मैं हर काम पूर्णता के साथ करने की कोशिश करता हूँ-विजय कश्यप

1 min


तीन दशकों से भी अधिक समय से अभिनय जगत में कार्यरत वरिष्ठ अभिनेता विजय कश्यप ने  टीवी और फिल्मों दोनों माध्यमों पर विभिन्न भूमिकाएँ निभाते हुए अपनी अभिनय प्रतिभा का उत्कृष्ट प्रदर्शन कर किरदारों को जीवंतता प्रदान करते आए हैं। यहां उनके सभी अब विजय कश्यप सीमा और सुधीर शर्मा निर्मित सीरियल “जिद्दी दिल माने ना” में नजर आने वाले हैं,जां कि 30 अगस्त से ‘सोनी सब’ टीवी पर आने वाला है।

सीरियल ‘‘जिद्दी दिल माने ना’’ का प्रोमो जारी हो चुका है। प्रोमों को जिस तरह से दर्षकों ने पसंद किया है, उससे विजय कश्यप काफी खुश हैं। अपने चरित्र के बारे में बात करते हुए विजय कश्यप ने कहा- “मैं इसमें एक सेवानिवृत्त सेना के कर्नल की भूमिका निभा रहा हूं, जिन्होंने अपने करियर में शीर्ष सम्मान प्राप्त किए। वह अपने काम में एक दूरदर्शी और अनुकरणीय रहे होंगे और इसका मतलब है कि वह अपने काम में बहुत ईमानदार और असाधारण रहे हैं। और मैं अपने वास्तविक जीवन में भी यही करता हूं, मैं चीजों में उत्कृष्टता प्राप्त करने की कोशिश करता हूं, भले ही यह खाना बनाना हो, मैं इसे पूर्णता के साथ करने की कोशिश करता हूं। आप पूर्ण नहीं हो सकते हैं लेकिन आप पूर्ण के करीब हो सकते हैं।”

वह आगे कहते हैं- “फिर वह बहुत अनुशासित आदमी है और मैं भी वही हूं। साथ ही, वह शारीरिक रूप से फिट है, और 70 साल की उम्र में भी मैं बहुत फिट हूं। मैं रोजाना टहलने जाता हूं, मैं योगा और सब कुछ करता हूं। और जब आप किरदार को परदे पर देखेंगे,आप व्यक्तित्व को बाहर आते देखेंगे।”

दिग्गज अभिनेता ने कहा कि वह जीवन भर एक सैनिक रहे हैं और वह “वैचारिक रूप से” अपने चरित्र से पूरी तरह से संबंधित हैं। वह कहते हैं- “मैं राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय से हूं,जिसने हमें एक सैनिक की तरह बनना व रहना सिखाया। इसके अलावा मैं वर्षों तक एनसीसी का हिस्सा था और फिर मेरी सैन्य पृष्ठभूमि भी मुझे एक सैनिक बनाती है। रक्षा बलों के लिए मेरे मन में बहुत सम्मान है।”

प्रोडक्शन हाउस की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा, “सनशाइन प्रोडक्शंस के साथ काम करने में बेहद सहज हैं।सीरियल शानदार ढंग से लिखा गया है।”

कोरोना महामारी ने क्या बदलाव किए? इस सवाल पर विजय कश्यप ने कहा- “इसने हमारे करियर और जीवन को देखने के तरीके को बदल दिया है।जीवन को चलते रहना है। आपकी नियति है और इसका बहादुरी से सामना करना होगा।”

SHARE

Mayapuri