INTERVIEW!! मैं अपने बेटे टाइगर को बतौर एक्टर बढ़ता हुआ देखने के लिए उत्सुक हूं – जैकी श्रॉफ

1 min


डाउन टू अर्थ रहने वाले बाॅलीवुड एक्टर जैकी श्रॉफ को मैं तब से जानता हूं जब वह फिल्म ‘हीरो’ में काम किया करते थे। साथ ही उन्होंने अपनी जिंदगी को विनम्रता से जीया। जैकी श्रॉफ बेहद खुश है कि उन्हें आगामी एमआईएफएफ का ब्रांड एंबेसडर बनाया गया। (मुंबई अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव)

ज्योति वेंकटेश  

क्या आप अपने आज तक के करियर के आकार से खुश है?

मेरे पिता किकुभाई श्राॅफ गुजरात के हैं और मेरी मां मध्य एशिया की। मेरे माता-पिता ने हमेशा ही मुझे सही ढ़ग से जीवन को जीना सीखाया है। मैं तो यही कहना चाहता हूं कि वह मेरे जीवन में उनका स्थान भगवान से ऊपर का रहा है। मुझे किसी भी दिक्कत से नहीं जूझना पड़ा। मैंने अपने जीवन कभी भी एडवांस में योजना नहीं बनायी।

India Bollywood

आप मुंबई के प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय फिल्म, मुंबई अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह के ब्रांड एंबेसडर बने? आपको कैसा महसूस हो रहा है?

मैं बेहद खुश हूं कि मुझे, आईएफएफआई व एमआईएफएफ जैसे अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का मकसद ज्यादा से ज्यादा फिल्मों को प्रदर्शन करना है। हमारे अंदर नौ खूबसूरत भावनाएं है। एक सुंदर हार की तरह फिल्म को खूबसूरत बनाने के लिए फिल्म के निर्देशक फिल्मों को एक रूप देते हैं। फिल्में किस तरह से बाॅक्स-आॅफिस पर कमाल करती है यह तो फिल्म निर्देशकों पर निर्भर करता है।

बतौर एक्टर आप कभी भी किसा भी डाॅक्यूमेंटरी का हिस्सा नहीं बने? क्या आप डाॅक्यूमेंटरी देखते है?

मुझे आज भी याद है जब मैं छोटा था तब मैं अपनी मां के साथ थियेटर में डाक्यूमेंटरी देखने जाया करता था। वह मुझे बच्चे की तरह मोहित करते थे। जब हम डाक्यूमेंटरी देखते हैं तब हमें लोगों की समस्याओं का अहसास होता है।

जब आप पीछे मुड़ कर अपने तीस साल के आसपास के करियर व संपूर्ण अग्रणी व्यक्ति के रूप में फिल्म ‘हीरो’ में काम किये जाने को देखते हैं तो आपको कैसा लगता है?

मैंने जब अपने करियर की शुरूआत की थी तब देवसाहब जैसे दिग्गज अभिनेता ने मुझे सपोर्ट किया था। उन्होंने मुझे फिल्म स्वामी दादा में काम करने के लिए कहा जो कि सुभाष घई की फिल्म ‘हीरो’ से पहले की फिल्म थी। जहां तक करियर का सवाल है तो मैं नवजात के रूप में आज भी इससे दूर हूं। मुझे लगता है कि मैं थोड़ा बहुत ग्रो हुआ हूं, मैं खुद को एक मजबूत पेड़ बना रहा हूं। पेड़ के फल का लाभ अभी बाकी है। मैं अगर अपनी पहली फिल्म ‘हीरो’ से आखिरी फिल्म ‘ब्रदर्स’ तक की फिल्मों की बात करूं तो लगभग बत्तीस साल का मेरा अनुभव अच्छा भी रहा और बुरा भी।

tiger-jackie-shroff

आप एक ऐसे अभिनेता हैं जो सभी सीनियर्स का सम्मान करते हैं!

चाहे आॅन स्क्रीन कोई वरिष्ठ अभिनेता हो या कोई बुजुर्ग व्यक्ति जब मैं सेट पर पहुंचता हूं तब मैं सभी का सम्मान करता हूं। मनोज कुमार, आशा पारेख जैसे लेजेंड सीनियर्स मेरे दिल के करीब हैं। जब भी मैं उनके सामने जाता हूं मैं कभी भी ड्रिंक व स्मोक नहीं करता। मैं आज कल के यंगस्टर्स जो रातों रात स्टार बन जाते हैं उन्हें यही कहता हूं कि अपनी फिल्में हिट होने के बावजूद मनोज कुमार, आशा पारेख जैसे लेजेंड ने कभी भी खुद पर अभिमान नहीं किया।

बहुत ही कम लोगों को यह पता है कि आपने मराठी और तमिल सहित लगभग नौ क्षेत्रीय भाषा की फिल्मों में काम किया है?

हां यह सच है कि मैंने 9 अलग अलग भाषाओं की फिल्मों में काम किया है। मुझे हर फिल्म में काम करने में मजा आया। रितुपर्णा घोष की बंगाली फिल्म ‘अंतर महल’,  मलयालम फिल्मों ‘जमाना’, ‘प्लेटफार्म नंबर-1’, ‘अथिस्यान’, मराठी फिल्म- रीता, ‘हरूदायांथ’, ’ उपकार दूदअच्छे’, तेलुगु फिल्म- ‘शक्ति’, तमिल फिल्मों ‘अरण्य कांदम’, ‘कोचादायान’, कन्नड़ फिल्मों- ‘सी / ओ फुटपाथ’, ‘अन्ना बाॅण्ड’, पंजाबी फिल्मों ‘लक्की दी अनलकी’ स्टोरी’ व ‘मम्मी पंजाबी’ व उडि़या फिल्म ‘दया बालुंगा’ इत्यादि।

gh

आपका अगला प्लान क्या है?

मैं चूहों की रेस का हिस्सा नहीं हूं। मैं अपने बेटे टाइगर को बतौर एक्टर बढ़ता हुआ देखने के लिए उत्सुक हूं। मेरी आने वाली फिल्में हाउसफुल- 3, पंजाबी फिल्म सरदार साब व अनंत महादेवन के जीवन पर आधारित गुजराती फिल्म है। साथ ही मैं फिल्म्स डिवीजन के लिए डाॅक्यूमेंटरी व शाॅर्ट फिल्म बनाने की प्लानिंग भी कर रहा हूं।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये