लॉकडाउन के मद्देनजर, बैजू मंगेशकर ने १९६७ के अंग्रेजी क्लासिक की घर पर पुनःरचना की

1 min


Jyothi Venkatesh
बैजू मंगेशकर ने अपने संगीत करियर की शुरुआत  गायक-संगीतकार के रूप में सूफी एल्बम ‘या रब्बा’  से की थी, इस एल्बम में उनके साथ भारतरत्न लता मंगेशकर ने गाने गाये थे। शुरू में ही समीक्षकों  से तारीफों का वर्षाव हुवा उन्होंने इससे खूब सराहा। इसके बाद, ‘कीतीदा ‘ और ‘नदीच्या पार’ जैसे कई आत्मा को भिड़ने वाली गीतों की रचना बैजू मंगेशकर ने की है। अपनी पहली वर्चुअल संगीत कोलब्रेशन रचना में, उन्होंने बर्ट बुचरच और हैल डेविड के क्लासिक्स “ए हाउस इज अ होम” की पुनःरचना की।

जैसा कि सरकार ने कोविड- १९ के कारण ३ मई तक देशव्यापी तालाबंदी का विस्तार किया, बैजू मंगेशकर ने संगीतकार शिवांश कपिल के साथ एक वर्चुअल संगीत कोलब्रेशन की संकल्पना की।

“यह कोविड -१९ #stayhome #lockdown का समर्थन करने वाली एक लाभरहित  पहल है। यह केवल मेरा प्रायोगिक सहयोग नहीं है, बल्कि एक पेशेवर रूप से तैयार किया गया और निष्पादित संगीत का काम है, जो आधुनिकतम प्रौद्योगिकी के साथ पूर्ण अलगाव में है। ” उन्होंने बताया।

बैजू ने कुछ मराठी फिल्मों और टेलीविजन धारावाहिकों में भी अपनी आवाज दी है। यह इस संगीत वीडियो को इस पार्श्वभूमिपर हमारे लिए जुटे हुए और दूसरों के लिए अपने जीवन को खतरे में डालते हैं उन सभी के लिए एक छोटा सा योगदान के रूप में समर्पित करता है । बैजू ने कहा, “हमें उम्मीद है कि यह सभी को अपने प्रासंगिक काम को जारी रखने के लिए प्रेरित कर सकता है और संभव हो तो इस समय का सकारात्मक रूप से उपयोग करे।”

पुन:रचना के लिए अंग्रजी गाना क्यू चूना? पूछने पर बैजू कहते हैं, ‘यह एक विश्व महामारी है और अंग्रेजी भाषा कम अधिक प्रमाण में एक सार्वभौमिक भाषा है ।  इस लड़ाई को जीतने के लिए दुनिया को एक साथ आने की जरूरत है। विश्व संगीत के साथ-साथ हिंदुस्तानी संगीत ने मेरी संवेदनाओं को आकार दिया। मुझे यह विशेष गीत बहुत पसंद है और मार्मिक शब्द मेरे साथ इस कठिन दौर में हम सभी के लिये सही बैठता हैं!”

ए आर रहमान अकादमी के एक प्रतिभाशाली युवा संगीतकार, शिवांश कपिल हिंदुस्तानी शास्त्रीय और पश्चिमी संगीत में प्रशिक्षित हैं। वह एक पियानोवादक और संगीत व्यवस्थापक है, जिन्होंने दक्षिण और मराठी फिल्मों में कई परियोजनाओं पर काम किया है और वर्तमान में बॉलीवुड प्रकप्ल में व्यस्त है।

बैजू मंगेशकर स्वरकोकिला लता मंगेशकर के भतीजे और हृदयनाथ मंगेशकर के बेटे हैं। उनका अंतिम एल्बम ने उन्हें ‘या रब्बा ’ उन्होंने ही संगीत बद्धकिया था । और इसके गीत लता मंगेशकर के साथ उन्होंने गाये है।

SHARE

Mayapuri