INTERVIEW!! ‘सजंय मिश्रा का अभिनय देखते बनता है’’ – रिचा चड्डा

1 min


अनुराग कश्यप की फिल्म गैग्सं आॅफ वासेपुर से लाइम लाइट में आई रिचा चड्डा की कुछ उल्लेखनीय फिल्में हैं ओये लकी लकी ओये, बिन्नी और बबलू, फेकरे, तमंचे तथा राम लीला । नीरज घेवण की फिल्म ‘मसान’ उनके करियर को और मजबूत करने का काम करने जा रही है । इस फिल्म को लेकर उलसे एक मुलाकात।

फिल्म की खूबियों के बारे में क्या कहना चाहती हैं?

फिल्म का टाइटल मसान मृत्यु का सार बताता हैं लेकिन बेसिकली इस फिल्म को जिन्दगी के नजरिये से देखा जा सकता है । इसकी खूबियों की बात की जाये तो आप इसे सिनमा घर में जा कर देखेगें तो आपको ज्यादा अच्छा लगेगा । वैसे अभी तक जिन लोगों ने भी फिल्म देखी है सभी ने खुलकर तारीफ की है । यहां तक फ्रांस में भी कितने ही लोगों ने पर्सनल आकर फिल्म के लिये बधाई दी ।

क्या इस फिल्म को बदलाव की दृष्टी से देखती हैं ?

बिलकुल जो बदलाव हो रहे हैं उनमें से एक यह बदलाव भी हैं कि अब हमारा सिनेमा भी छोटे शहरों की बात भी कर रहा हैं और वो सब लोगों को पसंद भी आ रहा है ।

कान में फिल्म को कौन सी कॅटिगिरी में अवार्ड मिले है ?

पहला क्रिटिक्स अवार्ड । इसके अलावा फिल्म के डायरेक्टर नीरज घेवाण को बेस्ट न्यू कमर डायरेक्टर को अवार्ड मिला है ।

5c0efd4f-fe39-4e75-8e95-b11a827ea79e-2060x1374

सुना है अवार्ड के मामले में फिल्म एक रिकार्ड बनाने में सफल रही है ?

जी हां । दरअसल इससे पहले कान में अवार्ड पाथेर पांचाली ने जीता था लेकिन वह फिल्म बंगाली थी । हिन्दी में किसी फिल्म ने यह अवार्ड पहली बार जीते हैं । हम सब फिल्म की कामयाबी को लेकर बहुत खुश है ।

यह फिल्म आपने बहुत पहले साइन की थी ?

सबसे पहले दो हजार तरह में मुझ्रे नीरज ने कहानी सुनाई थी। कुछ दिन बाद वे मिले तो कहा कि मैं फिल्म के लिये फंडिंग कर रहा हूं दो हजार चोदह के पता नहीं कौन से महीने में नीरज मेरे पास डेट्स मांगने आ गये और कहा कि बहुत बडे़ प्रोडयूसर मिल गये हैं जो इन्टरनेशनल स्तर के हैं। फ्रांस के आटे और पार्थे की वहां पीवीआर जैसे मल्टी प्लक्स सिनेमाज की चेन है और वे फिल्में भी बनाते हैं । इसके अलावा फेंटम प्रोडक्शन तो पहले से मेरे साथ है, बाद में कुछ कंपनियां और फिल्म से जुड़ गई । इसलिये फिल्म अपने आखरी वक्त में काफी बड़ी हो गई । फिर भी आपने अपनी फीस नहीं ली ? मैने ही नहीं बल्कि फिल्म से जुडे़ किसी भी आर्टिस्ट ने सिर्फ नाम मात्र के लिये ही पैसे नहीं लिये। दरअसल हम सभी नीरज की हेल्प करना चाहते थे ।

richa-chadda-masaan

फिल्म को कैसे आंकती है ?

मैं एक ब्राह्मण की लड़की बनी हूं मेरे पिता सजंय मिश्रा घाट पर सामान बेचते हैं । मैं एक सेक्सुअल एन्काउंटर का शिकार हो जाती हूं । हीरो विकी कौशल यह उनकी पहली फिल्म है मुझे यकीन नहीं हो पा रहा है कि अपनी फिल्म में ही उन्होंने इतनी प्रभावशाली अदाकारी दिखाई है । एक और नई लड़की श्वेता त्रिपाटी की भी ये पहली फिल्म हैं । मेरे पिता की भूमिका में सजंय मिश्रा का अभिनय देखते बनता है ।

आपकी आगामी फिल्में ?

मेरी आने वाली फिल्में हैं मैं और चार्ल्स, और देवदास तथा कैबरे ।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये