‘मेरे लुक्स में कोई नुक्स निकालता है तो बुरा लगता है’- सोनाक्षी सिन्हा

1 min


आज जब भी सोनाक्षी सिन्हा सामने आती है तो उन्हें देखते ही हमें साठ या सत्तर के दशक की हीरोइनो का चेहरा सामने आ जाता है यानि ‘सोना’ बाॅलीवुड की इकलौती ऐसी नायिका है जो पूरी तरह भारतीय नारी का प्रतिनिधित्व करती है। उनकी ताजातरीन फिल्म का नाम है ‘तेवर’। इस फिल्म को लेकर क्या कहना है सोनाक्षी का।

BkO-xNVCQAMNAG-

कैसा लगता है जब आपको बाॅलीवुड की ऐसी हीरोइन कहा जाता है जो पूरी तरह से भारतीय लगती है ?

मेरी लिये तो ये अच्छी बात है। लेकिन तब मुझे बुरा लगता है जब लोग कहते हैं कि मुझे विदेशी परिधान सूट नहीं करते। मैं एक अभिनेत्री हूं जिसे हर तरह की भूमिकायें निभानी पड़ती हैं उसके लिये उसे वैसा ही लुक सेट करना पड़ता है। अब अगर उस वक्त कोइे मेरे लुक में नुक्स निकालता है तो मुझे बहुत बुरा लगता है।

लगातार रिलीज हो रही फिल्मों से ओवर एक्पोज होने का डर नही लगता ?

अगर ऐसा है भी तो मैं कुछ नहीं कर सकती, क्योंकि फिल्म की रिलीज मेरे हाथ में नहीं है ऐसा सिर्फ कुछ बड़े स्टार ही कर सकते हैं। वरना किसी भी फिल्म को रिलीज करना प्रडयूसर के हाथ में होता है।

‘तेवर’में किस तरह की भूमिका है ?

यहां में आगरा में रहने वाली एक लड़की हूं जिसे देखते ही होम मिनिस्टर का बाहुबली भाई मनोज बाजपेयी जो सारे गलत धंधे करता है प्यार करने लगता है और मेरे मना करने पर भी मुझसे शादी करना चाहता है। इसी दौरान हम दोनों के बीच एक ऐसा शख्स ‘अर्जुन कपूर’ आ जाता है जो मुझे मनोज से बचाता है।

अपने पिता की उम्र के दोस्त रजनीकांत के साथ फिल्म करने की क्या वजह थी ?

कुछ कलाकार ऐसे होते हैं जिन्हें लीजेन्ड कहा जाता है। उनके साथ मेरे जैसी नई लड़की का काम करना अपने आप में एक अचीवमेन्ट है। रजनी सर साउथ में एक अभिनेता से कहीं ज्यादा हैं। बतौर हीरोइन उनके साथ काम करने की बात है तो आज भी वे एक यंग हीरो की तरह अपने काम को उसी जुनून के साथ अंजाम देते हैं जो बीस साल पहले देते थे। इसलिये मुझे उनके साथ काम करते भी ऐसा ही लगा जैसे मैं अजय देवगन या अक्षय कुमार के साथ काम कर रही हूं।

अर्जुन कपूर के साथ काम करना कैसा रहा ?

मुझे बडी उम्र के हीरोज की यंग हीरोइन कहा जाता है। और आज तक उनके साथ काम करते हुये कभी कोई दिक्कत नहीं आई लेकिन अपने हमउम्र नायक के साथ काम करने का अलग ही आंनद होता है आप उसके साथ ढेर सारी ऐसी बातें कर सकते हो जो सलमान, अक्षय या अजय देवगन जैसे नायकों के साथ नहीं कर सकते। फिल्म लुटेरा में रणबीर सिंह जैसे हम उम्र हीरो के साथ काम कर चुकी हूं, अब अर्जुन के साथ काम करते हुये भी काफी मजा आया।

सुना है इस बार आपने भी फिल्म के कुछ दृष्यों में ढिशुम-ढिशुम की है ?

बेशक। लेकिन मैने वो एक्शन नहीं किये जिसमें ढेर सारे गुंडों से मारपीट करनी पड़ती है। जबकि फाइट मास्टर ने कुछ ऐसे दृष्यों के लिये मेरे डबल का इंतजाम किया हुआ था, लेकिन मुझे लगा कि वह सीन मुझे ही करने चाहिये।

आपने इस बार फिल्म में गाना भी गाया है ?

तकनीक आज इतनी मॉडर्न हो चुकी है कि उसके जरिये कोई भी गा सकता है। वैसे अभी तक आलिया भट्ट, प्रियंका चैपड़ा तथा कुछ और हीरोइनों ने अपनी फिल्मों में गाया है। प्रियंका के तो बाकायदा एलबम रिलीज हुए हैं लेकिन इसके बाद हीरोइनों से सभी गवाने लगे। मुझे गायिकी में कुछ भी नहीं आता। लेकिन फिल्म में मुझसे गवाने की गुजारिश की गई तो मुझे गाना पड़ा ।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये