INTERVIEW!! ‘‘मैं मदर टेरेसा की बायोपिक करना चाहती हूं’’ – जैकलिन फर्नांडीज

1 min


jaqueline-fernadez.gif?fit=650%2C450&ssl=1

अभी तक करीब एक दर्जन फिल्में कर चुकी श्रीलंकाई सुंदरी जैकलिन फर्नांडीज ने बॉलीवुड में अपनी शुरूआत फिल्म ‘अलाद्दीन’ से की थी। इसके बाद मर्डर टू, रेस टू, किक, रॉय, बैंगिस्तान, ब्रदर्स, हाउसफुल, हाउसफुल टू आदि फिल्मों से उन्होंने यहां अपना पैर जमाया। आगे वह हाउसफुल सीरीज की अगली फिल्म ‘हाउसफुल थ्री’ में नजर आ रही हैं। इस फिल्म को लेकर उनसे एक हल्की फुल्की बातचीत।

सबसे पहले तो फिल्म में अपनी भूमिका के बारे में बतायें ?

यहां हम तीन बहने हैं गंगा, जमुना और सरस्वती लेकिन हमारे पैट नेम भी हैं जैसे मेरा पैट नेम है ग्रेसी। हम यूके से इंडिया आये हैं। मेरा एक ब्वॉयफ्रेंड है जिसे पापा पसंद नहीं करते। हमारे सामने सबसे मुश्किल काम है हिन्दी बोलना, इसलिये जैसी मैं हिन्दी बोलती हूं फिल्म में वही कॉमेडी पैदा करती है।

guess-who-trained-jacqueline-fernandez-in-comedy-for-housefull-3-news

यहां आप पहली दफा कॉमेडी कर रही हैं ?

जी हां लेकिन हाउसफुल टू में भी कॉमेडी थी लेकिन इतनी नहीं थी जिसे कॉमेडी कहा जा सके।

अभी तक आप कॉमेडी पर हंसती रही हैं लेकिन यहां आप स्वयं हंसा रही हैं ?

जैसा इससे पहले मैं समझती थी, वैसा नहीं है। कॉमेडी खासकर मेरे लिये तो बहुत बहुत मुश्किल साबित हुई। मैं इससे पहले अक्षय कुमार, रितेश या अभिषेक को कॉमेडी करते देख समझती थी कि यह तो काफी आसान होना चाहिये लेकिन जब मेरी बारी आई तो मेरे पसीने छूट गये। पहली बार मुझे पता चला कि कॉमेडी करते वक्त किन किन चीजों का ध्यान रखना पड़ता है। उनमें सबसे अहम है टाइमिंग जहां मैं बार बार मार खा रही थी। यहां मैं अक्षय को इस बात का श्रेय देना चाहूंगी कि उनकी बदौलत मैं इस फिल्म में अच्छी कॉमेडी कर पाई।

Jacqueline-movies-read

आपके लिये गंगा एक्ट करना आसान रहा या ग्रेसी ?

निजी तौर पर मुझे गंगा बहुत पसंद है लेकिन क्योंकि मैं खुद ग्रेसी के ज्यादा नजदीक हूं इसलिये उसे निभाना ज्यादा आसान रहा।

फिल्म को शूट कहां कहां किया ?

लंदन में कई जगह शूट किया। इसके अलावा बाकी शूट मुंबई में हुआ।

फिल्म की कहानी क्या है ?

कहानी वैसे बतानी बहुत मुश्किल होगी। अगर आप फिल्म देखेंगे तो आपको ज्यादा मजा आयेगा।

अपने मौजूदा मुकाम तक पहुंचने के लिये आप किस किस को श्रेय देना चाहेंगी ?

बहुत सारे लोग हैं। जॉय, मोहित सूरी, साजिद नाडियाडवाला, भूषण कुमार, सलमान खान इत्यादि। इन सभी ने मेरी हर तरह से हेल्प की। इन्हीं की बदौलत आज मैं एक सफल नायिका कहलाती हूं।

M_Id_415988_jacqueline-fernandez

क्या आप पहले भी फिल्मों का चुनाव अपने आप करती थीं ?

मैं उन दिनों नई थी। यहां न तो मैं किसी को जानती थी और न ही मेरा यहां कोई गॉड फादर था। इसलिये मेरी कभी फिल्में चूज करने की हिम्मत नहीं हुई, बस जो मेरे पास आती रही, मैं भगवान का नाम लेकर उन्हें कुबूलती रही। हालांकि शुरूआती दो फिल्में ‘अलाद्दीन’ और ‘जाने कहां से आई है’ बुरी तरह पिटी। इसे देखते हुये मेरे फादर ने कहा चलो बहुत हुआ अब वापस घर चलते हैं। लेकिन मैंने हिम्मत नहीं हारी। मैं उसी तरह बिना सोचे समझे फिल्में लेती रही। उन्हीं में ‘मर्डर टू’, ‘रेस टू’ और ‘किक’ जैसी फिल्में मिली। यह शायद ईश्वर की कृपा है कि मैं उन्हीं फिल्मों की बदौलत आज यहां तक पहुंच पाई हूं।

इन दिनों बायोपिक फिल्मों का चलन है। आपको मौका मिलता है तो आप किसकी बायोपिक करना चाहेंगी ?

यह मेरी कल्पना हो सकती है लेकिन मैं मदर टेरेसा से बहुत प्रभावित हूं। काश अगर उनकी भूमिका निभाने के लिये मुझे कहा जाये तो मैं क्या करूंगी ? सोचकर ही सिरहन पैदा होने लगती है। माई गॉड उनकी जर्नी। किस तरह वह इटली से इंडिया आती हैं और यहां कोलकाता में सैटल हो कर जो करती हैं वह काम उन्हें भगवान के नजदीक बैठा देता है। पता नहीं क्यों अभी तक किसी ने उन पर फिल्म बनाने की ओर ध्यान नहीं दिया जबकि वह तो एक इन्टरनेशनल प्रोजेक्ट बन सकता है।

12-Jacqueline-Fernandez

आगे कौन कौन से प्रोजेक्ट्स पर काम कर रही हैं ?

आगे मेरी आने वाली फिल्में हैं ‘ढिशूम’ तथा ‘फ्लाइंग जट्ट’। दोनों पोस्ट प्रोडक्शन से गुजर रही हैं। इसके अलावा एक इगंलिश फिल्म ‘एकॉर्डिगं टू मैथ्यू’ की है उसमें मेरी भूमिका का नाम है डफ्ने रेनॅाल्ड। यह फिल्म कंपलीट हो चुकी है।

 

 

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये