INTERVIEW!! नाना, को  यदि नाराज़ किया तो वह जानवर हो जाते हैं!! – जॉन अब्राहम

1 min


जॉन अब्राहम – फिल्म्स, फुटबॉल अपना  पसंदीदा स्पोर्ट, सेक्स सिंबल होने हेतु ,और आई कांटेक्ट मंत्र के बारे में जो कुछ भी उनके  मन में है  हमारी संवाददाता लिपिका वर्मा के साथ बातें करते समय सब कुछ कह डाला  उन्होंने –

फिल्म, “मद्रास कैफ़े” के बाद अब जॉन अब्राहम “वेलकम बैक” में नजर आने वाले है क्या कहना है? आपने  कुछ समय के लिए ब्रेक भी लिया था?

यह बहुत ही अच्छी बात है कि मैंने कुछ ब्रेक तो लिया, यह ब्रेक लेना मेरे लिए अनिवार्य था। जब आप कई फिल्में करते है और दूसरे काम भी साथ में करते है तो कुछ छुट्टियां तो बनती है। इस ब्रेक से मुझे बहुत ही  फ्रेश लगा और इस ताज़गी को  लेकर अब मैं  और भी मेहनत कर सकता हूं। मेरी पिछली फिल्म, “मद्रास कैफ़े” क्रिटिकली सराही  गयी और कमर्शियली भी फिल्म ने अच्छा खासा  बिज़नेस किया बॉक्स ऑफिस पर.”

कुछ उदास हो कर कुछ सोचते हुए जॉन आगे बोल पड़े ,” दरअसल मैं जब यह स्क्रिप्ट लेकर कुछ प्रोडक्शन हाउस में गया था तब उन्होंने 5 सेकंड लिए स्क्रिप्ट को नकारने में। और खास कर यह कहा कि इस में जॉन के कोई भी एक्शन सीन्स नहीं और ऊपर से नर्गिस और जॉन के बीच कोई रोमांस भी नहीं है। जब कि इस कहानी को लिखने मैं  हमें लगभग ६ साल लग गए थे। आखिरकार हमने खुद ही यह फिल्म प्रोड्यूस करी।

welcome-back-hot-image

वेलकम बैक के साथ साथ और क्या कर रहे है आप फ़िलहाल?

मैं जिन  चीजों में सबसे बेस्ट हूं वही कर रहा हूं  यानि अच्छे कंटेंट बनाने में जुटा  हुआ हूं, हम हमेशा यही कोशिश करते हैं कि आम इंसान और जितने भी जवान पीढ़ी के  लोग हैं उन्हें हमारी फ़िल्में जरूर पसंद आये और जब सिनेमा घरों से निकले तो एन्जॉय करके ही निकले।”

“वेलकम बैक” फिल्म के बारे में जॉन ने कहा, “मैं अपने बेस्ट जोनर कॉमेडी से फिल्म में वापसी कर रहा हूं। सीधा मुँह रखकर कॉमेडी करके लोगों को हंसाना बहुत ही कठिन काम होता है पर इस फिल्म में हम सब वही कर रहे हैं। मुझे विश्वास है कि हर कोई वेलकम बैक से खुश होकर, अपने घर लौटेगा। इस फिल्म में हर किरदार एक जरूरत है किसी को भी जान बूझ कर यूं ही नहीं ठूसा गया है।”

lipika with john

अपने पसंदीदा खेल फूटबॉल के बारे कुछ बताएं ?

मेरी फूटबॉल टीम नार्थ ईस्ट के साथ काम करना मेरे लिए पुरे एक साल जैसा ही होता है। साल के 365 दिन उन्हें मैं छोड़ नहीं सकता हूं। सुपर लीग फुटबॉल जल्द ही शुरू होने वाली है। सो हमें उसकी तैयारी  करनी है। हमारी टीम बहुत ही सुपर्ब है और उनके नए कोच उन्हें ट्रेन कर रहे हैं। मेरे हिसाब से, “फुटबॉल नया क्रिकेट है, सब यंग  लड़के 15 से लेकर 24 के ऊपर के बच्चे फुटबॉल बहुत ही दिल से देखते है। फुटबॉल जवान लोगों का उन्माद हो चुका है सब इस खेल को देखना अब पसंद कर रहे है। ”

नीता अम्बानी की तारीफ में जॉन  ने कहा,” नीता अम्बानी फुटबॉल को बढ़ावा दे रही हैं, फुटबॉल को आगे बढ़ाने  में उनका बहुत बड़ा हाथ है। वह प्रेरक शक्ति है इस स्पोर्ट हेतु।  टीम को शशक्त बनाने के लिए हमने हमारी टीम को बहुत ही ध्यान से चुना है। बाइचुंग भूतिया जाने माने  फुटबॉल कप्तान जो की नागालैंड से हैं उन्होंने भी हमारी बहुत मदद की है फुटबॉल टीम को जमाने में, और खास करके नार्थ ईस्ट प्रदेश में फुटबॉल के बेहतरीन खिलाड़ी पाये  जाते है सो हमने यहां  के खिलाडियों  को ही अपनी  टीम बनाना सही  समझा। टीम एक इंजन की तरह है और यह खिलाडी हमारी इंजन को चलाने में सक्षम होगें.”

376790-john-abraham-3

अपने स्कूल के दिनों के बारे में कुछ बताएं आप भी एक बेहतरीन फुटबॉल खिलाडी रहें है ? 

जी हाँ ! मैं  सेंटर फॉरवर्ड स्थान  संभालता था और हमेशा मेरे राइट और लेफ्ट आउट से मुझे गेंद पास किया जाता और मैं गोल मारने  में कामयाब भी हो जाता। मैं अपने स्कूल का हीरो माना  जाता थाI मैं बहुत अच्छा एथलीट भी रहा हूं अपने स्कूल के ज़माने में। हर साल मुझे बेस्ट एथलीट आवर्ड भी मिलता। पर पैसों की कमी होने की वजह से मेरे पास मंहगी  और फैंसी गाड़ियां नहीं हुआ करती इस का मुझे दुःख था, वहीं मिडिल क्लास वाली भावना के चलते पैसे कमाने के लिए मैंने एम बी ए की पढ़ाई  पूरी की। मैं १०० मीटर की दौड़ केवल ११ सेकेंड्स में पूरी कर के जीत हासिल किया करता और यह मेरे लिए गर्व की बात होती। यही  नहीं लॉन्ग जम्प और जेवेलीन थ्रो जैसे स्पोर्ट मैं भी हिस्सा लेकर अव्वल दर्जे का मुकाम संभाले रखने में कभी पीछे नहीं हुआ मैं।

आप रॉकी हैंडसम  में भी काम कर रहे हैं, हैंडसम  आपके लिए क्या मायने रखता  है ?

रॉकी हैंडसम की शूटिंग लगभग खत्म हो गयी है। यह फिल्म शायद जनवरी या  फिर फरवरी में रिलीज होने वाली है। शायद मेरे लिए हैंडसम, “अपूर्ण” होना है। यही कह सकता हूं मैं। सही मायने  में तो  मैं गुड लूकिंग नहीं हूं। मेरी फिजिकल पर्सनेलिटी  में ऐसा कुछ है जिस की वजह से मुझे, “सेक्स सिंबल” का ख़िताब दिया गया है। यह दूसरों का नजरिया  है मेरे लिए। यह अवतार अपने देश में बहुत ही स्ट्रांग माना  जाता  है, सो लोगो का यह मानना है की यह सेक्स सिंबल मेरे बाल  सफ़ेद होने तक भी मेरे साथ यूं ही बरकरार रहेगा।

रॉकी हैंडसम में एक छोटी लड़की बहुत ही सुंदर डायलॉग बोलती है मुझे, “आप बहुत हैंडसम दिखते हो” फिर कुछ देर बाद यह कहती है, “आप जेल में भी काफी हैंडसम लगोगे। मेरे शक्ल में एक विद्रोही लुक भी नजर आता  है।”

311321-john (1)

आप आई कांटेक्ट की कुछ बात कह  रहे थे। क्या है ज़रा डिटेल में बताएं  ?  

जब मैं रैंप वाक किया करता तो मैं बड़ी चालाकी से चारों तरफ देखता मै  कम से कम एक बन्दे की आँख में डायरेक्ट देखता । इससे चार आदमी तो मुझे देख कर खुश हो जाते और इस तरह में उनके दिल में बड़ी आसानी से उतरने में कामयाब हो पाता । यह आई कांटेक्ट वाले  मन्त्र ने मुझे लोगों के करीब ला  कर खड़ा कर दिया और यह भी मैंने महसूस किया कि जब हम कैमरे  में देखे तो उसे डायरेक्ट देखें क्यूंकि कैमरा हमारे छोटे छोटे हाव भाव  को बड़ी बारीकी से पकड़ता है और स्क्रीन पर एक बेहतरीन सीन दिख पड़ता है। सो इस से एक्टिंग में भी फर्क पड़ता है।

आप किस फुटबॉलर की बायोपिक पर काम कर रहे हैं ?

निर्देशक शूजीत सरकार भारतीय फुटबॉलर सीबदास बहादुरी पर स्क्रिप्ट लिख रहे है। पर शूजीत एक ऐसे निर्देशक है जब तक उनकी बारीकियों को  ठीक  लिख ना ले फिल्म के मैदान पर नहीं उतरेंगे। मैं इस बायोपिक का हिस्सा बनना चाहता हूं आशा है की जल्द स्क्रिप्ट पर काम खत्म हो और हम शूटिंग शुरू कर दे. फूटबॉल मेरे जीवन का एक विशेष हिस्सा रहा है और हमेशा  ही रहेगा। ”

John-marathon-4

अनीस बज़्मी और नाना पाटेकर के साथ काम करना कैसा अनुभव रहा है ?

अनीस मेरे लिए मेरे डार्लिंग निर्देशक है। मैं उनका बहुत ही बड़ा फैन हूं। यह फिल्म कॉमेडी तो है ही किन्तु क्लाइमैक्स में इमोशनल कर देगी आप को आप अपने आंसू रोक नहीं पाएंगे. रहा नाना पाटेकर का सवाल तो उनके साथ काम करने में बड़ा ही मज़ा आया। वह एक मुंह फट इंसान है। बहुत ही सरल और सीधे स्वभाव के इंसान है नाना, किन्तु यदि उनको नाराज़ किया तो वह जानवर हो जाते हैं !!

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये