INTERVIEW: मुझे किसी भी चीज का लालच नहीं है – ऋचा चड्ढा

1 min


 

लिपिका वर्मा

आज के जमाने में जितनी भी अभिनेत्रियां है कई सारी अभिनय के साथ साथ अपना खुद का प्रोडक्शन हाउस भी खोलने के लिए आतुर हो चली है। प्रियंका चोपड़ा, फिर अनुष्का शर्मा और अब इन्ही के पदचिन्ह पर चल रही है ऋचा चड्ढा। ऋचा फिल्मी दुनिया में अपना एक ऐसा मुकाम बना चुकी है जिसे देख एक नहीं अपितु कई लड़कियों के लिए यह प्रेरणा स्त्रोत हो चली है। इनकी छोटे बजट की फिल्में रही हो लेकिन सब फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर कमर्शियल न होते हुए भी सेमी कमर्शियल की श्रेणी में शामिल हुई है। हाल में रिलीज हुई फिल्म ‘मसान’ ने तो पूरे ग्लोब पर धमाल मचा दिया।… कान्स में भी फिल्म ‘मसान’ को स्टैंडिंग-ओवेशन उत्साह पूर्ण स्वागत, मिला है। ऋचा अपनी शार्ट फिल्म ‘खून आली चिट्ठी’ टाइटल फिल्म के सिलसिले में कुछ मीडिया कर्मियों से मिली –

पेश है ऋचा से लिपिका वर्मा की अनन्य बातचीत के कुछ अंश –

आप ने खून वाली चिट्ठी सबसे पहले किसे लिखी थी।?

मैंने खून वाली चिट्ठी कभी नहीं लिखी है। सबसे पहले तो मैं यह आपको बता दूँ -मेरा खून मेरे लिए बहुत ही कीमती है। और भला मैं किसी  के लिए अपना यह कीमती खून क्यों जाया करूँ।

अपने फिल्म प्रोडक्शन में पदार्पण करने की बात कैसे सोची?

दरअसल में हमारे पास एक बहुत ही बेहतरीन स्क्रिप्ट थी और हमने उसे एक शार्ट फिल्म में बदलने की सोची। मेरे भाई को भी म्यूजिक का शोक है और हमारे निर्देशक रूपेन्दर इंदरजीत भी हमें अच्छे मिल गए। ऊपर से हमें यू-ट्यूब  पर हमारी फिल्म डिस्ट्रीब्यूट करने के लिए भी अच्छे  वितरक मिल गए है। बस यह सब मिलने की वजह से यूँ ही प्यार मोहब्बत से हमारी फिल्म बन गयी।

फिल्म क्या है कुछ बतायें?

यह कहानी लगभग लेट – 80/90 की दशक को दर्शाती हुई एक दिल को छू जाने वाली कहानी है। एक तरफ राजनैतिक दबदबा था। सरकार की दशा एवं पुलिस की क्रूरता भी कुछ हद तक दर्शायी गई है इस शार्ट फिल्म में। किन्तु सही मायने में यह एक बहुत ही अच्छी रोमांटिक कहानी  है।  एक युवा जवान गबरू – एक लड़की से बेइंतहा  मोहब्बत करता है। और हमेशा बैठ कर उसे खून से भरी चिठ्ठी लिखना चाहता है। फिर कभी सोचता है केवल खून से उस चिठ्ठी पर दस्तखत ही कर दे। जब भी वह ब्लेड लेने की कोशिश करता है, बस वही डर कर रुक सा जाता है। किन्तु वह ऐसा कर नहीं पाता है। बाकी तो आप फिल्म देख कर जानियेगा।

केवल 26 वर्ष की उम्र में ऋचा फिल्म प्रोड्यूस कर रही है, क्या कुछ समझी प्रोडक्शन के बारे में?

बस छोटे बजट में यह शॉर्ट फिल्म बनाई है, मेरा बतौर अभिनेता नजरिया बदल गया है। ऐसा नहीं है कि मेरे कंधे मजबूत नहीं है? दरअसल में मेरे कंधे बहुत मजबूत है सो में किसी और के कंधे पर रख कर निर्माण का बोझ नहीं डालना चाहती थी। और यह भी बता दूँ ऑडियन्स क्या चाहती है कब किस फिल्म को बॉक्स ऑफिस हिट मिल जाये, यह आज तक हमारी समझ में नहीं आया है। थोड़ा बहुत बजट और निर्माण के बारे में कुछ ज्ञान तो मिल ही गया है।

आपने रॉयल स्टैग के प्लेटफार्म पर क्यों फिल्म रिलीज करने की सोची ?

मुझे किसी भी चीज का लालच नहीं है। और इनके पास एक मजबूत प्लेटफॉर्म है सो मैं क्यों अपना यू-ट्यूब बनाने में समय लगाऊं। क्योंकि मैं बतौर अभिनेत्री काफी व्यस्त रहती हूँ और इन सब चीजों के लिए पूरा समय देना होता है।आगे चल कर यदि बड़े पर्दे के लिए फिल्म बनानी होगी तो सोच सकती हूँ।

आप सिल्वर स्क्रीन पर कब फिल्म प्रोड्यूस करेंगी? आपकी पीढ़ी के लोग काफी होशियार है क्या आप ऐसा मानती है ?

देखिये, यह बात आपकी जरूर सही है कि  हमारी पीढ़ी के लोग होशियार है, अपना फ्यूचर सिक्योर रखने के लिए काम कर रहे हैं। किन्तु अभी मैं इतनी भी बड़ी नहीं हुई हूँ कि- मुझे सही मायनो में बॉक्स ऑफिस हिट का फार्मूला मालूम हो  गया हो। बॉक्स ऑफिस हिट का फार्मूला तो सिर्फ तीन खानों के पास ही है -शाहरुख, सलमान और आमिर खान- वह जो कुछ भी ले कर सिल्वर स्क्रीन पर आते है बॉक्स ऑफिस पर हिट ही जाती है उनकी फिल्में। और इन में डायरेक्टर राजू हिरानी का नाम भी शामिल है जिनके पास भी  हिट फिल्में बनाने का फार्मूला है। मुझे तो हिट फिल्मों का फार्मूला और ऑडिएंस की नर्वस नाड़ी, समझने में अभी बहुत समय लगेगा।

आगे ऋचा कहती है -हिंदी फिल्मों का हिट फार्मूला बिल्कुल भारतीय इलेक्शन की तरह ही होता। जिस तरह हमें बॉक्स ऑफिस पर कौन-सी फिल्म लोगों को पसंद आएगी नहीं मालूम पड़ता है उसी तरह कौन-सी राजनीतिक पार्टी जीत जाये और कैसे वह पार्टी सत्ता में आकर सरकार बना लेती है अंत तक नहीं मालूम होता है उसी प्रकार फिल्मों की सफलता और असफलता अंत तक नहीं मालूम की जा सकती है।

ऋचा सिंगल है शादी कैसी होगी ‘अरेंज्ड मैरिज’ या फिर लव मैरिज?

आपको यह बता दूँ मेरे माता-पिता की शादी भी अरेंज्ड नहीं हुई थी। उन्होंने भी लव मैरिज ही की थी – हालांकि अभी मैंने शादी के बारे में विचार नहीं किया है। अब वह लव मैरिज भी हो सकती है। इस बारे में आगे कभी विचार आया तो आप लोगों से जरूर शेयर करुँगी। हां यह जरूर है कि मेरे माता पिता मुझ पर किसी प्रकार का दवाब नहीं डालेंगे यह तो निश्चित ही है।

 आज के अभिनेता मीडिया को जवाब क्यों नहीं देते है किसी भी अन्य सवाल पूछे जाने पर यही  कह देते है – इस प्लेटफोर्म पर जवाब नहीं दे सकते हैं?

देखिये आपका हक है सवाल पूछने का। और हमारी इच्छा है जवाब दे या न दे। मेरा ऐसा मानना  है कि जो कुछ भी हम बोले, क्योंकि लोग उसे फॉलो करते हैं, तो हमें उस विषय पर अच्छी खासी जानकारी होनी चाहिए। कुछ भी बिना जाने समझे बोल दे तो हमारे लिए गलत साबित हो सकता है। अब देखिये सुबह 4 बजे एक टी वी चैनल का रिपोर्टे बजट के बारे में पूछता है -जब मैंने उसे कहा अभी बजट रिलीज ही नहीं हुआ है तो कहता है – फिर बजट से आपकी क्या उम्मीद है? रिपोर्टर को खुद मालूम नहीं था की बजट रिलीज ही नहीं हुआ है। तब मैंने उसे कहा-क्या मैं फाइनेंस  मिनिस्टर हूँ? जो आपको इस सवाल का जवाब दे  सकती हूँ। वह तो चैनल पर चला नहीं -क्योंकि मैं सच बोल रही थी। और ऐसा भी नहीं है कि- हॉलीवुड एक्टर्स ट्रोल नहीं किये जाते उन्हें भी ट्रोल किया जाता है। मुझे जवाब देने में कोई एतराज नहीं किन्तु अपना मत देने के पहले कम से कम मुझे उस विषय पर कुछ तो जानकारी होनी चाहिए?

 

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये