंगों के मेले का यह त्यौहार हम सब को जॉय, शरारत, एन्थूजियाज्म से भर देता है और अगली होली तक हमें तरोताजा रख कर साल भर उत्साहपूर्वक काम करने की प्रेणना देता हैं। मैं बहुत बेसब्री से होली के दिन का इंतजार करती हूँ और उस दिन अपने को फ्री रखने के लिए सब पेंडिंग काम पहले से ही खत्म कर के रखती हूँ। मुझे अपने दोस्तों के संग होली का हुड़दंग मचाने में बड़ा मजा आता है। बचपन में हम जिस मौज मस्ती से खेलते थे होली, वैसा तो अब नहीं खेल पाते हैं, लेकिन फिर भी उस दिन फिर से एक बार हम बचपन को जी लेते हैं। हैप्पी रंगोत्सव।

Roopal-Tyagi-Hairstyles-3

अली असगर – ज्यादातर हम एक्टर अपनी शूटिंग के सिलसिले में बहुत व्यस्त रहते हैं इसलिए हमें अपने दोस्त रिश्तेदारों से मिलने और उनकी खैर खबर लेने का टाइम ही नहीं मिलता है, ऐसे में होली त्यौहार हमारे जीवन में एक रिलीफ और फ्रेशनेस लेकर आती है। जी हाँ, मैं अपने परिवार, रिश्तेदार और टीवी तथा फिल्म इंडस्ट्री के दोस्तों के साथ रंग उत्सव मे शामिल होता हूँ, पार्टी मनाता हूँ खूब मौज करता हूँ और रूटीन जिंदगी से एकदम अलग हटकर, एक दिन मस्ती, मूड और शरारत की जिंदगी जीता हूँ बेस्ट होली ग्रीटिंग्स आप सब को।

M_Id_397879_Ali_Asgar (1)

झलक देसाई – बस पूछो मत कि मैं किस बेसब्री से होली रानी का इंतजार कर रही हूँ। उस दिन मैं सुबह सवेरे उठ कर होली की तैयारी में लग जाती हूं, फ्रेंड्स को फोन करके निमन्त्रित करती हूँ और उनके घर होली पार्टी मनाने की भी तैयारी करती हूँ। बचपन से होली हमारे घर में बहुत धूम धाम से मनाती आ रही है। शाम तक मैं सतरंगी रंगों से सर से पैर तक ऐसा तर हो जाती हूँ कि पूरी इंद्रधनुष दिखने लगती हूं। मेरे पापा उस दिन होली खेलने से पहले और होली खेलने के बाद मेरी फोटो जरूर खींचते हैं। बचपन से ऐसा करते आ रहे हैं। आप सब को होली की ढ़ेर सारी मुबारकें।

IMG_20150406_233329


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये