INTERVIEW!! ‘‘मैं फिल्मों का चुनाव ढंग से नहीं कर पाया’’ – रितेश देशमुख-

1 min


ढेर सारी फिल्में करने के बाद भी रितेश देशमुख अब तक बाॅलीवुड में पूरी फिल्म अपने कंधों पर ढोने लायक विश्वास पैदा नहीं कर पाये हैं। शायद इसीलिये उन्होंने रूटिन से हटकर काम करना शुरू करने की कोशिश की और उसका नतीजा है फिल्म ‘ एक विलन’ में उनकी नकारात्मक भूमिका, जिसे करने के बाद उन्हें काफी वाह वाही हासिल हुई । इसी खेप में उनकी अगली फिल्म का नाम हैं  ‘बंगिस्तान’।  फिल्म आतंकवाद को एक हल्के फुल्के हास्य अंदाज में दिखाती है । इस फिल्म में रितेश किस तरह की भूमिका निभा रहे हैं । बता रहे हैं इस मुलाकात में ।

फिल्म आतंकवाद और हास्य का मिश्रण है लेकिन ऐसी फिल्में तो पहले भी आ चुकी हैं ?

आज तक हजारों लव स्टोरीज आ चुकी हैं, फिर चलती हैं । मेरे कहने का मतलब हैं कि बेशक विषय एक जैसा हो लेकिन उसे बनाने और प्रेजेन्ट करने का तरीका अलग होता है। इस फिल्म में भी आपको कुछ नया जरूर दिखाई देगा ।

फिल्म कंहा अलग हैं कहानी के तौर पर या इसका कन्टेन्ट अलग है ?

मेरे ख्याल से दोनों वजह से यह एक अनोखी फिल्म है । दरअसल यह ऐसे दो बाॅमर्स के बारे में हैं जो अलग अलग धर्म के होने बावजूद एक ही मिशन पर जाते हैं । उस दौरान यह दोनों मिलते हैं और एक दूसरे के धर्म के बारे में जानने की कोशिश करते हैं तो इन्हें पता चलता है कि दोनो का धर्म  आपसी भाईचारे और प्यार की बातें कहता है । दरअसल यह एक एन्टी टेरेरिज्म फिल्म है ।

as1

फिल्म में आपके कई लुक हैं ?

दरअसल यह एक ऐसा मुस्लिम है जिसे अपने मजहब पर गर्व है । उसे नाराजी है उन तमाम लोगों से जो किसी की भी जाति के आधार पर उन्हें बांटने का काम करते हैं । जैसे अमेरिका में उनके सरनेम के आधार पर उनसे गलत व्यावहार किया जाता है । इन सारी बातों को लेकर वह इतना खफा हैं कि एक आंतकवादी दल ‘अलकाय तमाम’ में शामिल हो जाता हैं वहां उसका आसानी से ब्रेनवाश कर उसे एक मिशन पर रवाना कर दिया जाता है । मिशन के तहत उसे कई लुक दिये गये हैं ।

फिल्म में पहली दफा पुलकित सम्राट आप ही के साथ हैं ?

पुलकित बेसिकली फिल्म में हिन्दू है । वह भी ऐसे ही एक कट्टरवादी  ‘मां का दल’ के बीच फंस जाता है । उसका भी वंहा ब्रेनवाश करते समझाया जाता हैं कि अगर तुम सुसाइट बंमर बनते हो तो ईश्वर तुमसे बहुत खुश होगा और तुम्हें डायरेक्ट स्वर्ग भेज दिया जायेगा । इसके लिये उसे ऐसा लुक दे दिया जाता हैं जिससे वो मुस्लिम आतंकवादी लगे । बाद में जब यह दोनों मिलते हैं तो आगे क्या होता है । यह सब आपको फिल्म देखने के बाद पता चलेगा ।

bangistan lead548081

आप अभी तक ढेर सारी फिल्में कर चुके है लेकिन कहां कमी रह जाती हैं कि आप क्लिक नहीं हो पाते ?

सच पूछे तो मैं आज तक यह बात नहीं समझ पाया । जंहा तक मेरे फिल्म चुनने की बात की जाये तो मैं भी पहले कथा पटकथा और फिर अपना रोल देखता हूं । आगे अपना काम भी मेहनत से करता हूं । हो सकता है कि मैं फिल्मों का चुनाव ढंग से नहीं कर पाया । वैसे पिछली फिल्म ‘ एक विलन’ के लिये मुझे काफी सराहना हासिल हुई । ऐसा ही कुछ इस फिल्म की भूमिका में भी है ।

फिल्म में आप दोनो की कमेस्ट्री कैसी रही ?

मेरी बात की जाये तो मैं भी कोई शाहरूख खान या सलमान खान नहीं हूं । अपने आपको मैं आज भी न्यूकमर ही मानता हूं । पुलकित की भी फिल्में आ चुकी हैं लेकिन  सीनियर होने के नाते उसने मुझे काफी इज्जत दी । बहुत ही हंसमुख लड़का है लेकिन  देर से खुलता है, जल्दी किसी से घुलमिल नहीं पाता । हमने बाहर शूटिंग के दौरान खूब मस्तीयां की । एक्शन के दौरान हमें चोटें भी आई लेकिन हमने उन्हें सीरियली नहीं लिया ।

riteish-deshmukh-in-bangistan-movie-3

फिल्म को लेकर क्या सोचते हैं ?

यही कि जिस तरह आज बाहुबली और बजरंगी भाईजान हर किसी को पंसद आ रही हैं । आई विश,  यह फिल्म भी दर्शकों की उम्मींदों पर खरी साबित हो ।

आने वाली फिल्में ?

इस वर्ष आने वाली फिल्म की डेट नहीं बता सकता लेकिन  धमाल 2 अगले साल रिलीज होगी ।

 

 

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये