INTERVIEW!! ‘‘मधुर भंडारकर एक बहुत बड़ा नाम हैं उन्हें कौन नहीं जानता’’ – अवनी मोदी

1 min


मधुर भंडारकर की फिल्म ‘कैलेंडर गर्ल्स’ की पांच लड़कियों में अवनी मोदी भी एक नाम है। बचपन से ही अभिनेत्री बनने का सपना देखने वाली अवनी ने अपनी शुरूआत थियेटर से की। बाद में वह मॉडलिंग तथा साउथ इंडियन फिल्मों से होती हुई इस फिल्म के मुख्य किरदारों में अपनी जगह बनाने में कामयाब हुई। बॉलीवुड में अपनी शुरूआत को लेकर अवनी से एक मुलाकात ।

अवनी अपने बारे में क्या बताना चाहेंगी ?

मैं गुजरात के गांधी नगर में पैदा हुई वहीं मेरी शिक्षा दीक्षा पूरी हुई। एक्टिंग का मुझे बचपन से ही शौंक रहा। स्कूल के दौरान ही मैंने गुजराती थियेटर करना शुरू कर दिया था। इसके बाद मैं एड फिल्में भी करने लगी। मधुर भंडारकर की फिल्म ‘कैलेंडर गर्ल्स’ से हिन्दी फिल्मों में मेरा डेब्यू हुआ है। इससे पहले मैं दो तमिल फिल्में कर चुकी हूं। इसके अलावा एक इन्टरनेशनल आर्ट फिल्म ‘गुलाबी’ करने का भी अवसर हासिल हुआ था ।

photo (5)

कैलेंडर गर्ल्स से अपने डेब्यू पर क्या प्रतिक्रिया होगी ?

जिन दिनों इस फिल्म के ऑडिशन चल रहे थे तो मैंने भी ऑडिशन देने का मन बना लिया। लेकिन मुझे अपने सलेक्ट होने की जरा भी आशा नहीं थी क्योंकि वहां सैंकड़ों एक से एक धुरंधर लड़कियां लाइन में लगी थी जिनमें ज्यादातर मॉडल्स थी। जब मुझे पता लगा कि मैं पचास सलेक्ट लड़कियों में शामिल हूं तो मुझे बड़ी हैरानी  हुई। उसके बाद कम होते हर ग्रुप में थी और जब आखिर पांच लड़कियों का चुनाव था जब मैं पूरे आत्मविश्वास से कह सकती थी कि उन पांच में मेरा भी सलेक्शन होने वाला था। वही हुआ भी। इस प्रकार मैं इतनी बड़ी फिल्म का हिस्सा बनने में सफल रही ।

पांचो कैलेंडर गर्ल्स में आपकी भूमिका क्या है ?

फिल्म में पांच लड़कियां हैं जो अलग अलग प्रांतो से  यहां कलैंडर गर्ल्स बनने आती हैं, इन पांचों की जर्नी एक ही दिन शुरू होती है। सभी की अपनी अपनी कहानी है। मैं नाजनीन नामक ऐसी लड़की हूं जो पाकिस्तानी हैं और यहां मॉडल बनने आती हैं यहां उसे कैलेंडर गर्ल बनने का मौका मिलता है। उसका सपना ग्लैमर की दुनिया में नाम कमाना है। किसी बड़े डायरेक्टर के साथ और बड़ी फिल्म में ये मेरे लिये बहुत बड़ा मौका था लिहाजा मैंने अपनी भूमिका के लिये काफी मेहनत की। मधुर जी मेरे काम से पूरी तरह संतुष्ट हैं ।

COdrYNmVAAApyC9

मधुर भंडारकर के साथ पहली ही फिल्म करने का अनुभव कैसा रहा ?

मधुर भंडारकर बहुत बड़ा नाम हैं उन्हें कौन नहीं जानता। आज हर कोई उनके साथ काम करना चाहता है। इसलिये अपने सलैक्शन के बाद से ही मैं नर्वस थी। हालांकि हमारी वर्कशॉप हुई। वहां मुझे मेरी भूमिका मुंह जुबानी याद हो गई थी। बावजूद इसके शूटिंग के पहले दिन मैं बहुत नर्वस थी मधुर जी ने शायद मेरी दिक्कत भांप ली थी। उन्होंने मुझे एक तरफ ले जाकर कहा कि दो तीन सौ लड़कियों में से तुम्हारा सलेक्शन इसलिये हुआ है क्योंकि हमें पता है कि ये भूमिका तुम कर सकती हो। फिर नर्वस क्यों हो। वाकई इसके बाद मेरा आत्मविश्वास वापस आ गया और मैंने पूरी तरह सहज हो कर शूटिंग की। जंहा तक मधुरजी के स्वभाव की बात की जाये तो वे बहुत ही हंसमुख स्वभाव के बहुत आसानी से समझ में आ जाने वाले इंसान हैं।

COTWRW9VAAA80Bb

आपके मुताबिक फिल्म की हाईलाईट क्या होगी ?

फिल्म का सब्जेक्ट बहुत ही यूनिक है जो एक सवाल  छोड़ता है। दूसरा फिल्म बहुत ही फ्रेश है, इसका म्युजिक भी बहुत ही अच्छा है ।

 

SHARE

Mayapuri