इमरान हाशमी अपना एहसास शेयर कर रहे हैं

1 min


जब लिखने की बातें चल रही है तो बता दूं कि हमारे बाॅलीवुड के सीरियल किसर, जिन्हें अब बड़े पर्दे पर किस विस करने में कोई दिलचस्पी नहीं रह गई है, वे अब अपनी सोच के दूसरे पहलुओं पर ध्यान दे रहे हैं। सबको यह पता है कि इमरान हाशमी के नन्हें बेटे अर्यान को कैंसर डायगनोज़ हुआ था, जिसका ट्रीटमेन्ट सफलतापूर्वक पूरा हुआ है परन्तु उस ट्रीटमेन्ट के दौरान आशा निराशा दुख दर्द तनाव का जो तूफान इमरान और उनकी पत्नी ने झेला, उसने उनकी जिन्दगी बदल डाली। अब इमरान इन्हीं एहसासों पर एक किताब लिख रहा है जिसका थीम यही है कि इस मुश्किल रोग  और इस बीमारी के इलाज के मुश्किल दिनों को किस तरह से झेला जाये। पिछले कुछ समय से इमरान, कैंसर पेशेन्ट तथा उनके निकटजनों को इस बीमारी से जूझने और इसके ट्रीटमेन्ट को लेकर तमाम जानकारियाँ देने के इच्छुक थे, खुद इमरान इस दौर से गुजरे थे, लेकिन उन्होंने अपने बेटे को ट्रीटमेन्ट के दौरान पाॅजिटिव फीलिंग्स में रखा था। इन्हीं सब जानकारियों के साथ इमरान एक पुस्तक लिख रहे हैं जो वर्ष 2016 तक रिलीज होगी।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये