INTERVIEW!! रणवीर और दीपिका की अनूठी गुफ्तगू

1 min


पेश है लिपिका वर्मा द्वारा

रणवीर सिंह बाजीराव और दीपिका मस्तानी के रूप में नजर आ रहे हैं अपनी फिल्म बाजीराव मस्तानी” में जो इस सप्ताह “दिलवाले” के साथ रिलीज होने वाली है। प्रियंका चोपड़ा का एक अहम किरदार है फिल्म में वह काशीबाई बन बाजीराव की पत्नी का किरदार अदा रही हैं। अब देखना यह दिलचस्प होगा कि दीपिका रणवीर की जोड़ी बड़े परदे पर अपना दम खम दिखलाने में कामयाब होती है या फिर शाहरुख़ काजोल की रोमांटिक जोड़ी ? जो पर्दे पर एक अरसे के बाद वापसी कर रही है। दीपिका की अमूमन सारी फिल्मे बॉक्स ऑफिस पर हिट हुई हैं और अपने हार्ड वर्क से उन्होंने बॉलीवुड के हीरोज को भी एक कड़ा जवाब तो दे ही दिया है स्त्री प्रधान फिल्मों में अच्छे किरदार कर के। रणवीर और दीपिका की दोस्ती को लेकर भी चर्चा रही। इस लेख में दोनों रणवीर और दीपिका ने एक दूसरे की तारीफ में बहुत कुछ कहा है -आप खुद पढ़िये और जानिए

रणवीर सिंह– दोनों लीडिंग लेडीज दीपिका और प्रियंका से मैंने बहुत कुछ सीखा है। मैं उन दोनों से किस तरह एक साथ ढ़ेर सारे काम करने है वह सीखना चाहता हूँ एवं प्रियंका एक साथ अलग अलग किरदार अलग फिल्मों में बखूबी निभा लेती है और प्रियंका तो बाहर देश में अपने शो को करते हुए यहाँ पर आई प्रोमोशन्स के लिए। दोनों समय समय पर फ़िल्में, विज्ञापन भी एक साथ कर लेती हैं। जबकि मैं एक ही किरदार एक समय पर कर पाता हूँ। मैं उन दोनों की तरह एक ही समय पर अलग अलग चीज़े कर पाने में असमर्थ हूँ। मुझे एक किरदार से दूसरे किरदार में घुसने के लिए कुछ समय चाहिए होता है। बस  यही दीपिका और प्रियंका दोनों से सीखना है कि एक ही समय पर बहुत सारी चीज़ कर पाऊँ!!

bajirao-ranveer-deepika-G51

दीपिका पादुकोण –  रणवीर एक बहुत अच्छे गायक भी हैं पर जब कभी सेट्स पर होते हैं तो हमेशा मुझे कहते पहले आप, पहले आप। दरअसल में उसे खुद गाना होता है। वह अपनी मंशा मुझ पर डालकर यह सुनना चाहता है कि मैं उसे कहूँ गाने के लिए। इस प्रोमोशन्स के दौरान भी रणवीर ने अपने फैंस को गाना गा कर काफी लुभान्वित किया है। रणवीर बहुत ही सीरियस एक्टर भी हैं। वह अलग अलग किरदार के लिए एक अलग चादर ओढ़ लिया करते हैं। हाँ, फिल्म “दिल धड़कने दो” के लिए जबकि उन्होंने एक लाइट मूड ओढ़ रखा था तो बाजीराव के लिए एक बहुत ही कंभीर चादर ओढ़ रखी थी। वह अपने किरदार में बखूबी रहने के लिए गंभीर रहा करते सेट्स पर। रणवीर जहां एक अच्छा अभिनेता है वही वह एक बहुत ही अच्छा गायक और काफी सारे म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स भी बजा लेते हैं। वह एक अच्छे रैपर भी हैं। म्यूजिक का उन्हें बहुत अच्छा ज्ञान है। शब्दों की लडी भी बहुत बेहतरीन पिरो लेते हैं और तो और रणवीर मिमिकरी भी अच्छी करते हैं। यह कहना ज्यादा नहीं होगा कि रणवीर एक टैलेंटेड बंदा है और उस में ढेर सारी ऊर्जा भी है जैसी वह अच्छी तरह समय समय पर इस्तेमाल भी कर लेते है। पर्सनली भी कई मर्तबा जब एक साथ होते हैं तो मैं उनकी ऊर्जा मैच नहीं कर पाती हूँ। पर इस से मुझे कोई एतराज नहीं है। वह उनकी गुणवत्ता है। हर कोई व्यक्ति में अपने गुण होते है। रणवीर के लिए हमेशा, “लेडीज फर्स्ट होती है !! वह औरतों की इज्जत करते हैं।

India Bollywood

रणवीर सिंह – हमारी दोस्ती फिल्म ‘राम –लीला’  में काम करते समय हुई थी। हम दोनों अविश्वसनीय फ्रैंड्स है। मुझे ख़ुशी है परदे पर हमारी काम करने की शैली लोगो को पसंद आई और मेरी केमेस्ट्री एक ऐसी हीरोइन के साथ पर्दे पर अच्छी लगती है जिसने,’ पीकू’ और,’ तमाशा’ जैसी फिल्में की है।

दीपिका पादुकोण – मुझे दो चीज़ सीखना है प्यानो बजाना और कोई म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट भी सीखने को मिले तो यह मेरा सौभाग्य  होगा।

रणवीर सिंह – मुझे एक एंटरटेनर बने रहना ही पसंद है। हॉलीवुड एक्टर वुडी एलन, क्लिंट ईस्टवूड, चार्ली  चैपलिन, राज कपूर एवं गुरु दत्त की तरह। यही सारे हीरोज मेरे पसंदीदा हीरोज है। इन सब को म्यूजिक  एक्टिंग और लेखन का भी उम्दा ज्ञान है मुझे भी इन की तरह ही बनना है। इस मोड़ पर तो शायद मैं  ना कर पाऊँ किन्तु आगे चल कर जरूर करने की इच्छा रखता हूँ। मुझे तबला बजाने का अच्छा खासा  ज्ञान है चूँकि मैंने बचपन में तबला बजाना सीखा है और कई सारे म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स सीखे हैं। मुझे गाना भी पसंद है किन्तु फ़िलहाल मैं बहुत ही बेढंगा गायक हूँ गायन की प्रैक्टिस शुरू करनी है।

हाल ही में शाहरुख़ खान ने कहा है कि ‘ बाजीराव मस्तानी’ और ‘आला’ ऐतिहासिक फिल्म है- लेकिन दीपिका शाहरुख़ से सहमत नहीं है –

ranveer-singh-deepika-jaipur_0_0_0 (1)

दीपिका पादुकोण – मैं बाजीराव मस्तानी को, ‘आला’ फिल्मों की श्रेणी में नहीं मानती हूँ। यह संजय लीला भंसाली की ताकत ही तो है कि वह, “हम दिल दे चुके सनम ‘देवदास’, राम लीला या फिर, ‘ब्लैक’ जैसी फ़िल्में बखूबी बनाते है। यह उनका कहानी सुनाने का एक अलग ही अंदाज़ है जो विश्व स्तर पर है और ग्लोबली उनकी फिल्में खूब पंसद की जाती है। शाहरुख़ का इस क्या स्टेटमेंट से क्या तात्पर्य है यह मुझे नहीं मालूम। मैंने रोहित शेट्टी और संजय लीला दोनों ही निर्देशकों के साथ काम किया है। वह दोनों अलग किस्म के निर्देशक है। दोनों की फिल्मों की तुलना नहीं की जा सकती है। ”

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये