मूवी रिव्यू: माइंडलैस कॉमेडी – हाउसफुल- 3

1 min


रेटिंग*

‘गोलमाल थ्री’, ‘रेडी’, ‘सिंघम’, ‘सिघंम टू’, ‘हाउसफुल टू’ तथा ‘बोल बच्चन’ जैसी फिल्मों के लेखक साजिद फरहाद द्वारा लिखित और निर्देशित फिल्म ‘हाउसफुल थ्री’ जैसी फूहड़ कॉमेडी देखने के बाद यकीन नहीं होता कि ये फिल्म उन्होंने ही लिखी और डायरेक्ट की है। हालांकि उनकी पहली निर्देशित फिल्म ‘एंटरटेनमेन्ट’ भी एक साधाराण कॉमेडी फिल्म साबित हुई थी लेकिन इस बार तो उन्होंने जैसे ठान रखा था कि दर्शक को ज्यादा से ज्यादा बोर कैसे किया जा सकता है।

housefull-3-photos

कहानी

बोमन इरानी यानि बटुक पटेल एक रिच आदमी है जो अपनी तीन बेटियों जैकलिन फर्नांडीज, नरगिस फाखरी तथा लिजा हेडन के साथ लंदन में रहता है। कहने को तो तीनों काफी संस्कारी हैं लेकिन असल में वे आज की फुल मॉडर्न तितलियां हैं। बटुक पटेल अपनी बेटियों की शादी के खिलाफ हैं क्योंकि वो एक झूठी भविष्यवाणी के तहत अपनी बेटियों को बताता है कि अगर उसके तीनों दामाद घर में पैर रखेंगे तो उसकी मुत्यु हो जायेगी। लिहाजा अपने पिता से छुप कर तीनों अपने ब्वायफ्रेंड्स अक्षय कुमार, रितेश देशमुख और अभिषेक बच्चन को लंगड़ा गूंगा और अंधा बनाकर घर ले आती हैं। ये तीनों भी बटुक की दौलत के चक्कर में हैं। इसके बाद कई टविस्ट एन टर्न आते हैं और फिल्म अपने अंत की और बढ़ती है।

Housefull-3-Movie-Stills-08

निर्देशन

इस बार साजिद फरहाद ने व्हाट्सअप और ट्विटर पर लिखे चुटकलों को लेकर सीन्स बनाये हैं जो हंसाने के बजाये खिजाने का काम करते हैं। ढ़ीली ढ़ाली पटकथा, घटिया संवाद के तहत फिल्म मुश्किल से एक या दो बार हंसाती है। हाईलाइट तो ये है कि दोनों ने कॉमेडी के नाम पर अमिताभ बच्चन और ऐश्वर्या राय का भी जमकर प्रयोग किया है। फोटोग्राफी कमाल की है लेकिन महज एक चीज फिल्म को नहीं चला सकती।

Riteish-Deshmukh-Picture

अभिनय

अक्षय कुमार और रितेश देशमुख ने अपने आपको दोहराया भर है। अभिषेक बच्चन बस ठीक रहे हैं। जैकलिन, नरगिस और लिजा को महज ग्लैमर के लिये रखा गया है। बोमन इससे पहले कितनी बार ये रोल दोहरा चुके हैं। इनके अलावा निकितिन धीर, समीर कोचर तथा ऑरब चौधरी भी हैं लेकिन उनका उपयोग नाम भर के लिये ही किया गया है। जैकी श्रॉफ ने एक डॉन के तौर पर बढ़िया काम किया। इन दिनों वो अपने रखरखाव पर ध्यान दे रहे हैं इसलिये अच्छे लगते हैं।

HF-7-750x500

संगीत

फिल्म में ढ़ेर सारे संगीतकारों का जमावड़ा है लेकिन एक भी ऐसा गीत नहीं जिसे गनगुनाया जा सके।

क्यों देखें

इस माइंडलैस कॉमेडी फिल्म से जितना बचा जाये उतना बचें। वैसे माइंडलैस कॉमेडी पर हंसने वाले दर्शकों को फिल्म निराश नहीं करेगी।

 

 

SHARE

Mayapuri