काश वाजपेयी नेता से ज्यादा कवि होते!

1 min


Atal Bihari Vajpayee

वह स्वतंत्रता के बाद के भारत के सबसे उत्कृष्ट और लोकप्रिय नेताओं में से एक थे। वह एक विपक्षी नेता हो सकते है और अभी भी सभी राजनीतिक दलों के नेताओं और उन्हें किसी भी प्रकार के नेताओं द्वारा सम्मानित किया जा सकता है।

उन्हें एक ऐसे राजनेता के रूप में पहचाना गया जो आने वाले समय में पंडित जवाहरलाल नेहरू के अलावा किसी और के द्वारा बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

अली पीटर जॉन

वह बेस्ट स्पीकर्स में से एक थे और उनकी भाषणकला पूरी लोक सभा या राजसभा पर असर डाल सकती थी

 Atal Bihari Vajpayee

प्रधान मंत्री नरसिम्हा राव को एक प्रतिनिधि (रेप्रजेन्टटिव) होना चाहिए था जो संयुक्त राष्ट्र में भारत का पक्ष रखेगा, वह अपने मंत्रिमंडल के किसी भी मंत्री या किसी अन्य वरिष्ठ कांग्रेस के व्यक्ति को भेज सकते थे।

लेकिन उन्होंने उन्हें चुना (मैं स्वर्गीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के बारे में बात कर रहा हूं) और वाजपेयी ने भारत के लिए सम्मान को प्रभावित किया।

पंडित नेहरू ने उनके बारे में जो भविष्यवाणी की थी, वह तब पूरी हुई जब वे पहले आपजिशन लीडर बने और फिर भारत के प्रधानमंत्री के पद पर पहुंचे थे।

मैं यह नहीं जानता या सोचता हूं कि मैं राजनीति के बारे में कितना अधिक जानता हूं, लेकिन मैं इसे एक साधारण भारतीय के रूप में जानता हूं कि वाजपेयी एक ऐसे प्रधानमंत्री थे, जो सभी वर्गों के लोगों के लिए एक्सेप्टेड और ऐक्सेप्टबल थे।

वह बेस्ट स्पीकर्स में से एक थे और उनकी भाषणकला पूरी लोक सभा या राजसभा पर असर डाल सकती थी।

लेकिन बहुतों को पता नहीं था या उन्होंने यह जानने की कोशिश भी नहीं की गई थी कि वाजपेयी साहब एक बहुत अच्छे कवि थे, जो लगभग हर उस विषय के अच्छे जानकार थे, जो भारतीयों और भारत की समस्याओं से निपटने के लिए था।

जब वह प्रधान मंत्री थे तब वे स्वाभाविक रूप से सबसे बिजी पर्सन थे, लेकिन उन्होंने कविता के प्रति अपना साथ कभी नहीं छोड़ा था और दिल और दिमाग को जागृत करने और एक बेहतर भारत बनाने की जरूरत पर (जिसपर आने वाली पीढ़ियों को गर्व हो) के लिए कविताएँ लिखते रहे।

1999 में, उन्होंने अपनी कविताओं का एक एल्बम जारी किया, जिसका टाइटल थानई दिशाऔर कविता में वह सभी भावनाएँ थीं जो उस समय की आवश्यकता थीं।

एल्बम की लोकप्रियता ने सभी म्यूजिकल चार्ट में टॉप स्थान हासिल किया और यहां तक कि लता मंगेशकर और जगजीत सिंह जैसे दिग्गजों ने वाजपेयी की एल्बम में से अपनी पसंदीदा कविता, ‘आओ फिर से दिया जलाएसे अपने गीत गाए।

कई लाख भारतीयों की तरह, मैं भी इस कविता से अंजान था। मैं इसे सुनता रहा जब मेरे अभिनेतागायकमित्र अरुण बख्शी ने मेरे लिए यह कविता गाई।

भारत के प्रधान मंत्री को बेस्ट लिरिक्स के लिए पुरस्कार देने का आखरी निर्णय लिया

 Atal Bihari Vajpayee

मैं उतना ही उत्साहित था जब मैंने पहली बार साहिर लुधियानवी की कविताओं और अब्बास की रचनाओं को पढ़ा था और मैंने उन सब से कविता के बारे में बात की, जो भी मुझसे मिले, वो भी यह जाने बिना की वे मेरी बात सुनने में इंटरेस्टेड थे या नहीं, या वे कविता में इंटरेस्ट रखते थे भी या नहीं।

हमस्क्रीनमें अपने पुरस्कारों की दिशा में काम कर रहे थे और मैं मनोज कुमार की अध्यक्षता वाली जूरी के बीच मध्यस्थ (इन्टर्मीडीएरी) था।

मेरा मानना था कि वाजपेयी की कविता को हर मोर्चे पर पहचान मिले। यह जूरी के लिए बेस्ट लिरिक्स पर निर्णय लेने का समय था और मुझे मेरा मौका मिला और मैंने जूरी सेवाजपेयी की कविता सुनने और उसके बाद अपना फैसला लेने के लिए कहा।

जूरी ने वाजपेयी की कविता के भाग्य पर फैसला करने के लिए 2 मीटिंग कीं और अंततः भारत के प्रधान मंत्री को बेस्ट लिरिक्स के लिए पुरस्कार देने का आखरी निर्णय लिया, जो कुछ ऐसा था जो पहले कभी नहीं हुआ था।

इस बारे में भी गंभीर चर्चा हुई कि क्या प्रधानमंत्री पुरस्कार समारोह में भाग लेंगे या नहीं। मैंने अम्पाइर की भूमिका निभाई और मैनेजमेंट को बताया कि कुछ सीनियर पर्सन वाजपेयी को दिल्ली में उनके घर पर पुरस्कार दे सकते हैं।

एक निर्णय लिया गया कि इंडियन एक्सप्रेस ग्रुप के चेयरमैन की पत्नी श्रीमती अनन्या गोयनका इस पुरस्कार को पर्सनली तौर पर प्रधानमंत्री को सौंपेंगी।

समारोह हुआ और वाजपेयी एक प्रतिष्ठित फिल्म पत्रिकास्क्रीनऔर श्रीमती अनन्या गोयनका से अपनी कविता के लिए एक पुरस्कार प्राप्त कर के बहुत खुश थे और उन्हें विश्वास नहीं हो रहा था कि उनके साथ यह क्या हुआ था।

मैं इस अवसर को अपने करियर के हाई पॉइंट में से एक मानता हूं। एक झुग्गी के एक लड़के ने प्रधान मंत्री को एक पुरस्कार जीताने में अपनी एक भूमिका निभाई थी जिसे प्रधान मंत्री ने स्वीकार किया और एक यादगार पल माना। इससे ज्यादा मैं और क्या कह सकता हूँ?

वाजपेयी केवल कवि ही नहीं थे बल्कि वह एक लेखक, एक विचारक, एक राजनीतिक दिग्गज और एक विश्लेषक (ऐनलस्ट) भी थे।

 Atal Bihari Vajpayee

अगर एक क्षेत्र था जिसने उन्हें सबसे ज्यादा आकर्षित किया था, तो यह फिल्में थी। वह देव आनंद, दिलीप कुमार और मनोज कुमार जैसे दिग्गजों के पर्सनल फ्रेंड थे। उन्होंने नियमित रूप से उनके साथ अपने नोट्स को शेयर किया।

मनोज उनके होम्योपैथिक डॉक्टर थे जिन्होंने आवश्यकता महसूस होने पर उनसे सलाह ली थी। देव आनंद एकमात्र ऐसे स्टार थे जिनके राजनीतिक विचारों को वाजपेयी ने गंभीरता से लिया था।

जब वाजपेयी ने वाघा बॉर्डर पर पीस मार्च का नेतृत्व किया, तो उन्होंने सुनिश्चित किया कि देव आनंद उस ग्रुप का हिस्सा बने, जिसका वह नेतृत्व कर रहे थे।

वाजपेयी ने केवल देश में सितारों के योगदान को मान्यता दी, बल्कि अपने काम से इसे तब दिखाया जब उन्होंने विनोद खन्ना, शत्रुघ्न सिन्हा, धर्मेंद्र और हेमा मालिनी जैसे सितारों को लोक सभा चुनावों के लिए प्रोत्साहित किया और उन्होंने विनोद खन्ना और शत्रुघ्न सिन्हा केंद्रीय मंत्रियों के अपने मंत्रिमंडल में शामिल भी किया।

इंडस्ट्री के यह लोग जानते थे कि वाजपेयी ने फिल्म इंडस्ट्री के लिए क्या किया था और उनकी दूरदर्शिता (फॉर्साइट) के कारण लंबे समय में इंडस्ट्री को क्या फायदा होगा।

अनुछवि शर्मा


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये