‘शानदार’ में सुशमा सेठ की कलाकारी से प्रभावित हूुं – कृष्ण टंडन

1 min


‘मैं आज भी पूरी तरह से भारतीय हूं’ आज हमारा फिल्मों का दायरा सात समुदंर पार तक पहुंच गया है । इसीलिये कुछ सालों से हिन्दी फिल्मों को गौर से देखा जाये तो आपको इनमें एन आर आइज तथा विदेशी अभिनेता और अभिनेत्रीयां काम करती नजर आयेगी । यही नहीं,हमारी फिल्मों के कास्टिग डायरेक्टर भी अब विदेशों में भी हिन्दी फिल्मों के लिये ऑडिशन लेने लगे हैं । ऐसी ही एक फिल्म हैं‘ शानदार’ । जिसे करण जोहर और फेंटम प्रोडक्शन मिल कर बना रहे हैं और इसे क्वीन जैसी हिट फिल्म के डायरेक्टर विकास बहल हैं । इस फिल्म में लदंन से भी कुछ आर्टिस्टो का चयन किया गया । जिसमें एक नाम हैं कृष्ण टंडन । हाल ही में इस फिल्म की शूटिंग के लिये मुंबई आये कृश्ण टंडन से एक मुलाकात

krishn tandanबेसिकली आप दिल्ली से हैं ?

जी हां । मैने बाल कलाकार के तौर पर आकाशवाणी में काम करना शुरू कर दिया था । बड़ा होकर मैं रेडि़यो एनाउंसर बना,इसके साथ मैने टीवी में भी काम करना शुरू कर दिया था । कुछ दिनों बाद मुझे हबीब तनवीर तथा औमशिव पुरी जैसे दिग्गजों के साथ थियेटर करने का भी अवसर मिला । उनसे मैने काफी कुछ सीखा । बाद में मेरी शादी लंदन की एक एन आर आई लड़की से तय हो गई और मैं लंदन शिफ्ट हो गया । वहां मैने बीबीसी में करीब बारह साल तक काम किया । फिर मैने साक्षी आर्टस नाम का नाटक ग्रुप बना लिया । इस ग्रुप में मैने अंग्रेजी, हिन्दी और गुजराती भाषा के ढेर सारे नाटक लिखे और निर्देशित और एक्ट किये और अपने ग्रुप के साथ पूरे यूरोप का दौरा किया ।

नाटक करते करते बॉलीवुड में कैसे पहुंच गये?

यह मेरी पहली नहीं बल्कि दूसरी फिल्म है । दरअसल मैने कुछ अरसा बॉलीवुड में स्ट्रगल किया था । उन्हीं दिनों मुझे फिल्म ‘ गौरी’ में एक केरेक्टर रोल करने का अवसर मिला था । उस फिल्म के निर्देशक थे आज के चुनरी फेम गीतकार सुधाकर शर्मा । जंहा तक ‘शानदार’ की बात की जाये तो इसके बारें में मुझे मेरे एजेंट ने बताया था । बाद में मैं इस फिल्म के कास्टिंग डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा से मिला तो उन्होंने मुझे ऑडिशन के लिये बुलाया, मुझसे एक दो लाइनें बुलवाने के बाद ही उन्होंने कह दिया कि आप ये फिल्म कर रहे हैं ।

फिल्म मे आपकी भूमिका क्या हैं ?
मैं एक ऐसे एडवोकेट की भूमिका निभा रहा हूं जो सुशमा सेठ का पर्सनल एडवोकेट हैं न कि कोर्ट में यस मिलॉर्ड नो मिलॉर्ड कहने वाला वकील । फिलहाल इतना ही बता सकता हूं ।

फिल्म के अन्य कलाकारों के बारे में क्या कहेगें?
इस फिल्म को निर्देशित कर रहे हैं विकास बहल जो इससे पहले क्वीन जैसी हिट फिल्म बना चुके हैं । फिल्म की मेन लीड में शाहिद कूपर, आलिया भट्ट हैं सपोर्ट में पंकज कपूर तथा सुशमा सेठ इत्यादि कलाकार हैं ।

फिल्म की शूटिंग कहां कहां हुई ?
तकरीबन शूटिगं लंदन के लीड्स तथा पोलेंड के लुबनी शहर में हुई । तथा कुछ पोर्शन मुंबई में शूट किया जा रहा है । इसीलिये मैं मुबंई में हूं।

फिल्म के किस कलाकार से प्रभावित हैं ?
सुशमा जी से मैं हमेशा ही प्रभावित रहा हूं । मुझे जब पता चला कि इस फिल्म में मुझे उनके साथ काम करने का मौका मिल रहा हैं तो मैं बहुत खुश हुआ । मैं उनसे लंदन में जब पहली बार मिला और मैने हाय कहा तो उन्होंने मुझसे पूछा, क्या तुम मुझे जानते हो तो मैने उन्हें बताया कि मैं उनके साथ धारावाहिक ‘हम लोग’ में काम कर चुका हूं । ये सुनकर उन्होंने खुशी जाहिर की । उसके बाद तो मैं उनसे सेट पर पुरानी और नई हर तरह की बातें करता था ।

आज के कलाकारों के बारे में क्या सोच हैं ?
कोई अच्छी सोच नहीं है । आज के स्टार्स में एटीट्यूट बहुत ज्यादा है उनमें अपने सीनियर कलाकारों के प्रति जरा भी इज्जत करने का जज़्बा नहीं । यह सब मैने इस फिल्म के दौरान भी महसूस किया ।

बतौर एनआरआई क्या सोचते हैं ?
मुझे लंदन में तकरीबन पच्चीस तीस साल हो गये लेकिन न तो मैं अपनी भाषा भूला और न ही अपने संस्कार और न कल्चर । मेरी हिन्दी सुन कर आप भी महसूस कर रहे होगें कि मैं आज भी मेरा जितना हिन्दी पर कमांड है उतना ही उर्दू पर । क्योंकिे मेरा मानना हैं कि एक हिन्दी एक्टर को भाषा का अच्छा ज्ञान होना चाहिये । मैं आज भी पूरी तरह एक ऐसा भारतीय हूं जो लंदन में भी वहां बसे भारतीयों को उनकी तहजी़ब याद दिलाने से पीछे नहीं हटता ।

-श्याम शर्मा


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये