मुझे कभी नहीं पता था कि मैं कॉमेडी में इतना अच्छा हूं – रोहित शेट्टी

0 6

Advertisement

ज्योति वेंकटेश

इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल आफ इंडिया गोवा का अंत ब्लॉकबस्टर डायरेक्टर रोहित शेट्टी के साथ हुआ। सीनियर जर्नलिस्ट और फ़िल्म क्रिटिक मयंक शेखर ने  ने रोहित शेट्टी का इंटरव्यू लिया। रोहित शेट्टी ने कहा है, ‘ मैंने यहां 12 फिल्मों की शूटिंग की है। 14 साल पहले मैंने यहां गोलमाल की शूटिंग की थी । यहां के लोग बहुत सकारात्मक है। यहां का लैंडस्केप भी बहुत सुंदर है।

गोलमाल का सफर कैसे शुरू हुआ ?

मैं अजय देवगन के साथ एक फिल्म बना रहा था, जब नीरज वोरा मेरे पास आए। उन्होंने कहा कि मैंने एक प्ले लिखा है क्या आप उस पर फिल्म बनाना चाहेंगे? मैं अजय के पास गया और और उनसे कहा कि, मैं थ्रीलर फिल्म नहीं बनाना चाहता हूं ।मैं अब इस पे फिल्म बनाना चाहता हूं। अजय ने कहा कि आप एक ऐक्शन डायरेक्टर हैं, मैं एक एक्शन एक्टर हूं और आप कॉमेडी बनाना चाहते हैं? पर फिर वो मान गए। उस वक्त ये मेरे लिए रोजी-रोटी का सवाल था क्योंकि मेरी पहली फिल्म ‘जमीन’ ने अच्छा बिजनेस नहीं किया था। रोहित शेट्टी के इंटरव्यू के कुछ अंश

कौन-कौन से डायरेक्टर्स की फिल्में देखकर आप बड़े हुए हैं?

मनमोहन देसाई, विजय आनंद। मैं बचपन  से लार्जर दैन लाइफ वाली फिल्में देखता हूं। मुझे सिनेमा में बहुत विश्वास है। टिकट की रेट बहुत ज्यादा है। मैं  दर्शकों को एंटरटेनमेंट देने का पूरा प्रयास करता हूं क्योंकि वो मुझे अपनी मुश्किल से कमाए पैसे देते हैं। मुझे सभी तरीके का सिनेमा पसंद है।

रोहित शेट्टी

आप अपने पिता ( एक्टर मास्टर शेट्टी) के साथ सेट पर जाया करते थे। आपने कब सोचा कि आपको भी इस इंडस्ट्री में काम करना है?

मैं अपने पिता के साथ अक्सर सेट पर जाया करता था। मेरा पहला आउटडोर एक्सपीरियंस शालीमार के सेट पर जाना था। मुझे हमेशा से लगता था कि मैं यही करना चाहता हूं। मैं एक्शन डायरेक्टर बनना चाहता था अपने पिता के जैसा। मैं जब 16 साल का था तब से मैंने अपने करियर की शुरुआत की । मैं स्कूल के बाद कभी कॉलेज नहीं गया। मैंने अजय की सभी फिल्मों को असिस्ट किया है। मैं वीरू (देवगन) जी का असिस्टेंट था।

आप यंगर जेनरेशन को क्या कहना चाहेंगे?

आप हमेशा एक विद्यार्थी की तरह रहें। हमेशा ऑबजर्व करते रहना चाहिए क्योंकि हर किसी में कुछ ना कुछ खास बात होती है। अगर कोई किसी ऊंचाई पर पहुंचा है तो यह इसलिए है क्योंकि वो उसके योग्य होगा। वीरू जी से अमित जी अमित जी से लेकर अजय इन सब की काम करने की लगन को देखिए।मैं मानता हूं कि अगर आपको ₹100 दिया जा रहा है आपको  हजार रुपए का काम करना चाहिए। हर दिन आपको भगवान का शुक्रिया अदा करना चाहिए और कोई भी चीज  मजाक में नहीं लेनी चाहिए।

रोहित शेट्टी

आपने अपने पिता को बहुत कम उम्र में  ही खो दिया। ये कितना मुश्किल रहा है?

बहुत मुश्किल था. जब आप सफल हो जाते हैं तो यह एक कहानी बन जाती है। मेरी मां के पास मेरे स्कूल फीस देने के भी पैसे नहीं थे। पर मैं हमेशा जीवन के प्रति सकारात्मक रहा हूं और किसी को कभी किसी भी चीज के लिए मैंने ब्लेम नहीं किया है। मुझे लगता है कि किसी को ब्लेम करने से कुछ सुधरता नहीं है, इसलिए हमेशा आगे बढ़ते रहो।

जब आपकी पहली फिल्म नहीं चली तो आपको कैसा लगा?

अगर आपकी कोई फिल्म नहीं चलती है तो आपको बुरा लगता है। अब लोग कहते हैं कि ‘जमीन’ अच्छी फिल्म थी। तो मैं सोचता हूं, अरे तभी तुम कहां थे (हंसते हुए) .

क्या आपने कभी सोचा था कि आप कॉमेडी में इतने अच्छे हैं?

मुझे बिल्कुल नहीं पता था कि मेरे अंदर यह ( कॉमेडी) है।

रोहित शेट्टी

सिंघम के बारे में बताएं.

मैं कॉमेडी  फिल्में बना रहा था और सब अच्छी चल रही थी। तब मैंने सोचा कि मैं एक ही तरह की फिल्में तो नहीं बना रहा। मैंने इसके बारे में  अजय से कहा। अजय ने कहा अगर आपके पास कोई एक्शन वाली स्क्रिप्ट है तो मुझे बताएं। और इस तरह से सिंघम की शुरुआत हुई।

आप एक्टर्स और टेक्नीशियन के लिए बहुत कुछ करते हैं जिनके पास अब काम नहीं है।

सिर्फ मैं ही नहीं ,बहुत से लोग उनकी मदद करते हैं। वो सामने आकर बताते नहीं है। आज तक मेरे फिल्म के सेट पर सबसे छोटी टीम 250 लोगों की रही है।  कुछ लोग जो मेरे पिता के साथ काम करते थे वो मेरे साथ भी काम कर रहे हैं। लोग पूछते हैं इतने सारे लोग तुम्हारे सेट पर क्या कर रहे हैं और मैं कहता हूं, कुछ लोग काम करेंगे,कुछ लोग दुआ देंगे।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज FacebookTwitter और Instagram पर जा सकते हैं.

Advertisement

Advertisement

Leave a Reply