मुझे हर सीरियल में अलग अलग किरदार निभाने के अवसर मिले: अल्पना बुच

1 min


टीवी सीरियल में अभिनय करने वाला कलाकार जहां हर दिन सीरियल की शूटिंग में व्यस्तता के चलते कोई दूसरी सीरियल या वेब सीरीज वगैरह नहीं कर सकता। वहीं फिल्मों में अभिनय करने वाले कलाकार दूसरी फिल्म, विज्ञापन फिल्म वेब सीरीज या म्यूजिक वीडियो में अभिनय कर धन कमा सकता है। इस दृष्टिकोण से किसी डेली सोप सीरियल में अभिनय करते हुए उसके प्रति समर्पित होते ही कलाकार बंदिश में जकड़ जाता है। लेकिन राजन शाही के सीरियल ‘अनुपमाँ’ में अभिनय कर रही वरिष्ठ अदाकारा अल्पना बुच इस बात से सहमत नहीं है। उनकी राय में यदि कलाकार का भाग्य साथ दे और वह समय निकाल सके तो वह भी डेली सोप के साथ कुछ दूसरे काम भी कर सकता है। अल्पना बुच इससे पहले ‘सरस्वतीचंद्र’, ‘उड़ान’, ‘रूप – मर्द का नया स्वरूप’ और ‘बाल वीर’ जैसे कई सीरियलों में अपने अभिनय का जलवा विखेर चुकी हैं।

प्रस्तुत है इसी संदर्भ में उनसे हुई बातचीत के अंश

टीवी सीरियल के कलाकार के लिए दूसरे काम करना संभव नही होता?

जी हॉ! फिल्म और टेलीविजन पूरी तरह से अलग-अलग माध्यम हैं। एक टेलीविजन धारावाहिक दर्शकों के लिए एक चैनल की दैनिक प्रतिबद्धता है। इसलिए, हम एक अभिनेता के रूप में, एक दैनिक धारावाहिक के हिस्से के रूप में, व्यावहारिक रूप से किसी अन्य पेशेवर प्रतिबद्धता को पूरा नहीं कर सकते हैं। हालांकि, हम कुछ छोटी विज्ञापन फिल्में एक दो दिन का समय निकाल कर लेते हैं। यह भी भाग्य और समय पर निर्भर करता है।

लेकिन टीवी सीरियल में अभिनय करते हुए कलाकार टाइप कास्ट हो जाता है?

मैं मानती हॅूं कि भारतीय टेलीविजन में एक अभिनेता के रूप में हम एक ही किरदार को लंबे समय तक निभाते हैं और हमारे चयन के लिए बहुत अधिक गुंजाइश नहीं होती है। मैंने अपने अनुभव से यह देखा है कि हमारे टीवी दर्शक आम तौर पर एक देखना पसंद करते हैं। अभिनेता लंबे समय तक एक निश्चित सांचे में रहता है, इसलिए टीवी करने वाले अभिनेता के लिए टाइपकास्ट होना आसान होता है। लेकिन भगवान का शुक्र है कि आज तक मुझे अपने सभी सीरियल में हमेशा अलग-अलग किरदार निभाने को मिले हैं।

आप किस आधार पर किसी सीरियल में अभिनय करने के लिए तैयार होती हैं?

मैं कहानी और किरदार पसंद आने पर ही किसी भी सीरियल में अभिनय करने के लिए हामी भरती हूँ। कहानी के साथ ही किरदार भी सशक्त होना चाहिए। अब तक मैं हमेशा भाग्यशाली रही हूँ कि कलाकार के तौर पर मुझे बेहतरीन किरदार निभाने के मौके मिले। लेकिन एक कलाकार के तौर पर सीरियल ‘अनुपमाँ’ में मेरा लीला का किरदार मेरे दिल के सबसे करीब है। क्योंकि इसने मुझे वह प्रसिद्धि और संतुष्टि दी। जिसकी एक कलाकार को हमेशा इंतजार रहता है।

एक कलाकार के लिए अपने निजी जीवन की कितनी बातें सार्वजनिक करनी चाहिए?

यह सेलेब्रिटी पर निर्भर करता है कि वह कितनी अधिक या कितनी कम बात करना चाहते हैं। देखिए, किसी भी पेशे के दो पहलू होते हैं। खासकर जब एक सार्वजनिक हस्ती, एक पेशेवर पक्ष और एक व्यक्तिगत पक्ष होता है। इसलिए यह एक व्यक्तिगत निर्णय है कि एक समय के बाद अपने निजी जीवन के बारे में खुलासा न करें और इसे सीमित करें। मीडिया लिखेगा या केवल वही बताएं जो आप बताते हैं। लेकिन अब तक, मीडिया के साथ मेरा व्यक्तिगत अनुभव उत्कृष्ट रहा है और मैं वास्तव में मेरे काम की सराहना करने के लिए उनकी आभारी हूं।

SHARE

Mayapuri