मैंने अमित जी के साथ चार फिल्में की है-रूमी जाफरी

1 min


फिल्म, “चेहरे” रूमी जाफरी द्वारा निर्देशित यह मिस्ट्री थ्रिलर जॉनर की फिल्म है। श्री अमिताभ बच्चन जो की एक किरदार निभा रहे है। इस फिल्म में उनका लुक उनकी पिछली फिल्मों से बहुत अलग है। रूमी जाफरी ने उनके लुक को अलग किया है। फिल्म “चेहरे “ से निर्देशक रूमी को बहुत उम्मीद बंधी है। यह फिल्म आनंद पंडित पिक्चर्स  द्वारा निर्मित एवम सरस्वती एंटरटेनमेंट  प्राइवेट लिमिटेड के साथ 27 अगस्त, 2021  को सिनेमा घरों में रिलीज़ होने को है।

 फिल्म,“चेहरे” थिएटर में? रिलीज़ है, निर्देशक रूमी कितने उत्सुक है?

“चेहरे” थिएटर में रिलीज़ होने को है, इसका श्रेय हमारे निर्देशक को जाता है। यह फिल्म  हमने थिएटर रिलीज़ के हिसाब से ही बनाई  थी। अब हम बहुत खुश है कि आखिरकार चेहरे  सिनेमा घरों में अपना परचम फहराने को तैयार  है। मैंने अपनी जर्नी में कमर्शियल फ़िल्में बहुत बनाई है। फिल्म “चेहरे“ एक थ्रिलर है और इससे मैं अपनी पुनर्रचना कर रहा हूँ। अलग जॉनर बनाना सभी को पसंद हैं। भी इस फिल्म के रिलीज़ के बाद निर्माताओं को मेरे इस हुनर का भी ज्ञान हो जायेगा। अब बहुत दिनों बाद लोग थिएटर में फिल्म  देखने पधारेंगे उन्हें एक अलग अनुभव मिलेगा। बस आशा करता हूँ लोग करोना  के सारे प्रोटोकॉल फॉलो कर सिनेमा घरों में हमारी फिल्म देखने जरूर आएं। थिएटर कभी भी नहीं मरने चाहिए क्योंकि थिएटर में मजा कुछ और है।

 अमिताभ बच्चन को फिल्म,“चेहरे” में डायरेक्ट करना कैसा अनुभव रहा?

मैंने अमित जी के साथ चार फिल्में की है। दो फ़िल्में लिखी है और दो निर्देशित की है। पहली फिल्म ,“गॉड तुस्सी ग्रेट हो“इसमें अमितजी और सलमान खान है, उसे मैंने ही डायरेक्ट की थी। और अब ,“ चेहरे” डायरेक्ट की है। अमितजी के सतह काम करना अविश्वसनीय है। बस अपनी तरह जिंदगी उन्हें डायरेक्ट करता रहूं यह मंशा रखता हूँ। उनका काम करने का ढंग अतुलनीय है। इतने बड़े स्टार होने के बावजूद वह बहुत ही अनुशाशित है। उनका इन्वोल्वेमेंट बहुत रहता है ।बहुत ही निष्ठां से अपना काम निभाते है। आज के समय को दिमाग में रख कर अमित जी के लिए हमें ढेरों रिसर्च करनी पड़ी। उनका एक वकील का किरदार है। सो हमने उनकी पहले की फिल्मों से एक- एक फोटो निकाल कर दीवार पर लगाया  और फिर उनका अद्भुत लुक तैयार किया। स्क्रिप्ट अमित जी को मस्तिष्क में रखकर लिखी गयी। उसके बाद उनके चरित्र चित्रण में क्या कुछ अलग कर सकते है इस पर हमने बहुत मेहनत भी की। आज पोस्टर देख कर जब उनके लुक को सराहना मिलती है, कमेंटस मिलते है तो बहुत ख़ुशी मिलती है। यह  लुक अलग तो है किन्तु हमने डायलॉग्स भी कुछ अलग लिखें है ताकि लोगों को अमितजी के किरदार में फर्क नजर आये और अच्छा भी लगे।

 अमित जी का क्या प्रतिक्रिया थी किरदार करते हुए?

जब आप पोस्टर देखते हो तो, ऐसा  लगता है कि अमित जी की आंखे सीधे आप के दिल में उतर गयी हो। उन्होंने इस किरदार को पसंद किया। एक गाना भी लिखा गया है, निभाया भी है, यह सब पहली बारी किया है उन्होंने। हम दोनों में एक अच्छी बॉनिं्डग भी है, अतः उन्होंने मुझे सपोर्ट किया और कहा जो भी जॉनर आप बनाना चाहते है मैं आपके साथ हूँ। हम दोनों साहित्य में रूचि रखते है सो लिटरेचर डिस्कस करलेते है हम कभी। कभी कोई अच्छी शायरी शेयर कर  लेता हूँ।

आगे रूमी कहते है,“ हम सभी उनको देख कर बड़े हुवे है।उनकी स्पीच भी बेहद प्रभावी होती है। उनके भीतर का सहित्यकार आसानी से देखा और पढ़ा जा।

 सुना ही अमित जी ने एक बहुत बड़ा डायलाग जो क्लाइमेक्स में है केवल 14 मिनट में पूर्ण का लिया?

अमित जी अपने काम में इतना मशगुल रहते है कि पूछो मत। मैं सेट पर क्लाइमेक्स सीन को दोबारा लिख रह था ,क्यूंकि में हस्त लेखन कर उसे तैयार  कर के फिर टाइपिंग के लिए भेजने की तैयारी में लगा हुआ था। कुछ समय बाद अमितजी इतने बेसब्र हो गए की कमरे में अंदर जा कर मेरे असिस्टेंट से पूछने लगे-और कितनी देर में यह पूर्ण करोगे आप? प्लीज जल्दी कीजिये।

आगे रूमी ने बतलाया,“जैसे ही उनके हाथ में क्लाइमेक्स सीन आया उन्होंने उसे तुरंत याद कर लिया। और यह सीन केवल एक टेक में ही पूरा कर लिया। सेट पर सभी के लिए यह एक अचंभित कर देने वाला अनुभव रहा। हालांकि मैंने टेक ओके भी कर दिया किन्तु अमित जी ने एक और टेक लेने को कहा। उनका यह टेक बोनस टेक होगा और सेफ्टी के लिए ले लिया जाये,ऐसा कह कर उन्होंने यह टेक भी हमें दिया।

SHARE

Mayapuri