INTERVIEW!! काशीबाई के ‘दिल’ पर क्या गुजरा होगा – प्रियंका चोपड़ा

1 min


हाल ही में फिल्म “बाजीराव मस्तानी” के प्रोमोशन्स के लिए प्रियंका चोपड़ा इंटरनेशनल टेलीविज़न शो क्वांटिको से छोटा सा ब्रेक लेकर मुंबई पहुंची। मीडिया से बातचीत के दौरान प्रियंका ने ढ़ेर सारे सवालोँ के जवाब भी दिए।
पेश है लिपिका वर्मा के साथ एक भेंटवार्ता

आप भारतवर्ष की शान हैं। विदेश में लोगों से क्या प्रशंसा मिली आपको भारतीय होने हेतु?

जो कुछ भी राय हमारे बारे में बाहर के देशवासी रखते हैं या फिर मुझ से कहते हैं काश मैं चुप रह सकती ! जब उन्हें यह पता चलता है कि मैं भरतीय मूल की हूँ तो वो सब अचम्बित हो जाते हैं। बस यही एक ताज्जुब की बात लगती है मुझे। मेरे हिसाब से यही हम सब के लिए एक बहुत बड़ी प्रशंसा है। दरअसल में हम लोग यहाँ पर “कंप्यूटर गीक, डॉक्टर या फिर इंजीनियर का किरदार निभाते हैं और जो किरदार मैं निभा रही हूँ उस किरदार में मुझे देख उन्हें ताज्जुब होता है। एलेक्स के किरदार को भी मैंने अव्वल दर्जे का ही बनाये रखा। यह तो हमारी फितरत में है और खून में भी। हम लोग हमेशा क्लास में अव्वल ही आना पसंद करते हैं और जिस तरह मैं अंग्रेजी बोलती हूँ उसे सुन कर भी उन्हें ताज्जुब हुआ। हमें दरअसल में लोगों को शिक्षित करना होता है। वहां के लोग यही समझते हैं कि हम लोग स्नेक चारमर हैं। हमारी फिल्में नागिन पर आधारित होती है और हमारी फिल्मों में कई जानवर भी होते हैं। सो मैं उनसे यही कहती हूँ, ठीक है लेकिन यह सब हमारी फिल्मों में ड्रामा और रोमांच लाने के लिए दिखाया जाता है। दरअसल विदेशियों को हमारे बारे में शिक्षित करना अनिवार्य है। आज की तारिख में हिंदी सिनेमा ग्लोबली अपनी पहचान बना चुकी है। मैं बॉलीवुड इंडस्ट्री से अपना शिक्षण पास करके गयी हूँ अत: हर सवाल का सटीक जवाब दे सकती हूँ।

Priyanka de

सबसे महत्वपूर्ण सवाल इंटरनेशनल मीडिया आप से कौन सा पूछ्ती है ?

यही कि हमारे देश में सबसे ज्यादा “रेप” होते हैं। मैं उन्हें यह स्पष्ट करती हूँ कि रेप दुनिया भर में हो रहे है तो यह सवाल महत्वपूर्ण नहीं है कि कहाँ पर कम और किस देश में ज्यादा “रेप” हो रहे हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि हम इसका निवारण किस तरह से करें ? इस पर विचार विमर्श होना चाहिए और सही उपाय ढूँढना चाहिए ताकि यह सोचते रहें इस देश में ज्यादा रेप और उस देश में कम रेप हो रहे हैं यह नकारात्मक प्रश्न है ?

संजय लीला भंसाली (निर्माता/निर्देशक) के साथ काम करना कैसा अनुभव रहा?

मैंने उनके बैनर तले बन रही “मैरी कॉम” फिल्म भी की थी। हालांकि वह इस फिल्म के केवल निर्माता ही थे। किन्तु वह इस फिल्म में भी पूर्णत: शामिल रहे लगभग प्रतिदिन मैं उनके ऑफिस में जाया करती। जब मैं मनाली में “मैरी कॉम” फिल्म की शूटिंग कर रही थी तब संजय और प्रकाश जी मुझे, “बाजीराव मस्तानी” की स्क्रिप्ट सुनाने आये थे। मैंने इस रोल को करने के लिए तुरंत हामी भर दी थी। मैं यह सोचा करती कि क्या काशीबाई का भी कोई ऑप्शन होगा ? पर ऐसा नहीं हुआ। संजय लीला भंसाली के चरित्र चित्रण को यदि आप सही ढंग से कर पाते हैं तो वह फिल्म आपकी विरासत का अंग बन जाती है और यदि सही ढंग से अपना किरदार नहीं निभा पाये तो वह आपके लिए बुरी बात है।

Sanjay Leela Bhansali Priyanka Chopra

आप तीसरी बारी मराठी किरदार में नजर आने वाली हैं, इस बारे में कुछ बताएं ?

यह मराठी किरदार काशीबाई का बहुत ही अलग है। “बाजीराव मस्तानी” की लव स्टोरी के बारे में हर कोई जानता है। किन्तु काशीबाई के दिल पर क्या गुजरा होगा इस फिल्म से सब जान जायेंगे मेरे लिए यह किरदार एकदम अलग है क्यूंकि मैंने अक्सर हाथ में तलवार उठाई है किन्तु इस किरदार में दिल पर चोट खाती हूँ और किस तरह से इसे निभाती हूँ यह देखने लायक है। मैं एक स्ट्रांग मॉडर्न लड़की हूँ सो यह किरदार करना ही मेरे लिए एक बहुत बड़ा चैलेंज रहा है और यदि मेरे फैंस मुझे इस किरदार में पसंद करते है तो मेरे लिए यह चैलेंज सकारात्मक होगा।
यह किरदार बहुत ही अच्छा और अलग है मेरे पिछले किरदारों से।

Priyanka chopra 8

आप का लॉस एंजेलेस के किसी व्यक्ति के साथ लिंक अप चल रहा है मीडिया रिपोर्ट्स के तहत। क्या कहना चाहेंगी आप ?

बस में इसी सवाल का जवाब देना चाहती हूँ, लिंक अप की कहानी के बिना आप सब कैसे एंटरटेन हो सकते हैं ? दरअसल मैं ऐसे व्यक्ति के साथ कभी भी रिश्ता नहीं बना सकती जो “शाय” (शर्मीला) हो जैसा की मीडिया में लिखा गया है और तो और मेरे पिताजी एक शो मैन रहे अपनी पूरी ज़िन्दगी। सो यदि मुझे किसी के साथ ज़िन्दगीभर रहना हो तो वह भी एक शोमैन ही होगा!!


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये