IFFI गोवा में इंडियन पैनोरमा सेक्शन में दिखाई जाएगी फिल्म मइ घाट क्राइम नंबर 103/2005

1 min


मइ  घाट क्राइम नंबर 103/2005 फिल्म के निर्देशक हैं अनंत महादेवन जिन्हें चार बार राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। उन्हें इंटरनेशनल लेवल पर जाना जाता है। उनकी मराठी फिल्म ‘मी सिंधुताई सपकाल’ और ‘रकमा बाई’   के लिए उन्होंने पुरस्कार जीते हैं. मइ घाट क्राइम नंबर 103/2005 , 2018 की घटना है जब भारत के इतिहास में पहली बार दो पुलिस अफसर को मृत्युदंड की सजा सुनाई गई थी. यह केस एक मां ने दोनों पुलिसवालों के खिलाफ लड़ा था, जिसके बेटे को पुलिस कस्टडी में  चोरी के झूठे आरोप में मार दिया गया था। इस फिल्म को 20 नवंबर से 28 नवंबर तक गोवा  में चलने वाली 50वीं अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में दिखाने के लिए चुना गया है.

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज FacebookTwitter और Instagram पर जा सकते हैं.


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये