INTERVIEW!! “मुझे कॉमेडी करना बहुत पसंद है और एक्शन भी करना चाहता हूँ” – आदित्य कपूर

1 min


लिपिका वर्मा

आदित्य कपूर कुछ समय के लिए वीडियो जॉकी रह चुके हैं। कई छोटे चरित्र चित्रण पर्दे पर साकार करने के बाद उन्हें ‘आशिकी 2’ में लीड रोल मिला और वहां से फिर उन्होंने पलट कर नहीं देखा। फिल्म, “फितूर” में अब कैटरीना कैफ के साथ नजर आने वाले हैं, फितूर की प्रमोशनल गतिविधि (एक्टिविटी) के दौरान लिपिका वर्मा के साथ एक अनूठी भेंटवार्ता में सारे सवालों का जवाब बेधड़क दिए उन्होंने –

फिल्म, “फितूर” में अपने किरदार के बारे में कुछ बतायें ?

मैं नूर निज़ाम का किरदार निभा रहा हूँ। एक नवोदित कलाकार हूँ और बचपन से फ़िरदौस के प्रति मुग्ध रहता हूँ। हमारी परिस्थिति उनसे बहुत अलग है। जहाँ वह बहुत आमिर लोग हैं और हम गरीब होते हैं।

कैटरीना के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा ?

हालांकि, उन्हें में कुछ समय पहले से जानता हूँ। हम दोनों लगभग एक ही समय पर फिल्मी दुनिया में आये थे किन्तु उनका अनुभव फिल्मों का मुझे से कुछ ज्यादा है। वह बहुत ही साधारण व्यक्तित्व रखती हैं कोई भी अड़चन कभी भी पैदा नहीं करती हैं। काम को बहुत गंभीरता से लेती हैं। फिल्म, “फितूर” की कहानी बहुत ही बेहतरीन तौर से लिखी गयी है और सारी टीम बहुत अच्छी है। सेट पर बहुत ही अच्छा माहौल हुआ करता सो बहुत अच्छा काम भी हुआ है। कैटरीना अपने आपको बहुत अच्छी तरह से कैरी करती हैं और सबकुछ सोच समझ कर ही किया करती हैं। उनके अंदर बचपना भी बहुत है, हम सब के बीच एक फन समीकरण रहा है पूरी फिल्म के दौरान। हर बारी हम सब चाहते हैं कि फिल्म मनोरंजक हो और यदि फिल्म मनोरंजक लगती है लोगों को तो जाहिर सी बात है कि फिल्म बिज़नेस भी अच्छा करेगी।

fitoor4

अभिनेता की अवलोकन क्षमता आपके अंदर कितनी होगी ?

देखिये अब 100 चरित्र चित्रण करूँगा तो 100 लोगों जैसा तो नहीं होगा। पर हाँ मैं हमेशा से लोगों को करीब से देखता हूँ। अब जिम के माहौल को ही ले लीजिये वहां कुछ लड़के लड़कियों पर नजर रखते हैं, तो कई अपने आप को शीशे में देख रहे होते हैं तो कुछ कान में म्यूजिक लगा कर अपना मस्त रहते हैं। इसी तरह से दुनिया में लोगों को देखकर अभिनेता अवलोकन द्वारा अपने चरित्र में कुछ ना कुछ तो लेता है। किन्तु अपनी काल्पनिक शक्ति द्वारा भी अभिनय करना होता है।

फेमस होने के बाद क्या बदलाव देखते हैं ?

यही कि आप अपनी गुमनामी खो देते हैं। अब जब की फिल्म ‘आशिकी-2’ के बाद मैं फेमस हुआ तो कभी कभी मुझे कई जगहों से भागना भी पड़ा है किन्तु मैं अपने आप कही भी घूम – फिर आता हूँ। यह अपने अपने ऊपर निर्भर करता है। मैं कई मर्तबा मरीन ड्राइव पर जाकर बैठ जाता हूँ, लेकिन टोपी पहन कर जाता हूँ, इसलिए लोग मुझे पहचान नहीं पाते हैं और कई बारी आप जिस तरह चलते हैं और कही रेस्टोरेंट में बैठे होते हैं और यदि आप का सही रवैया हो तो लोग समझ जाते हैं और आपके टाइम में दखल अंदाज़ी भी नहीं करते हैं। पर फेमस होने का खामियाज़ा तो उठाना ही पड़ता है।

aditya-roy-kapur

कॉलेज में आपने क्लासेज बंक की हैं क्या?

जी हाँ मैंने क्लासेज बंक करके जैकी चेन, ब्रूसली और वन्दौं की एक्शन फिल्में बहुत देखी हैं। वैसे मुझे फिल्मों का शौंक नहीं था। मुझे क्रिकेट, फुटबॉल और अन्य स्पोर्ट्स खेलने का बहुत शौक था। अब मैं स्पोर्ट्स खेलना मिस करता हूँ किन्तु समय समय पर अपने भाई कुणाल के साथ क्रिकेट और अन्य खेल, खेल लिया करता हूँ। मेरे बड़े भाई सिद्धार्थ रॉय को खेलने का शौंक नहीं है किन्तु वह कभी- कभी हम लोगों को खेलते हुए देख लेते हैं और एन्जॉय भी करते हैं।

आप किस तरह के किरदार करने की इच्छा रखते हैं ?

मुझे कॉमेडी करना बहुत पसंद है और एक्शन किरदार भी करना चाहता हूँ। मुझे जैकी चैन, ब्रूस ली जैसा एक्शन करने को मिले तो बहुत ख़ुशी होगी।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये